प्रेस रिव्यू: 'क्या मैं हिंदू नहीं, क्या मेरे लिए संविधान अलग है'

  • 1 अप्रैल 2018
संजय कुमार इमेज कॉपीरइट Sanjay Kumar

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक उत्तर प्रदेश के हाथरस में पिछले कुछ महीनों में एक दलित युवक संजय कुमार ने सरकार से लेकर प्रशासन के हर अधिकारी से मदद की गुहार लगाई है.

उसे मदद चाहिए ताकि वह अपनी होने वाली पत्नी के गांव निज़ामाबाद में बारात लेकर जा सके जो कि एक ठाकुर बहुल गांव है.

गांव के ठाकुरों का कहना है कि जब उनके इलाके वाले रास्ते पर पहले कभी बारात आई ही नहीं तो ये नई मांग क्यों की जा रही है. जो रास्ता दलितों की बारात के लिए इस्तेमाल होता है, वहीं से बारात ले जानी चाहिए.

संजय कुमार ने 15 मार्च को इलाहाबाद हाई कोर्ट में भी याचिका दाखिल की है.

वो कहते हैं, "जब संविधान कहता है कि हम सब बराबर हैं, मुख्यमंत्री आदित्यनाथ कहते हैं कि हम सब हिंदू हैं तो फिर मुझे ऐसी स्थिति का सामना क्यों करना पड़ रहा है?"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संघ प्रचारक की किताब ने राजगुरू को बताया स्वयंसेवक

हिदुंस्तान अख़बार की ख़बर के मुताबिक आरएसएस के पूर्व प्रचारक और पत्रकार नरेंद्र सहगल ने अपनी किताब में राजगुरू को संघ का स्वयंसेवक बताया है.

सहगल की किताब 'भारतवर्ष की सर्वांग स्वतंत्रता' में लिखा है कि ''लाला लाजपत राय की शहादत का बदला लेने के लिए सरदार भगत सिंह और राजगुरू ने अंग्रेज़ अफ़सर सांडर्स को लाहौर के मालरोड पर गोलियों से उड़ा दिया. फिर दोनों लाहौर निकल गए. राजगुरू नागपुर आकर डॉ. हेडगेवार से मिले.''

सहगल का दावा है कि राजगुरू संघ की मोहित बाग शाखा में स्वयंसेवक थे.

इस किताब की प्रस्तावना संघ प्रमुख मोहन भागवत ने लिखी है.

मार्च में नागपुर में हुई अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में इस किताब की प्रतियां बांटी गई थीं.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES

महाभियोग प्रक्रिया में शामिल सांसद नहीं कर सकेंगे वकालत

दैनिक जागरण की ख़बर के मुताबिक बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया ने बड़ा फ़ैसला लेते हुए सांसद और विधायक बने अधिवक्ताओं को कोर्ट के कामकाज में शामिल होने की अनुमति दे दी.

लेकिन जो अधिवक्ता हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों पर महाभियोग चलाने की कार्रवाई में शामिल होंगे, उन्हें वकालत करने की इजाज़त नहीं होगी.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के ख़िलाफ़ महाभियोग का प्रस्ताव लाने में जुटे कांग्रेस और और विपक्ष के कई नेताओं को इस फ़ैसले से झटका लगा है.

बार काउंसिल के चेयरमैन मनन कुमार मिश्र ने बताया कि ये फ़ैसला ताक़त का दुरूपयोग रोकने और अधिवक्ता के विशेषाधिकार की रक्षा के लिए है.

इमेज कॉपीरइट Ravi prakash

'भाजपा मंत्रियों ने कार्यशैली ना बदली तो बदल देंगे चेहरे'

अमर उजाला की ख़बर के मुताबिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने जम्मू में भाजपा मंत्रियों पर गंभीर रुख़ अख्तियार किया है.

मंत्रियों को चेतावनी दी है कि यदि उनकी कार्यशैली नहीं बदली तो चेहरे बदलने में देर नहीं लगेगी.

कहा है कि वह अपनी कार्यशैली में तत्काल बदलाव कर कार्यकर्ताओं की नाराज़गी को दूर करें.

वैद्य ने संघ नेताओं से सरकार तथा मंत्रियों की कार्यप्रणाली पर मिले फ़ीडबैक के आधार पर शनिवार को प्रदेश संघ मुख्यालय में भाजपा मंत्रियों, विधायकों तथा संगठन पदाधिकारियों को तलब किया था.

इमेज कॉपीरइट MP police

भोपाल जेल में सिमी कैदियों को किया गया प्रताड़ित!

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक नेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक भोपाल सेंट्रल जेल में बंद 21 सिमी संगठन के कैदियों के साथ जेल प्रशासन ने कथित तौर पर अत्याचार किया है.

कैदियों ने कमीशन की टीम को बताया कि उन्हें अलग कोठरियों में क़ैद रखा जाता था, जय श्रीराम के नारे लगवाए जाते थे जबकि उनकी क़ुरान फेंक दी गई थी.

अख़बार के मुताबिक अक्तूबर 2016 में कथित सिमी कैदियों के एनकाउंटर के बाद जेल में बंद बाकी सिमी कैदियों के साथ ऐसा सलूक किया गया.

कमीशन ने अपनी 24 पन्नों की रिपोर्ट में बताया है कि कैदियों को शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना दी जाती रही है.

हालांकि जेल प्रशासन ने इन आरोपों को ख़ारिज किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए