प्रेस रिव्यूः मोदी सरकार के ख़िलाफ़ लाया जाएगा पहला अविश्वास प्रस्ताव

  • 16 मार्च 2018
मोदी सरकार इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोदी सरकार के ख़िलाफ़ पहला अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकता है. टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित ख़बर के अनुसार वाईएसआर कांग्रेस ने बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के ख़िलाफ गुरुवार को अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया है.

यह कदम आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इनकार करने की पृष्ठभूमि में उठाया गया है. इसके साथ ही अखबार लिखता है कि टीडीपी ने भी वाईएसआर के इस अविश्वास प्रस्ताव पर अपना समर्थन जताया है.

साथ ही टीडीपी ने एक बार फिर एनडीए से अलग होने की बात कही है. उत्तर प्रदेश और बिहार में हुए उपचुनाव में मिली हार के बाद बीजेपी को एक और बड़ा झटका लग सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले दे दी थी सुकमा हमले की सूचना

इंडियन में प्रकाशित ख़बर के अनुसार छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए माओवादी हमले से पहले ख़ुफ़िया विभाग की तरफ से सीआरपीएफ को अग्रिम चेतावनी दी गई थी.

अख़बार लिखता है कि राज्य खुफ़िया विभाग ने इस संबंध में बस्तर इलाके में तैनात सीआरपीएफ़ कैम्प को यह सूचना दी थी कि वे माओवादियों के प्रभाव वाले इलाके में गाड़ियों से ना जाएं क्योंकि वहां माओवादियों की गतिविधियां देखी गई हैं. इस हमले में 9 सीआरपीएफ जवानों की मौत हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट Alok putul/bbc

बोतलबंद पानी है ख़तरनाक

दुनिया भर में बोतलबंद पानी की गुणवत्ता को लेकर बेहद चौंकाने और डराने वाली रिपोर्ट आई है. दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर के अनुसार दुनिया भर में 90 फीसदी बोतलबंद पानी में प्लास्टिक के बारीक कण घुले हुए हैं.

इनमें दुनिया के 9 देशों के 11 बड़े ब्रांड्स शामिल हैं जिनमें भारत की बिसलरी, एक्वाफिना और ईवियन जैसी कंपनियां भी हैं. न्यूयॉर्क की स्टेट यूनिवर्सिटी ने यह रिसर्च की है. इस रिसर्च में दिल्ली, चेन्नई, मुंबई समेत दुनिया के 19 शहरों से नमूने लिए गए.

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh/bbc

इन तमाम बोतल बंद पानी के नमूनों में 10.4 माइक्रोप्लास्टिक पार्टिकल्स मिले हैं, यह इससे पहले हुई नल के पानी में पाए गए प्लास्टिक अवशेषों की तुलना में दोगुना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे