ब्लॉग: इन तीन लोगों का ज़िक्र होगा मोदी के 'मन की बात' में?

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट REUTERS/SHAILESH ANDRADE

यशपाल सक्सेना के बेटे अंकित सक्सेना का पश्चिमी दिल्ली के रघुबीर नगर में इसी साल फ़रवरी में दिन दहाड़े क़त्ल कर दिया गया क्योंकि वो एक मुसलमान लड़की से मोहब्बत करता था और लड़की के परिवार वालों को ये गवारा नहीं था.

एक मुसलमान परिवार पर हिंदू युवक की हत्या का मुद्दा हिंदुत्ववादियों के लिए एक पके हुए फल जैसा था जिसे हाथ बढ़ाकर तोड़ा जा सकता था.

पर यशपाल सक्सेना ने इस हत्या को हिंदू-मुसलमान का सवाल बनाना चाह रहे लोगों को सख़्ती से कह दिया कि मेरे बेटे की हत्या को सांप्रदायिक उन्माद फैलाने का बहाना न बनाया जाए.

Image caption पश्चिम बंगाल के आसनसोल के मौलाना इमदादुल रशीदी

मौलाना इमदादुल रशीदी के 14 साल के बेटे सिब्तुल्लाह रशीदी को रामनवमी के दौरान आसनसोल में दंगाइयों की भीड़ ने खींच लिया और दो दिन बाद उसकी लाश बरामद की गई.

सिब्तुल्लाह की हत्या से क्रोधित मुसलमान नौजवानों से मौलाना रशीदी ने साफ़ साफ़ कह दिया कि अगर किसी ने उनके बेटे की हत्या का बदला लेने की कोशिश की तो वो शहर छोड़कर चले जाएंगे. मौलाना पिछले 30 बरस से आसनसोल की एक मस्जिद में इमाम हैं.

इमरोज़ ख़ान बिहार के औरंगाबाद ज़िले में एक शो रूम चलाते थे जिसमें काम करने वाले 22 में से 18 कर्मचारी हिंदू थे और चार मुसलमान. पिछले हफ़्ते रामनवमी के दौरान मुसलमानों के बिज़नेस को निशाना बनाने वाली दंगाइयों की भीड़ ने इमरोज़ ख़ान के शो रूम को ख़ाक कर दिया.

इमरोज़ ने बीबीसी हिंदी के संवाददाता रजनीश कुमार को बताया, "हिंदुओं ने मुसलमानों को नहीं मारा है. कुछ लोगों ने अपने फ़ायदे के लिए ये सब किया है. हिंदुओं ने हमारे ससुर साहब के होण्डा शोरूम को बचाया है. हमारे साले साहब के होटल को हिंदुओं ने बचाया है."

गौसेवा करते मोदी और पहलू ख़ान के हमलावर

Image caption बिहार के औरंगाबाद ज़िले में हुई हिंसा के दौरान इमरोज़ ख़ान के शो रूम में आग लगा दी गई

हिंदुओं के रोज़गार की चिंता

इमरोज़ ख़ान औरंगाबाद के उन लोगों में से हैं जिनके बिज़नेस को रामनवमी के जुलूस के बहाने दंगाइयों ने निशाना बनाया. अब वो कहते हैं कि कुछ दिन बाद वो हिंदुस्तान छोड़कर सिंगापुर चले जाएंगे. उन्हें चिंता है कि उनके शोरूम में काम करने वाले 18 हिंदू परिवारों की रोज़ी रोटी का क्या होगा.

इमरोज़ ख़ान कहते हैं कि 'इस्लाम में टीका लगाने की मनाही है, पर हम इस्लाम की पाबंदी छोड़कर होली में टीका लगवाते थे, मंदिर में हिंदू भाइयों के साथ बैठते थे उन्हें अपने परिवार की तरह मानते थे. पर हमारे दोमंज़िले शोरूम को बलवाइयों ने इस तरह ख़ाक़ कर दिया कि दीवार-छत सब बरबाद हो गया. '

इसके बावजूद उनके दिल में साधारण हिंदुओं के लिए अब भी कोई कड़वाहट नहीं है. 

अंकित के घर से लौटकर दिमाग में कहानी नहीं, आंख में आंसू आते हैं

Image caption दिल्ली में रहने वाले यशपाल सक्सेना के बेटे अंकित सक्सेना का फ़रवरी में क़त्ल हो गया था

कौन-सी असाधारण ताक़त

यशपाल सक्सेना, मौलाना इमदादुल रशीदी और इमरोज़ ख़ान हिंदुस्तान के उन सवा अरब साधारण लोगों में हैं जिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर गर्व करते हैं. ये अपने नज़दीकी लोगों की हत्या किए जाने और अपनी जायदाद को ख़ाक कर दिए जाने के बावजूद हिंदुओं और मुसलमानों के बीच दुश्मनी फैलाने वालों को ख़ारिज करते हैं.

ज़ाहिर है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इन तीन साधारण हिंदुस्तानियों पर गर्व होगा क्योंकि ये वही "मेरे सवा अरब भारतवासी" हैं जिनपर मोदी गर्व करते हैं.

पर इन तीनों के पास वो शक्ति कहाँ से आई जिसने इन्हें भावनाओं में बहकर बदले की आग में झुलसने से बचा लिया? वो कौन-सी असाधारण ताक़त इन साधारण लोगों के पास है जिसके सामने विधर्मियों का विनाश करने को आतुर दंगाइयों के हाथ की नंगी तलवारें, लंबे-लंबे छुरे, तीखे त्रिशूल और सब तर्क स्खलित हो जाते हैं? 

शांति का संदेश

आसनसोल की मस्जिद के इमाम इमदादुल रशीदी ने बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टाशाली को बताया कि उनकी ये ताक़त अल्लाह से, इस्लाम से और इस्लाम के रसूल मुहम्मद साहब की शिक्षाओं से आई है.

उन्होंने कहा, "मैं पिछले तीस साल से इस मस्जिद का इमाम हूँ. मेरी ज़िम्मेदारी लोगों को शांति का संदेश देना है. मेरा बेटा चला गया पर मैं नहीं चाहता हूँ कि किसी और के साथ ऐसा हो."

इस इमाम के लिए शहर में अमन क़ायम रखना अपने किशोर बेटे की हत्या का ग़म मनाने से ज़्यादा ज़रूरी था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'मन की बात' में इस बात को सवा अरब देशवासियों के सामने रखना ही चाहिए.

'मेरा बेटा गया कोई बात नहीं, दूसरे को तकलीफ़ मत होने दो'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बाबुल सुप्रियो से करें सवाल

दूसरी ओर उन्हें आसनसोल से ही अपनी पार्टी के सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो से पूछना चाहिए कि वोटरों की खाल खिंचवाने की धमकी देने का लाइसेंस उन्हें किस संविधान ने दिेया है? 

उन्हें पूछना चाहिए कि जब रामनवमी जुलूसों के दौरान राज्य में कई जगहों पर सांप्रदायिक हिंसा हुई हो, भारतीय जनता पार्टी की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष मेज़ पर रखे छुरे, तलवारों और गंडासों का निरीक्षण करते हुए क्या संदेश देना चाहते हैं और किसे? 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोज़ाना किसी न किसी मंच से इतनी बार अपनी बात कहते हैं कि फिर रेडियो पर उनके 'मन की बात' सुनने की गुंजाइश कम ही रह जाती है.

पर इस बार का प्रसारण मैं ज़रूर सुनूँगा. हो सकता है हिंदुस्तान की एकता बनाए रखने के लिए अपने ज़ख़्मों को भुला देने वाले इन तीन साधारण लोगों का ज़िक्र कर ही दें मोदी जी अपने 'मन की बात' में! 

राजेश जोशी के पिछले कुछ ब्लॉग पढ़ने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें

दलितों और आदिवासियों को सुरक्षा चाहिए या ब्राह्मण को?

किस संघर्ष का इंतज़ार है मोहन भागवत को?

क्या फिर से बनाई जा सकेगी बाबरी मस्जिद?

ऐसी मौतें देशभक्ति के खाते में दर्ज नहीं होतीं

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)