प्रेस रिव्यू: 'कांग्रेस मुक्त भारत संघ की भाषा नहीं'

मोहन भागवत-अमित शाह

इमेज स्रोत, Getty Images

अमर उजाला की ख़बर के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेता भले ही 'कांग्रेस मुक्त भारत' की बात करते हों, लेकिन आरएसएस के संघ प्रमुख मोहन भागवत इससे इत्तेफ़ाक नहीं रखते.

एक किताब के विमोचन के मौके पर उन्होंने कहा, "ये सब राजनीतिक नारे हैं. आरएसएस की ये भाषा नहीं है."

"मुक्ति शब्द राजनीति में उपयोग होता है. हम कभी किसी को अलग करने की भाषा का उपयोग नहीं करते."

संघ प्रमुख ने कहा कि नकारात्मक सोच वाले सिर्फ़ विवाद और बंटवारे की बात ही सोच सकते हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक जबसे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल से गठबंधन तोड़ा है, उसके बाद से बिहार में 200 सांप्रदायिक घटनाएं हो चुकी हैं.

अख़बार ने अधिकारिक रिकॉर्ड में पाया है कि सिर्फ़ इसी साल ही अब तक ऐसी 64 घटनाएं हो चुकी हैं.

पिछले महीने मार्च में ही ऐसी 30 सांप्रदायिक घटनाएं हुई हैं और ज़्यादातर घटनाएं तब हुईं जब कोई धार्मिक जुलूस मुसलमानों के इलाके से गुज़रा.

इमेज स्रोत, Getty Images

उत्तर प्रदेश में अब तक हज़ार एनकाउंटर

द हिंदू अख़बार में छपा है कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार आने का बाद से अब तक पुलिस ने हज़ार से ज़्यादा एनकाउंटर किए हैं.

योगी सरकार के मार्च 2017 में सत्ता संभालने के बाद इन मुठभेड़ों में 49 लोग मारे जा चुके हैं, 370 घायल हुए हैं और 3 हज़ार से ज़्यादा लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

विपक्ष का आरोप है कि ये फ़र्ज़ी एनकाउंटर हैं और सवाल उठाया जा रहा है कि मरने वालों में ज़्यादातर दलित, मुस्लिम या पिछड़ी जाति के ही लोग कैसे हैं.

राज्य मानवाधिकार आयोग ऐसी चार मुठभेड़ों की जांच भी कर रहा है. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी फ़रवरी में उत्तर प्रदेश पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए थे.

इमेज स्रोत, PA

'ग्रैंड क्रैब' वायरस, कंप्यूटर हैक कर मांगता है फ़िरौती

दैनिक भास्कर में छपी रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय साइबर स्पेस में 'ग्रैंड क्रैब' नाम का नया रैनसमवेयर सक्रिय हो रहा है.

यह मोबाइल या कंप्यूटर को हैक कर लॉक कर लेता है और फिर सिस्टम खोलने के बदले में यूजर से फ़िरौती की मांग करता है.

साइबर स्पेस में इसके बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने एडवायज़री जारी की है.

रूसी हैकर्स का बनाया ग्रैंड क्रैब वायरस जनवरी में फैला और दो महीने में इसने 53 हजार यूजर्स को प्रभावित किया.

इमेज स्रोत, Getty Images

सांसद सचिन ने छह साल का वेतन किया दान

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक सचिन तेंदुलकर ने राज्यसभा सांसद के तौर पर मिले वेतन के 90 लाख रूपए प्रधानमंत्री कोष में दान कर दिए.

उनका कार्यकाल 26 अप्रैल को खत्म हो रहा है.

हालांकि सचिन और रेखा की राज्यसभा में हाजिरी के लेकर कई बार आलोचना हुई.

सचिन तेंदुलकर के दफ़्तर के मुताबिक सचिन ने पूरे देश में 185 योजनाओं को मंज़ूरी दी है जिसके लिए आवंटित 30 करोड़ में से लगभग साढे 7 करोड़ उन्होंने खर्च किए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)