प्रेस रिव्यू: कोहली को लेकर भिड़े वेंगसरकर और श्रीनिवासन

  • 10 मार्च 2018
विराट कोहली इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली का चयन करने पर ख़ुद को पद से हटा दिए जाने के दिलीप वेंगसरकर के बयान को पूर्व बीसीसीआई प्रमुख एन श्रीनिवासन ने ख़ारिज कर दिया है.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी ख़बर के अनुसार, श्रीनिवासन ने कहा है कि यह बयान पूरी तरह ग़लत, प्रेरित और बिना किसी आधार का है.

उन्होंने आगे कहा, "वह किसकी ओर से बोल रहे हैं. उनका क्या मकसद है. यह जो भी है लेकिन यह तथ्य नहीं है. जब कोई क्रिकेटर इस तरह से बात करता है तो यह अच्छा नहीं है. उनका कहना कि मैंने उनके क़रार में दख़ल दिया यह पूरी तरह सच नहीं है."

श्रीनिवासन ने कहा कि एक क्रिकेटर के तौर पर वह वेंगसरकर का सम्मान करते हैं और उनको राष्ट्रीय हीरो की तरह सम्मान दिया गया था.

दरअसल, यह विवाद तब शुरू हुआ था जब पूर्व मुख्य चयनकर्ता दिलीप वेंगसरकर ने गुरुवार को दावा किया था कि 2008 में तमिलनाडु के बल्लेबाज़ एस. बद्रीनाथ की जगह विराट कोहली का समर्थन करना उन्हें भारी पड़ा और इस कारण उनका कार्यकाल समाप्त कर दिया गया.

अक्टूबर, 2006 में मुख्य चयनकर्ता पद पर किरण मोरे की जगह लेने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ़ दो साल बाद सितंबर, 2008 में पद से हटा दिया गया, और उनके स्थान पर कृष्णामाचारी श्रीकांत को मुख्य चयनकर्ता बना दिया गया था.

मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक वेंगसरकर ने दावा किया, "मैं जानता था, वे (श्रीनिवासन) एस बद्रीनाथ को टीम में बनाए रखने के लिए उत्सुक थे, क्योंकि वह चेन्नई सुपरकिंग्स का खिलाड़ी था... अगर कोहली को टीम में शामिल किया जाता, तो बद्रीनाथ को बाहर रखना पड़ता... उस वक्त एन श्रीनिवासन बोर्ड के कोषाध्यक्ष थे... वह इस बात से नाराज़ हुए कि बद्रीनाथ को टीम से हटा दिया गया, क्योंकि वह उनका (राज्य की टीम तथा आईपीएल टीम) खिलाड़ी था...""

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वाराणसी जेल में 34 एचआईवी के मामले

गोरखपुर की ज़िला जेल में 23 कैदियों के एचआईवी पॉज़िटिव पाए जाने के बाद वाराणसी की जेलों में 34 कैदी एचआईवी पॉज़िटिव पाए गए हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, जेल अधिकारियों का कहना है कि ज़िला और केंद्रीय जेल में जब टेस्ट किया गया तो 34 कैदियों में एचआईवी पॉज़िटिव पाया गया.

जेल प्रशासन के अनुसार, ज़िला जेल में 1,836 कैदी हैं तो वहीं केंद्रीय जेल में 1,650 कैदी हैं. जिनमें एचआईवी संक्रमण पाया गया है उनका इलाज शुरू हो गया है.

विश्व में आम जनसंख्या के मुकाबले कैदियों में एचआईवी का संक्रमण फैलने की सबसे अधिक आशंका होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उद्घाटन के लिए आया बांध में पानी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल जब 17 सितंबर को गुजरात के नर्मदा ज़िले में सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन किया था उस समय उसके जलाशय का स्तर 129.58 मीटर था जो उसके अब तक के उच्चतम स्तर से सिर्फ़ एक मीटर कम था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक़, आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि यह उच्चतम स्तर बीजेपी शासित मध्य प्रदेश के द्वारा उद्घाटन से पांच दिन पहले अधिकतम पानी छोड़ने के कारण पूरा हो सका.

प्रधानमंत्री ने गुजरात चुनाव से पांच हफ़्ते पहले इस बांध का उद्घाटन किया था और इसके बाद पानी आना कम हो गया. वहीं, केंद्रीय जल आयोग ने इसको केवल एक संयोग बताया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जया-अमिताभ के पास 10 अरब की संपत्ति

राज्यसभा के लिए शुक्रवार को नामांकन करने वालीं जया बच्चन और उनके पति अमिताभ बच्चन के पास 10.01 अरब रुपये की संपत्ति है.

दैनिक जागरण के अनुसार, संपत्ति के अलावा नामांकन पत्र के साथ दिए गए शपथ पत्र में जया बच्चन के नाम पर बैंक और विभिन्न वित्तीय संस्थाओं में 87 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज़ भी दिखाया गया है.

जया के मुकाबले अमिताभ बच्चन के पास अधिक चल संपत्ति बताई गई है. उनके पास चार अरब 71 करोड़ तो वहीं जया के पास 67 करोड़ 79 लाख रुपये की चल संपत्ति है. इसके अलावा अमिताभ के नाम तीन अरब 20 करोड़ की अचल संपत्ति है और जया के नाम एक अरब 27 करोड़ रुपये की संपत्ति है.

साथ ही विदेशी बैंकों में जमा धन का ब्यौरा भी जया बच्चन ने नामांकन में दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए