प्रेस रिव्यूः स्टीफन हॉकिंग को हर्षवर्धन ने किस आधार पर ऐसे कोट किया?

इमेज कॉपीरइट @drharshvardhan Twitter

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित ख़बर के अनुसार केंद्रीय विज्ञान एवं तकनीक मंत्री मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा है कि महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने एक बार कहा था कि वेदों की थिअरी आइंस्टीन की दी हुई थिअरी e=mc2 से भी ऊपर है.

केंद्रीय विज्ञान एवं तकनीक मंत्री हर्षवर्धन ने यह बात 105वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस के उद्घाटन समारोह में कही.

अख़बार लिखता है कि हर्षवर्धन ने स्टीफन हॉकिंग का यह कथन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंटिफिक रिसर्च ऑन वेदास की वेबसाइट से लिया था. वहीं इस वेबसाइट में यह कथन स्टीफन हॉकिंग के एक फ़र्ज़ी फ़ेसबुक प्रोफाइल से लिया हुआ बताया जा रहा है.

द हिन्दू ने लिखा है कि हॉकिंग के ऐसा कहने का कोई प्रमाण या दस्तावेज मौजूद नहीं है. द हिन्दू के अनुसार, ''सच तो यह है कि हॉकिंग ने ज्योतिष को ख़ारिज किया था.'' अख़बार ने लिखा है कि नई दिल्ली में 2001 में अल्बर्ट आइंस्टाइन स्मृति व्याख्यान में हॉकिंग ने ज्योतिष को नकार दिया था.

इंडियन में छपी एक ख़बर के अनुसार लोक जनशक्ती पार्टी (एलजेपी) के एक सांसद ने कहा है कि बीजेपी को अपने भीतर झांकना होगा और आत्ममंथन करना होगा कि आख़िर उसके सहयोगी दल नाराज़ क्यों चल रहे हैं.

तेलुगू देशम पार्टी ने शुक्रवार को ख़ुद को एनडीए से अलग कर लिया था. इसके साथ ही उसने लोकसभा में सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाने का नोटिस भी दिया है.

अख़बार लिखता है कि फिलहाल तमाम नाराज़गियों के बावजूद अविश्वास प्रस्ताव के दौरान एनडीए के बाक़ी सहयोगी सरकार के साथ ही रहेंगे. हालांकि फिर भी ये नाराज़गियां उभरकर बाहर आ रही हैं.

अख़बार के अनुसार शिव सेना भी बीजेपी से नाराज़ चल रही है, लेकिन अविश्वास प्रस्ताव पर अभी मुखर होकर कुछ बोल नहीं रही है. शिव सेना नेता संजय राउत ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा है कि इस अविश्वास प्रस्ताव पर न उनकी पार्टी से किसी ने संपर्क किया है और न ही उनकी किसी से बात हुई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रोफ़ेसर पर छात्राओं को प्रताड़ित करने का आरोप

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में एक प्रोफ़ेसर पर महिला छात्राओं को प्रताड़ित करने का मामला दर्ज़ किया गया है.

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित ख़बर के अनुसार यूनिवर्सिटी की सात छात्राओं ने एक प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ उन्हें परेशान करने और प्रताड़ित करने की शिकायत पुलिस में दर्ज़ करवाई.

ख़बर में यह भी बताया गया है कि प्रोफ़ेसर के पास जेएनयू प्रशासन की कई महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारियां हैं और उन्होंने अपने प्रशासनिक पदों से इस्तीफ़ा देने की पेशकश भी की है.

20 साल पुराने व्यावसायिक वाहन नहीं चलेंगे

अप्रैल 2020 के बाद से 20 साल से ज़्यादा पुराने व्यावसायिक वाहन नहीं चलेंगे. दैनिक भास्कर में प्रकाशित ख़बर के अनुसार सरकार की उच्चस्तरीय कमिटी ने शुक्रवार को वाहन स्क्रैप नीति को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी, जिसमें यह प्रावधान है.

अख़बार लिखता है कि यह नीति अब जीएसटी काउंसिल को भेजी जाएगी. काउंसिल से स्क्रैप किए गए वाहन के बदले नया वाहन ख़रीदने पर जीएसटी रेट 28 प्रतिशत की जगह 18 प्रतिशत करने का आग्रह किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दैनिक जागरण की एक ख़बर के अनुसार केजरीवाल की माफ़ी पर पार्टी के भीतर विवाद की स्थिति पैदा हो गई है. अख़बार ने लिखा है, ''मुख्यमंत्री केजरीवाल द्वारा पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के रिश्तेदार बिक्रम सिंह मजीठिया से माफ़ी मांगने के बाद से आप में बखेड़ा खड़ा हो गया है. पार्टी के कई नेता इससे ख़ासे नाराज़ हैं. राज्यसभा सदस्य संजय सिंह का कहना है कि वह केजरीवाल के मसले पर कुछ नहीं कहेंगे, लेकिन मैं अपनी बात पर कायम हूं कि मजीठिया ड्रग्स डीलर हैं और उन्हें जेल जाना चाहिए.''

अख़बार ने लिखा है, ''पार्टी की राज्य इकाई में नाराज़गी है और आप नेताओं को भगवंत मान से बात करनी चाहिए. मजीठिया पर विवादित बयान के चल रहे मुक़दमे में केजरीवाल द्वारा लिखित में माफ़ी मांग लेने से पार्टी की पंजाब इकाई में भूचाल आ गया है और पार्टी दोफाड़ होती दिख रही है. इसका असर दिल्ली तक होता दिख रहा है. दिल्ली के आप नेता में भी नाराज़गी है. शायद ही कोई ऐसा हो जो मुख्यमंत्री के माफ़ीनामे से सहमत हो. संजय सिंह के बयान से अब पार्टी तीन गुटों में बंटी दिख रही है. कुमार विश्वास माफ़ी वाली घटना पर केजरीवाल को इशारे-इशारे में थूक कर चाटने वाला तक कह चुके हैं. वह पहले से ही केजरीवाल की कार्यशैली का विरोध करते रहे हैं. इस बार केजरीवाल अपनी ही पार्टी में चौतरफा घिर गए हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)