यहां माहवारी के दौरान महिला को काटती है मधुमक्खी?

  • 29 मार्च 2018
महिला इमेज कॉपीरइट ROBERTO SCHMIDT/AFP/Getty Images

तेलांगना राज्य में नाल्लमाला फॉरेस्ट रेंज में स्थित है नेमालिगुंदला रंगनायका मंदिर. इस मंदिर में हज़ारों श्रद्धालु आते हैं.

यहां के लोगों के बीच एक मान्यता है कि जब किसी महिला को मासिक धर्म यानी माहवारी चल रही होती है, तब उसे मधुमक्खी काट लेती है.

अगर मंदिर की तरफ जाते हुए किसी महिला को मधुमक्खी काट लेती है तो उसके आस पास मौजूद पुरुष यह समझने लगते हैं कि इस महिला की माहवारी (पीरियड्स) चल रही है और तब वे पुरुष उस महिला पर चीखने-चिल्लाने लगते हैं.

माहवारी के दौरान महिलाओं को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं दी जाती और यह समझा जाता है कि अगर महिलाएं माहवारी के वक्त मंदिर में जाएंगी तो मंदिर अशुद्ध हो जाएगा.

इमेज कॉपीरइट DL Narasimha
Image caption मंदिर में मौजूद श्रद्धालु

मिथ से जुड़ी कहानी

मंदिर के पुराने शास्त्रों को देखने पर ये मिथक से जुड़ी कहानी मालूम पड़ती है. मंदिर के प्रमुख देवता के रूप में विष्णु के अवतार श्री महाविष्णु की पूजा की जाती है.

कहानी के अनुसार क़रीब 1500 साल पहले श्री महाविष्णु की शादी रंगा नाम की एक आदिवासी महिला से हो गई और उसका नाम रंगनायक हो गया.

मंदिर में जो तालाब है वह देवता ने पानी पीने के लिए ख़ुद बनाया जिसे नेमालिगुंदम कहा जाता है.

स्थानीय लोगों का यह मानना है कि मधुमक्खियाँ माहवारी के दौरान मंदिर में प्रवेश कर रहीं महिलाओं को काटकर मंदिर की पवित्रता बचाए रखने में सहयोग देती हैं.

लोगों के बीच फैले इसी मिथक को जानने के लिए हमने मंदिर का दौरा किया और वहां गांववालों और मंदिर के पुजारी से भी बात की.

इमेज कॉपीरइट DL Narasimha
Image caption मंदिर

लोगों के बीच फैला अंधविश्वास

श्रीनिवास राजू नाम के एक भक्त ने एक पुरानी घटना को याद करते हुए कहा कि यह बात बिल्कुल सही है, जब महिलाएं माहवारी के दौरान मंदिर में आती हैं तो मधुमक्खी उन्हें काट लेती है. वे बताते हैं कि जब उनकी साली अपनी माहवारी के दौरान मंदिर के करीब आईं तो उन पर मधुमक्खियों ने हमला कर दिया था.

इसी बारे में जब महिलाओं से बात की गई तो उन्होंने बताया कि वे भी माहवारी के दौरान मंदिर में जाने से बचती हैं क्योंकि उन्होंने देखा है कि मधुमक्खियों ने उन महिलाओं पर हमला किया है जो माहवारी के वक्त मंदिर में गईं. महिलाएं बताती हैं कि ये मधुमक्खियां उन पुरुषों को भी काट लेती हैं जो माहवारी वाली महिलाओ के साथ मंदिर में आ रहे होते हैं.

जब मंदिर के पुजारी से पूछा गया कि आख़िर माहवारी के दौरान महिलाओं को मंदिर में क्यों नहीं आने दिया जाता, तो पुजारी ने कहा कि इस दौरान महिलाओं के शरीर की गंदगी खून के रूप में बाहर निकल रही होती है. जिस तरह बेडरूम और किचन में मूत्रविसर्जन करना वर्जित होता है वैसे ही माहवारी के दौरान महिलाओं को भी मंदिर में नहीं आने दिया जा सकता. पुजारी का मानना है कि इस तरह की प्रथाओं को मानने की यही प्रमुख वजहें हैं.

इमेज कॉपीरइट DL Narasimha
Image caption मंदिर का तालाब

कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं

इसके बाद पुजारी इस बात पर ज़ोर देते रहे कि अगर किसी महिला ने माहवारी के दौरान मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश भी कि तो मधुमक्खियों ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया.

इसी इलाक़े में अंधविश्वासों को दूर करने की कोशिश कर रहे एक संगठन जन विज्ञान वेदिका का कहना है कि मधुमक्खियों के काटने और महिलाओ के माहवारी में कोई संबंध नहीं है यह महज अंधविश्वास है.

इमेज कॉपीरइट DL Narasimha
Image caption मधुमक्खी का छत्ता

इस संगठन की सदस्य सृजना ने कहा कि ऐसे भी कई मौक़े आए हैं जब मधुमक्खियों ने पुरुषों पर भी हमला किया है

वे कहती हैं कि विज्ञान में इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि माहवारी के दौरान महिलाओं को मधुमक्खियां काट लेती हैं.

वे आगे बताती हैं कि एक स्कूल के पास पेड़ों पर मधुमक्खियों के बहुत से छत्ते हैं लेकिन जब कभी वे वहां जाती हैं तब तो किसी मधुमक्खी ने उन्हें नहीं काटा.

वे मानती है कि महिलाओं को माहवारी के दौरान मंदिर में प्रवेश ना करने के लिए इस तरह की बातें प्रचलित की गई हैं, क्योंकि समाज में यह डर रहता है कि अगर माहवारी के दौरान महिला ने मंदिर के तालाब में स्नान कर लिया तो तालाब का पानी गंदा हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए