'कड़कनाथ' के लिए लड़ रहे हैं छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश

छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश इमेज कॉपीरइट CGDPR

दुनिया भर में मुर्गों की लड़ाई के बारे में आपने ज़रूर देखा-पढ़ा होगा. लेकिन एक ख़ास क़िस्म के मुर्गे को लेकर छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश आमने-सामने आ गये हैं. दोनों ने इस मुर्गे पर अपना दावा पेश किया है. इस मुर्गे का नाम है कड़कनाथ!

असल में इन दोनों ही राज्यों में कड़कनाथ या कालीमासी नामक मुर्गे की एक ख़ास प्रजाति पाई जाती है.

काले रंग के मुर्गे की इस प्रजाति का ख़ून और मांस तक काला ही होता है. देश में पाये जाने वाले दूसरे मुर्गों की तुलना में इसका आकार और वजन तो बड़ा होता ही है, इस मुर्गे में पाये जाने वाले पौष्टिक तत्व भी दूसरे मुर्गों की तुलना में कहीं अधिक होते हैं.

अपने स्वादिष्ट मांस के लिये चर्चित कड़कनाथ में दूसरे मुर्गों की तुलना में प्रोटीन की मात्रा 20 प्रतिशत की तुलना में 25 प्रतिशत तक होती है. इसी तरह कड़कनाथ में वसा की मात्रा अधिकतम 1.03 प्रतिशत तक होती है, जो सामान्य मुर्गे में 13 से 25 प्रतिशत तक होता है. दूसरे मुर्गे की तुलना में कड़कनाथ में कोलेस्ट्राल भी कम होता है.

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में भी कड़कनाथ की प्रजाति मिलती है और मध्यप्रदेश के झाबुआ, धार और बड़वानी में भी. दोनों ही राज्यों में बरसों से कड़कनाथ की प्रजाति को पालने का चलन है.

मुर्गे वाले इस विज्ञापन पर फंसी मलेशिया की सरकार

कार्टून्स: नेताओं और मुर्गों का टेंशन

इमेज कॉपीरइट CGDPR

कड़कनाथ की भारी मांग

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में तो पिछले कुछ सालों में बड़ी संख्या में कड़कनाथ को सरकार ने भी प्रोत्साहित किया है क्योंकि राज्य और राज्य से बाहर कड़कनाथ की भारी मांग है. आम तौर पर 80 से 120 रुपये किलो बिकने वाले दूसरे मुर्गों की तुलना में कड़कनाथ का बाज़ार भाव 500 से 750 रुपये प्रति किलोग्राम है.

इसी कड़कनाथ के 'जियोग्राफ़िकल इंडिकेशंस टैग' यानी भौगोलिक संकेतक का दावा करते हुये दोनों राज्यों ने चेन्नई के भौगोलिक संकेतक पंजीयन कार्यालय में अपना आवेदन पेश किया है.

जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग का मतलब ये है कि अधिकृत उपयोगकर्ता के अलावा कोई भी व्यक्ति, संस्था या सरकार इस उत्पाद के मशहूर नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकती. वर्ल्ड इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी ऑर्गेनाइज़ेशन के अनुसार जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन ये बताता है कि वह उत्पाद एक ख़ास क्षेत्र से ताल्लुक़ रखता है और उसकी विशेषताएं क्या हैं. साथ ही उत्पाद का आरंभिक स्रोत भी जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन से तय होता है.

इमेज कॉपीरइट CGDPR

झाबुआ कड़कनाथ ब्लैक चिकन मीट के लिये मध्यप्रदेश की ओर से 2012 में ही चेन्नई के भौगोलिक संकेतक पंजीयन कार्यालय में अपना आवेदन पेश करने वाली झाबुआ की गैर-सरकारी संस्था ग्रामीण विकास ट्रस्ट की फौज़िया करीम कहती हैं, "हम मान कर चल रहे हैं कि इस महीने के अंत तक हमें कड़कनाथ का जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग मिल जायेगा. इस मुर्गे पर छत्तीसगढ़ का दावा निर्रथक है."

छत्तीसगढ़ का दावा

ग्रामीण विकास ट्रस्ट को कड़कनाथ का जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग दिये जाने के लिये मध्यप्रदेश की सरकार ने भी भौगोलिक संकेतक पंजीयन कार्यालय को कड़कनाथ के पक्ष में कई शोध और दस्तावेज़ सौंपे हैं.

लेकिन छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सरकार के साथ मिल कर कड़कनाथ का व्यापार करने वाली ग्लोबल बिजनेस इनक्यूबेटर प्राइवेट लिमिटेड ने पिछले महीने ही दंतेवाड़ा ज़िला प्रशासन और फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के साथ मिल कर कड़कनाथ पर छत्तीसगढ़ का दावा पेश करते हुये जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग के लिये आवेदन किया है.

इमेज कॉपीरइट CGDPR

इस कंपनी ग्लोबल बिजनेस इनक्यूबेटर प्राइवेट लिमिटेड का मुख्यालय न्यूयॉर्क में है.

कंपनी के निदेशक श्रीनिवास गोगीनेनी ने बीबीसी से बातचीत में कहा, "हमने पूरे तथ्यों के साथ अपना दावा पेश किया है कि कड़कनाथ मूलतः छत्तीसगढ़ की प्रजाति है. हमें पूरी उम्मीद है कि इस मामले में हमें ही जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग मिलेगा. आज ही हम अपने क़ानूनी सलाहकारों से आगे की रणनीति के लिये बैठक करने जा रहे हैं."

लेकिन, गोगीनेनी के दावे के उलट मध्यप्रदेश के अधिकारी आश्वस्त हैं कि कड़कनाथ पर उनका दावा ज़रूर सही साबित होगा. मध्य प्रदेश पशुपालन विभाग के अतिरिक्त उप संचालक डॉ. भगवान मंघनानी मान कर चल रहे हैं कि इस महीने तक कोई न कोई फ़ैसला ज़रूर हो जायेगा.

ज़ाहिर है, अगर मध्यप्रदेश को कड़कनाथ का जियोग्राफ़िकल इंडिकेशन टैग मिल जाता है तो फिर छत्तीसगढ़ में कड़कनाथ की बांग मुश्किल में पड़ सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे