प्रोफ़ेसर ने लड़कियों की देह की तुलना तरबूज से क्यों की?

महिलाएं, केरल, तरबूज इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/diya.sana.7

छात्राओं को लेकर केरल में एक प्रोफ़ेसर के आपत्तिजनक बयान देने के बाद दूसरे दिन भी लड़कियों का विरोध प्रदर्शन जारी है.

उस प्रोफ़ेसर ने लड़कियों के स्तनों की तुलना तरबूज के टुकड़े से की थी.

एक वीडियो सामने आया था कि जिसमें केरल के कोझिकोड स्थित फ़ारूक़ कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर जौहर मुनव्विर महिलाओं के कपड़ों की अलोचना कर रहे थे.

जेएनयू के प्रोफ़ेसर जौहरी कुछ ही घंटे में ज़मानत पर रिहा

'ऑनलाइन रेप' करने वाले को दुनिया में पहली बार सज़ा

वीडियो में प्रोफ़ेसर कह रहे हैं, ''लड़कियां ख़ुद को पूरी तरह नहीं ढकतीं. ​वो पर्दा करती हैं, लेकिन पैर दिखते रहते हैं. जरा सोचिए, यही आजकल की स्टाइल है.''

प्रोफ़ेसर जौहर मुनव्विर ने वीडियो में यह भी कहा, ''लड़कियां सिर्फ़ स्कार्फ़ से अपना सिर ढक लेती हैं और अपना सीना दिखाती हैं. सीना महिलाओं के शरीर का ऐसा हिस्सा है जो पुरुषों को आकर्षित करता है. ये एक तरबूज के टुकड़े की तरह है, पता चलता है कि फल कितना पका हुआ है.''

इमेज कॉपीरइट VIDEO GRAB

वीडियो वायरल होने पर विरोध

इस वीडियो के वायरल होने के बाद वामपंथी और दक्षिणपंथी छात्र यूनियनों ने कोझिकोड में विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.

डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) के संयुक्त सचिव निखिल पी ने बीबीसी से कहा, ''यह सिर्फ़ मुस्लिम छात्राओं का सवाल नहीं है. यह सभी महिलाओं के ख़िलाफ़ है. केरल जैसे राज्य में ऐसे बयान सहन नहीं किए जा सकते.''

प्रोफ़ेसर के बयान का सोशल मीडिया पर भी जबर्दस्त विरोध हुआ. दो ल​ड़कियों ने फ़ेसबुक पर अपनी अर्धनग्न तस्वीर पोस्ट करके विरोध जताया. इस पर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई और नग्नता के आधार पर फ़ेसबुक ने वो तस्वीरें हटा दीं.

फ़ेसबुक पर सबसे पहले अपनी तस्वीर पोस्ट करने वालीं आरती एस.ए ने बीबीसी से कहा, ''मैंने अपनी अर्धनग्न तस्वीर इसलिए डाली थी क्योंकि इंसानी शरीर को ज़रूरत से ज़्यादा सेक्सुअलाइज किया जाता है. अगर कोई मर्द अपने शरीर के उसी अंग को दिखाए तो ये बड़ी बात नहीं होती, लेकिन महिलाओं को अपने शरीर को लेकर अति सजग रखा जाता है.''

'रेप के ज़ख़्म ऐसे कि हाथ मिलाते भी डरती हूँ'

आरती ने कहा, ''अगर आप साड़ी पहनती हैं, तो आप हर वक़्त परेशान रहती हैं, क्योंकि आपके शरीर का कोई हिस्सा नहीं दिखना चाहिए. अगर ऐसा होता है तो लोगों को आपत्ति होने लगती हैं. अगर हम कुछ उठाने के लिए झुकते हैं तो हमेशा ध्यान रखना पड़ता है कि कहीं हमारी क्लीवेज न दिख जाए. इसी तरह हम परेशान रहते हैं कि कहीं ब्रा की स्ट्रिप ने दिख जाए.''

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Rehana Fathima
Image caption फातिमा रेहाना ने फेसबुक अपनी तस्वीर डाली थी

आरती के साथ मोरल पुलिसिंग

फ़ातिमा रेहाना ने भी फ़ेसबुक पर अपनी तस्वीर डाली थी. आरती और रेहाना की तस्वीरों पर बेहद अभद्र प्रतिक्रिया आई थी जैसा कि सोशल मीडिया पर लोगों का स्वभाव रहा है. लेकिन, पिछले साल हुई एक घटना के बाद आरती को इसकी कोई चिंता नहीं है.

पिछले साल आरती और उनके एक दोस्त को पुलिस ने इसलिए टोक दिया था क्योंकि दोनों बेंच पर बैठे थे और उनके दोस्त ने अपना सिर आरती के कंधे पर रखा हुआ था. आरती कहती हैं कि वो मोरल पुलिसिंग कर रहे थे.

अपने विरोध को लेकर जहां आरती को समर्थन मिला तो वहीं कई लोगों ने उनका विरोध भी किया.

वो बताती हैं, ''एक तरफ़ मुझे वेश्या कहकर अपमानित किया गया तो दूसरी तरफ़ कई लोगों को विरोध करने का मेरा तरीक़ा बहुत अच्छा भी लगा.''

रेहाना फ़ातिमा कहती हैं, ''एक शिक्षक होते हुए उन्हें लड़कियों को लेकर ऐसे अपमानजनक बात नहीं कहनी चाहिए थी. ये मेरा शरीर है, मेरा अधिकार है. वह महिलाओं के साथ एक वस्तु की तरह व्यवहार कर रहे हैं.''

हालांकि, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर को निलंबित करने की छात्र-छात्राओं की मांग के बावजूद भी कॉलेज प्रशासन ने प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. कॉलेज के प्रिंसिपल से बात करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फ़ोन नहीं उठाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे