प्रेस रिव्यू: पाकिस्तान ने दी भारत से राजनयिकों को वापस बुलाने की धमकी

  • 12 मार्च 2018
भारत-पाकिस्तान सीमा इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में एक बार फिर खटास पैदा होती नज़र आ रही है. पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि भारत उसके नई दिल्ली स्थित राजनयिकों और उनके परिवार को प्रताड़ित कर रहा है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पाकिस्तान ने धमकी दी है कि अगर यह बंद नहीं हुआ तो वह अपने राजनयिकों को वापस बुला लेगा.

पाकिस्तान के ये आरोप भारतीय विदेश मंत्रालय की उस शिकायत के बाद आए हैं जिसमें उसने आरोप लगाया था कि पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायुक्त की इस्लामाबाद क्लब की सदस्यता में रोड़ा अटका दिया है.

साथ ही भारत ने आरोप लगाया था कि पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायोग को आवासीय परिसर के इस्तेमाल की अनुमति को भी रोक दिया है.

राजनयिक स्रोतों ने अख़बार से कहा कि पाकिस्तान उच्चायोग ने विदेश मंत्रालय को गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार को चार नोट लिखकर राजनयिकों, उनके परिजनों और उच्चायोग के भारतीय कर्मचारियों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था.

प्रताड़ित करने की घटना में उप-उच्चायुक्त के बच्चों की गाड़ी का पीछा करने का भी ज़िक्र किया गया है. वहीं, भारतीय पक्ष के सूत्र ने बताया है कि इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायुक्त की कार को पाकिस्तानी एजेंसियों ने रोक लिया था ताकि वह एक कार्यक्रम में शामिल न हो पाएं.

पाकिस्तान का आरोप है कि यह सब पिछले तीन-चार दिनों से शुरू हुआ. शिकायत के मुताबिक, पाकिस्तानी उप उच्चायुक्त के बच्चों को स्कूल जाते वक्त बीच रास्ते में परेशान किया जाता है और एक वरिष्ठ राजनयिक से भी बदसलूकी की गई. आरोपों के मुताबिक, राजनयिकों की गाड़ियों को बेवजह रोका जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

कान्हा नेशनल पार्क माओवादियों की नई शरण?

सुरक्षाबलों के अनुसार, मध्य प्रदेश का टाइगर रिज़र्व कान्हा नेशनल पार्क का बाहरी हिस्सा माओवादियों की नई शरणस्थली बन चुका है.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, पुलिस का कहना है कि सीपीएम (माओवादी) के सदस्य विस्तार दालम ने 12 फ़रवरी को कान्हा में अपनी उपस्थिति दिखाते हुए जंगल की दो चौकियों को निशाना बनाया था.

माओवादियों ने जंगल के गार्डों की पिटाई की, उनसे उनके मोबाइल और वायरलेस छीनने के बाद मेप और दूसरे दस्तावेज़ों को जला दिया. ऐसा पहली बार हुआ है कि कान्हा के कर्मचारियों पर हमला हुआ हो. दोनों चौकियां आदिवासी बहुल इलाके के मांडला ज़िले में थीं.

विस्तार दालम की उपस्थिति मध्य प्रदेश के बालाघाट में रह चुकी है. माओवाद से प्रभावित यह मध्य प्रदेश का इकलौता ज़िला बताया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'पिता के हत्यारों को माफ़ कर चुका हूं'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि उन्होंने और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने पिता राजीव गांधी के हत्यारों को माफ़ कर दिया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी ख़बर के अनुसार, सिंगापुर में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "हमने अपने पिता के हत्यारों को माफ़ कर दिया है. वजह जो भी रही हो, मैं किसी प्रकार की हिंसा को नहीं मानता हूं."

उन्होंने कहा कि वह इस घटना से काफ़ी सालों तक दुखी थे और थोड़ा गुस्से में रहते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

1765 सांसदों-विधायकों पर 3045 मामले

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफ़नामा दायर कर बताया है कि देशभर के 1765 सांसदों और विधायकों के ख़िलाफ़ 3045 आपराधिक मुकदमे लंबित हैं.

दैनिक जागरण में छपी ख़बर के अनुसार, सांसदों और विधायकों पर आपराधिक मुकदमे के मामले में उत्तर प्रदेश पहले नंबर पर है जहां 248 सांसदों-विधायकों पर कुल 539 मामले लंबित हैं. दूसरा स्थान तमिलनाडु का है और तीसरे स्थान पर बिहार है.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा था कि वह 2014 में नामांकन भरते समय आपराधिक मुकदमा लंबित होने की घोषणा करने वाले 1581 सांसदों और विधायकों के मुकदमों की स्थिति बताए.

इसके बाद केंद्र सरकार ने देशभर के हाईकोर्ट से आंकड़े इकट्ठे कर सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पेश किए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए