पेपर लीक पर CBSE के इस फ़ैसले से लाखों छात्रों की उड़ी नींद

सीबीएसई इमेज कॉपीरइट Getty Images

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) से दसवीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए बड़ी ख़बर है.

बोर्ड ने दसवीं के गणित की परीक्षा और 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा रद्द कर दी है.

सीबीएसई ने बुधवार को नोटिस जारी कर दोनों विषयों की फिर से परीक्षा लेने की घोषणा की है.

बोर्ड ने कहा है कि परीक्षा के दौरान कुछ गड़बड़ियों की सूचना मिली थी, जिसके बाद दोनों विषयों की परीक्षा दोबारा लेने का फ़ैसला किया गया है.

सीबीएसई ने कहा है, "परीक्षाओं के दौरान कुछ गड़बड़ी की सूचना पर बोर्ड ने संज्ञान लिया है. बोर्ड की प्रतिबद्धता कायम रखने और छात्रों के हित में परीक्षा दोबारा लेने का फ़ैसला किया गया है."

दोनों विषयों की परीक्षा कब होगी और दूसरी ज़रूरी सूचनाएं एक हफ़्ते के भीतर सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट कर दी जाएंगी.

12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा 26 मार्च और दसवीं के गणित की परीक्षा 28 मार्च को ली गई थी. परीक्षा से पहले दोनों विषयों के प्रश्न पत्र सोशल मीडिया और व्हाट्सऐप पर लीक के दावे किए गए थे, जिसे सीबीएसई ने ख़ारिज कर दिया था.

दिल्ली पुलिस ने 12वीं के अर्थशास्त्र के पेपर के कथित लीक मामले में एफ़आईआर दर्ज कर ली है.

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि मामले में आंतरिक जांच चल रही है. उन्होंने आगे कहा कि सोमवार से एक नई व्यवस्था लाई जाएगी ताकि पेपर लीक का मामला दोबारा न हो.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'तकनीक से रोका जाएगा पेपर लीक'

उन्होंने कहा कि पेपर लीक की ख़बर ने उन्हें दुखी किया है और उम्मीद जताई कि पुलिस मामले की जांच करेगी और दोषियों को पकड़ पाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी परीक्षा शुरू होने से पहले छात्रों से रूबरू हुए थे, जिसमें उन्होंने तनाव मुक्त परीक्षा की सलाह बच्चों को दी थी.

जावडेकर ने कहा कि पेपर लीक का मामला उनके लिए ज़रूरी मुद्दा है और तकनीक की मदद से इसे रोका जाएगा.

छात्रो का आरोप था कि अर्थशास्त्र का हाथ से लिखा प्रश्न पत्र व्हाट्सऐप पर वायरल हो रहा था. शिक्षक, अभिभावक और छात्रों का ये भी आरोप है कि इन दोनों प्रश्न पत्र के अलावा दसवीं के सामाजिक विज्ञान और बारहवीं के जीव विज्ञान का पेपर भी लीक हुआ था.

दिल्ली सरकार का कहना है कि उसे 12वीं के अकाउंटेंसी का प्रश्न पत्र लीक होने की शिकायत मिली थी, जिसकी जांच की जा रही है.

शिक्षा निदेशालय का कहना है कि व्हाट्सऐप पर जो प्रश्न पत्र लीक हुआ था, वो असली प्रश्न पत्र से मिले हैं.

इसके बाद दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने भी कथित प्रश्न पत्र लीक मामले की जांच के आदेश दिए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे