रामनवमी के जुलूस में 'शंभूलाल रैगर' की झांकी

  • 28 मार्च 2018
शंभूलाल रैगर, रामनवमी, जोधपुर इमेज कॉपीरइट BBC/NARAYAN BARETH
Image caption एक टैक्टर पर विजयी मुद्रा में शंभूलाल रैगर की झांकी सजी थी

ये रामनवमी का उत्सव था. झांकियों में राम दरबार सजा तो उसमें सीता, लव-कुश, शिव, ब्रह्मा और अनेक देवी देवता शामिल थे. ये त्रेता युग का चित्रण था. लेकिन कलयुग आते-आते इन्हीं झांकियों में एक व्यक्ति को रथ पर शंभूलाल रैगर बनाकर बैठा दिया गया.

रैगर पर राजस्थान के राजसमंद में एक प्रवासी मजदूर अफ़राजुल की हत्या का आरोप है. रैगर अभी जोधपुर जेल में बंद है. पुलिस इस घटना की जाँच कर रही है.

राजस्थान के जोधपुर में उस दिन धूप खिली खिली थी और भगवान राम की शोभा यात्रा में राम के जयकारे लग रहे थे. राम के साथ झांकियों में रामभक्त हनुमान भी थे जिनके मंदिर पर बनारस में बिस्मिल्लाह ख़ान शहनाई बजाते थे.

ग्राउंड रिपोर्ट: शंभूलाल रैगर कैसे बन गए शंभू भवानी

शंभूलाल ने जेल में बना डाला वीडियो

इमेज कॉपीरइट BBC/NARAYAN BARETH
Image caption आयोजन समिति के महामंत्री और विहिप के धर्म प्रसारक शैलेन्द्र भदौरिया

जिस पर हत्या का आरोपउसका महिमामंडन

आयोजकों के मुताबिक़ रामनवमी के दिन जोधपुर में 350 झांकियां निकाली गईं. आयोजक नहीं जानते कि इनमें से एक झांकी शंभूलाल रैगर की भी थी. इस झांकी के सूत्रधार हरी सिंह पंवार शिव सेना के नेता हैं.

उन्हें इस पर कोई पछतावा नहीं. बल्कि वे कहते हैं ये झांकी लव जिहाद के ख़िलाफ़ हिंदुओं को जागरूक करने के लिए सजाई गई थी.

शोभा यात्रा में हिंदू देवी देवता इन झांकियों में अपने अवतार के रूप में महिमामंडित थे. झांकियों का स्वागत करने शहर के कई गणमान्य लोग भक्ति भाव से उपस्थित थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदू चेतना जगाने का प्रयास!

इन्हीं झांकियों में से एक टैक्टर पर विजयी मुद्रा में शंभूलाल रैगर की झांकी सजी थी.

इसमें शंभूलाल रैगर को उन्हीं कपड़ों में दिखाया गया था जो उसने कथित रूप से अफ़राजुल की हत्या के दिन पहन रखा था.

शिव सेना नेता पंवार कहते हैं, "लव जिहाद की घटनाएं बढ़ रही हैं. वे इस झांकी के ज़रिए हिंदुओं में चेतना पैदा करना चाहते थे."

क्या शंभूलाल रैगर हिंदुत्व के 'लोन वुल्फ़' हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इक़बाल के शब्दों में राम

ये उस भगवान राम की शोभा यात्रा थी जिन्हें कभी अल्लामा इक़बाल ने इमामे हिन्द कह कर संबोधित किया और कहा- "है राम के वजूद पर हिंदोस्तां को नाज़, अहले नज़र समझते हैं उन्हें इमामे हिन्द."

राम के प्रति एक आस्था इक़बाल के शब्दों में है एक आस्था इस झांकी में है. इस शोभा यात्रा का आयोजन हिंदू संगठनों ने किया था.

इमेज कॉपीरइट VIDEO GRAB

रैगर की किसी को ख़बर नहीं

आयोजन समिति के महामंत्री और विहिप के धर्म प्रसारक शैलेंद्र भदौरिया कहते हैं, ''उन्हें शंभुलाल रैगर की झांकी की कोई ख़बर नहीं थी. उन्हें तो ये मीडिया से ही पता चला. अगर मीडिया उसी समय बता देता तो ऐसी झांकी को निकाल बाहर किया जाता.

पुलिस आयुक्त अशोक राठौड़ ने बीबीसी से कहा, 'वीडियो की प्रमाणिकता की जाँच की जा रही है. इसके बाद जो भी विधि सम्मत कार्रवाई होगी, की जाएगी.'

ये शोभा यात्रा जोधपुर के प्रमुख मार्गों से होकर गुज़री और हर सिर श्रद्धा से झुकता चला गया. इनमें कोई राजनेता था, कोई साधुसंत तो कोई सांसारिक प्राणी. लेकिन रैगर की झांकी किसी आंख को नज़र नहीं आई.

राम तोड़ते नहीं

ये उस राम की झांकी थी जो गाँधी के भजनों में सद्भाव और प्रेम का पैगाम देते थे.

गाँधी जब रघुपति राघव राजा राम गाते, धर्म मजहब और जात पांत की दीवारें गिर जाती थी.

गांधीवादी कार्यकर्ता और राजस्थान समग्र सेवा संघ के अध्यक्ष सवाई सिंह कहते हैं, 'ये सुन कर मुझे बहुत धक्का लगा है. ये राम के नाम का आपराधिक दुरुपयोग है. राम तो सौहार्द और समन्वय के प्रतीक हैं. राम जोड़ते हैं तोड़ते नहीं.

राम अपने लंबे वनवास में विकट और विपरीत परिस्थितियों से गुजरे. मगर हमेशा मर्यादा का पालन करते रहे. हालात कितने ही दुश्वार हों, उनके अनुगामी और भक्तों ने भी मर्यादा का तटबंध नहीं तोड़ा. मगर ये झांकी तो उस दर्शन से उलट है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे