सबसे अमीर सांसद के रूप में होगी जया बच्चन की एंट्री?

  • 13 मार्च 2018
जया बच्चन इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद जया बच्चन अगर फिर से राज्यसभा पहुंचती हैं तो वे संसद में एंट्री के समय सबसे अमीर सांसद होंगी.

अब तक ये रिकॉर्ड भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा के नाम है.

जया बच्चन फिलहाल उत्तर प्रदेश से समाजवादी पार्टी की राज्यसभा सांसद हैं.

आने वाले राज्यसभा चुनावों के लिए उन्होंने जो हलफ़नामा दिया है, उसमें उन्होंने अपनी चल-अचल संपत्ति एक हज़ार करोड़ रुपए बताई है.

लेकिन ये सिर्फ़ उनकी अकेले की संपत्ति नहीं है. नियमों के मुताबिक हलफ़नामे में पति या पत्नी की संपत्ति का ब्यौरा भी देना होता है.

वर्ष 2014 में राज्यसभा सदस्य बनते समय सिन्हा ने जो हलफ़नामा दायर किया था उसमें उन्होंने 857 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की थी.

सिन्हा और जया बच्चन की तुलना अगर राज्यसभा में दाख़िल होने के वक़्त की जाए तो वे शायद आगे निकल सकती हैं लेकिन इंटरनेशनल मैगज़ीन फ़ोर्ब्स ने सिन्हा को नए डॉलर अरबपतियों में शामिल किया है.

इसके मुताबिक़ उनकी कुल संपत्ति एक अरब डॉलर यानी 6000 करोड़ रुपये हो गई है. ऐसा उनकी कंपनी एसआइएस के वैल्यूएशन की वजह से हुआ जिसका आइपीओ उनके राज्यसभा में आने के बाद जारी किया गया था.

पोर्शे से लेकर टाटा नैनो तक

हलफ़नामे में दी गई जानकारी के मुताबिक अमिताभ बच्चन और जया बच्चन के पास 460 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति है.

2012 में दिए गए हलफ़नामे में उन दोनों की कुल अचल संपत्ति 152 करोड़ रुपये थी.

फ़िलहाल दोनों की चल संपत्ति 540 करोड़ है, जो 2012 में 343 करोड़ रुपये थी.

उन दोनों के पास 12 वाहन हैं जिनकी कीमत 13 करोड़ है. पोर्शे, रेंज रोवर, मर्सडीज़ के अलावा इनमें एक टाटा नैनो और ट्रैक्टर भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 2012 में राज्यसभा चुनावों के लिए नामांकन दाखिल करती हुई जया बच्चन

नोएडा, अहमदाबाद, गांधीनगर, पुणे और भोपाल में भी उनकी रिहायशी प्रॉपर्टी है.

बच्चन दंपति के पास 9 लाख का एक पेन भी है. परिवार का फ्रांस के ब्रिग्नोगन प्लेज में 3,175 स्कॉयर मीटर का एक प्लॉट भी है.

भगवा हुए नरेश अग्रवाल पर जब बीजेपी हुई थी 'लाल'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए