प्रेस रिव्यू: उत्तर प्रदेश के झांसी में मरीज़ के कटे पैर का बना दिया 'तकिया'!

  • 11 मार्च 2018
टांग इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तर प्रदेश के झांसी मेडिकल कॉलेज में सड़क दुर्घटना के बाद लाए गए एक युवक की टांग काटनी पड़ी. ऑपरेशन के बाद मरीज़ का कटा पैर उसके सिरहाने पर तकिये के रूप में रखा देखने पर वहाँ मौजूद लोगों ने हंगामा मचा दिया.

दैनिक हिंदुस्तान के अनुसार, शनिवार को इटायल से मऊरानीपुर जा रही स्कूली बस पलट गई. दुर्घटना के बाद दो घायल छात्रों और बस के क्लीनर को सीएचसी में भर्ती कराया गया. इसके बाद घनश्याम की हालत बिगड़ती देख उन्हें महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज झांसी भेज दिया गया.

डॉक्टर ने बुरी तरह जख्मी पैर को ऑपरेशन कर काट दिया और कथित तौर पर उसी पैर को तकिया बनाकर सिर के नीचे रख दिया. इस लापरवाही की घटना का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. घटना के बारे में जब कुछ लोगों ने मेडिकल कॉलेज के सीएमएस को जानकारी दी तो उन्होंने मरीज़ के सिर के नीचे से कटा हुआ पैर हटवाकर तकिया लगवाया.

इस घटना के सामने आने के बाद प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने कड़ी कार्रवाई करते हुए दो वरिष्ठ डॉक्टरों और दो नर्सों को निलंबित कर दिया है.

साथ ही इस मामले के लिए एक जांच समिति का गठन किया गया है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

'आरजेडी बनाएगी मंदिर'

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने कहा है कि उनकी पार्टी अयोध्या में मंदिर बनाएगी.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, शुक्रवार को बिहार शरीफ़ के एक कुश्ती कार्यक्रम में उन्होंने यह बयान दिया था. जब उनके बयान पर विवाद बढ़ा तो उन्होंने ट्वीट कर कहा कि वह एक 'धर्मनिरपेक्ष मंदिर' के बारे में बोल रहे थे.

उन्होंने ट्वीट किया, "बिहारशरीफ़ में दंगल कार्यक्रम में मैंने कहा था कि बीजेपी हमेशा राम मंदिर बनाने की बात करती है लेकिन कभी भी तारीख़ नहीं बताती है. हम मंदिर बनाएंगे जहां हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई सभी धर्मों के लोग साथ प्रार्थना कर सकेंगे. यह मानवता का मंदिर होगा और उसके बाद मंदिर मुद्दे से बीजेपी बाहर हो जाएगी."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राज्यसभा के लिए विपक्ष में एकता

राज्यसभा की 59 सीटों पर 23 मार्च को होने वाले चुनाव के लिए कई विपक्षी दलों ने एकसाथ आने का फ़ैसला लिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, बीजेपी के ख़िलाफ़ एकसाथ लड़ने के लिए यह पार्टियां साथ आ रही हैं और विश्लेषकों का अनुमान है कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले इस तरह की पहल आगे भी जारी रह सकती है.

दरअसल, 17 राज्यों की सीटों के लिए होने वाले इन चुनावों में पश्चिम बंगाल की एक सीट पर तृणमूल कांग्रेस पहले ही कांग्रेस के उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी का समर्थन कर चुकी है. वहीं, उत्तर प्रदेश में बसपा के उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर को कांग्रेस और सपा ने समर्थन दिया है.

बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन की 59 में से 24 सीटें बरक़रार रहेंगी और इसके अतिरिक्त वह 10 सीटें और जीतेगा. इसके बाद 245 सदस्य वाले उच्च सदन में उसकी क्षमता 86 हो जाएगी.

इमेज कॉपीरइट TWITTER.COM/TATHAGATA2

राज्यपाल पर कार्रवाई की मांग

पश्चिम बंगाल के कुछ प्रमुख बुद्धिजीवियों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की है.

द हिंदू में छपी ख़बर के अनुसार, बुद्धिजीवियों का आरोप है कि तथागत अपनी सोशल मीडिया की पोस्टों के ज़रिए हिंसा को बढ़ावा देते हैं.

त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति ढहाह जाने के समर्थन में रॉय ने ट्वीट किया था. इसी का हवाला देते हुए बुद्धिजीवियों ने पत्र में लिखा है कि संवैधानिक पद पर रहते हुए क्या कोई शख़्स ऐसी बात कह सकता है.

इन बुद्धिजीवियों में साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता श्रीशेंदू मुखोपाध्याय, लेखिका नबनीता देव सेन जैसे लोग शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए