बिहार: केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित 'गिरफ्तार'

अर्जित शाश्वत गिरफ़्तार इमेज कॉपीरइट Facebook

बिहार की राजधानी पटना की पुलिस ने रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे और भारतीय जनता पार्टी नेता अर्जित शाश्वत की गिरफ़्तारी की जानकारी दी.

अर्जित शाश्वत भागलपुर के नाथनगर इलाके में सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के मामले में अभियुक्त हैं और उनकी गिरफ़्तारी के लिए अदालत ने 24 मार्च को वारंट जारी किया था.

उनकी गिरफ़्तारी की पुष्टि करते हुए पटना ज़िले के सीनियर एसपी मनु महाराज ने बीबीसी को बताया, ''अर्जित को पटना के स्टेशन गोलंबर के पास रात करीब पौने एक बजे गिरफ़्तार किया गया. आगे की कार्रवाई के लिए पुलिस उन्हें भागलपुर ले जाएगी.''

पटना पुलिस उनकी गिरफ़्तारी का दावा ज़रुर कर रही है लेकिन 25 मार्च को पटना पुलिस तब ऐसा करने में नाकाम रही थी जब अर्जित पटना की सड़कों पर रामनवमी के जुलूस में शामिल हुए थे और पटना में उन्होंने मीडिया से बातचीत भी की थी.

इमेज कॉपीरइट facebook

अर्जित कर रहे हैं संरेडर का दावा

इस बीच गिरफ़्तारी से ठीक पहले अर्जित ने पटना में मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने न्यायालय का सम्मान करते हुए सरेंडर किया है.

उन्होंने बताया, ''मैं किसी दवाब में नहीं था. मैं हनुमान मंदिर प्रणाम करने आया था और इसके बाद मैंने यहीं पर सरेंडर किया. मैं न्यायालय की शरण में था. न्यायालय की ओर से मेरी अग्रिम ज़मानत याचिका खारिज करने की खबर मुझे शाम को मिली. इसके बाद मुझे लगा कि न्यायालय का सम्मान होना चाहिए.''

अर्जित ने नाथनगर पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल उठाए और कुछ लोगों ने इस दौरान जय श्री राम के नारे भी लगाए.

गौरतलब है कि शनिवार 31 मार्च को भागलपुर की एक अदालत ने अर्जित की अग्रिम ज़मानत याचिका खारिज कर दी थी.

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya
Image caption भाजपा ने 17 मार्च को भागलपुर के सैंडिस कंपाउंड से जुलूस निकाला था जिसका नेतृत्व अर्जित भी कर रहे थे

क्या है पूरा मामला?

हिंदू नववर्ष की शोभा यात्रा के दौरान बीती 17 मार्च को भारतीय जनता पार्टी ने भागलपुर के सैंडिस कंपाउंड से जुलूस निकाला था जिसका नेतृत्व अर्जित कर रहे थे.

पुलिस के मुताबिक यह जुलूस बिना अनुमति के निकाला गया था. यही जुलूस जब भागलपुर के नाथनगर पहुंचा तो कथित रुप से आपत्तिजनक गाने को लेकर दो पक्षों के बीच पत्थरबाज़ी, आगजनी और हिंसा की घटना हुई थी.

इसमें पुलिस के एक जवान समेत कुछ लोग घायल भी हुए थे. इस घटना को लेकर दो प्राथमिकी दर्ज कराई गई थीं जिनमें अर्जित समेत करीब दर्जन भर लोगों को अभियुक्त बनाया गया है.

इसके बाद पुलिस ने अर्जित शाश्वत समेत नौ लोगों के ख़िलाफ़ अदालत से गिरफ़्तारी का वारंट हासिल किया.

बिहार में क्यों हो रही हैं साम्प्रदायिक हिंसा की घटनाएं?

नज़रिया: बिहार में हो रही हिंसक झड़पों का मक़सद क्या है?

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya
Image caption नाथनगर में दो समुदायों के बीच हुई थी पत्थरबाज़ी और हिंसा

अर्जित की गिरफ़्तारी को लेकर बीते कुछ दिनों से बिहार की सियासत गर्म थी. गिरफ़्तारी में हो रही देरी से ना केवल विपक्ष सरकार पर हमले कर रही थी बल्कि सत्तारुढ़ गठबंधन के बीच भी मतभेद सामने आए थे.

अर्जित के पिता अश्विनी चौबे ने अपने बेटे को निर्दोष बताते हुए उन पर हुई एफ़आईआर को 'रद्दी का टुकड़ा' बताया था.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सहित कुछ दूसरे भाजपा नेता भी अर्जित के समर्थन में सामने आए थे. वहीं राज्य के सत्ताधारी गठबंधन में शामिल जनता दल यूनाइटेड ने भाजपा नेताओं की ऐसी बयानबाज़ी पर आपत्ति जताते हुए कानून का सम्मान और गठबंधन धर्म का पालन करने को कहा था.

हालांकि माना जा रहा है कि अर्जित की गिरफ्तारी के बाद भी उनके बहाने आने वाले दिनों में बिहार में राजनीति होती रहेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)