राजस्थान: भारत बंद के बाद दो दलित नेताओं के घर तोड़फोड़, आगजनी

दलितो का आंदोलन इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजस्थान में करौली ज़िले के हिण्डोन कस्बे में मंगलवार को हिंसा भड़कने पर दो दलित नेताओं के घरों में तोड़-फोड़ और आगजनी की गई.

सतारूढ़ बीजेपी की विधायक राजकुमारी जाटव और कांग्रेस के पूर्व मंत्री भरोसी लाल जाटव के घरों पर लोगों की भीड़ ने हमला किया.

ये दोनों नेता दलित समुदाय से है. हालत बेकाबू होते देख हिण्डोन कस्बे में बेमियादी कर्फ्यू लगा दिया गया है. इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है. हिंसा की इस ताज़ा घटना को राजस्थान में दलित संगठनों के बंद के दौरान सोमवार को हुई घटनाओ की प्रतिक्रिया के रूप में देखा जा रहा है.

राज्य के पुलिस महानिदेशक ओपी गल्होत्रा ने मीडिया को बताया कि बंद के दौरान हुई हिंसक घटनाओ के सिलसिले में राज्य में अब तक एक हजार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

पुलिस के 170 से ज्यादा मुकद्दमें दर्ज किये हैं और अभी गिरफ्तारियां जारी हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राज्य के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एनआरके रेड्डी ने बीबीसी को बताया कि करौली ज़िले के हिण्डोन में भीड़ ने मंगलवार को उपद्रव किया और कुछ स्थानों को निशाना बनाया.

श्री रेड्डी ने बताया कि पुलिस ने हुजूम को रोकने का प्रयास किया.

पुलिस और भीड़ में उस वक्त भिड़ंत हो गई जब भीड़ हिण्डोन में बीजेपी विधायक राजकुमारी जाटव और कांग्रेस के पूर्व विधायक भरोसी लाल जाटव के घर और प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने लगी.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने लाठी चार्ज किया, आंसूगैस छोड़ी और हवा में फ़ायर कर भीड़ को खदेड़ा.

अतिरिक्त महानिदेशक रेड्डी ने बताया पुलिस की छह कम्पनिया हिण्डोन भेजी गई हैं और सीमा सुरक्षा बल की भी एक टुकड़ी भेजी गई है. भरतपुर के पुलिस महानिरीक्षक आलोक वशिष्ठ मौके पर पहुंच गए थे.

कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री भरोसी लाल जाटव ने बीबीसी से कहा उन्हें समझ में नहीं आता कि उन्हें क्यों निशाने पर लिया गया है. उन्होंने कहा ये बहुत दुखद घटना है.

करौली में दलित संगठनों के बंद के दौरान भी हिंसा हुई थी. इसके बाद मंगलवार को हालात सामान्य होने की उम्मीद की जा रही थी. लेकिन मंगलवार को कुछ संगठनों ने बंद के दौरान हुई कथित हिंसा के विरोध में हिण्डोन कस्बे में रैली निकाली.

बाद में जुलुस में शामिल भीड़ हिंसा पर उत्तर आई.

राजस्थान में दलित संगठनों के बंद के दौरान अलवर में पुलिस और बंद समर्थक भीड़ के बीच हुई भिड़ंत में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़े:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)