कश्मीर: पत्थरबाजी के दौरान अपनी गाड़ी से कुचलकर सीआरपीएफ़ के दो जवानों की मौत

  • माजिद जहांगीर
  • बीबीसी हिन्दी डॉट कॉम के लिए
सीआरपीएफ़, कश्मीर

भारत प्रशासित कश्मीर के अनंतनाग ज़िले में बुधवार को पत्थरबाज़ी के दौरान सुरक्षाबलों की गाड़ी से कुचलकर सीआरपीफ़ (केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल) के दो जवानों की मौत हो गई.

ये घटना अनंतनाग के हिल्लर इलाक़े में शाम सात बजे के क़रीब हुई, जब सीआरपीएफ़ की पेट्रोलिंग टीम कोकेरनाग इलाक़े से वापस आ रही थी.

सीआरपीएफ़ के इंस्पेक्टर जनरल (ऑपरेशन्स) ज़ुल्फ़िकार हसनैन ने बताया, "बुधवार को हमारी एक टीम पेट्रोलिंग के लिए कोकेरनाग गई थी. लौटते वक़्त हमारे दो जवान बाइक पर काफ़िले के आगे सादे कपड़ों में जा रहे थे.जैसे ही हम हिल्लर पहुंचे, हमारे काफ़िले पर पथराव होने लगा और हमारा ड्राइवर पत्थर लगने से घायल हो गया. उसकी गाड़ी से पकड़ छूट गई और गाड़ी बेकाबू होकर उन दो जवानों पर चढ़ गई जो बाइक पर सवार थे. दोनों की मौक़े पर ही मौत हो गई."

ड्राइवर घायल

उन्होंने कहा, "हम कई बार काफ़िले के आगे कुछ जवानों को सादे कपड़ों में इसलिए रखते हैं ताकि हमें ये पता चल सके कि आगे हालात कैसे हैं." हादसे में मारे गए जवानों की पहचान रियाज़ अहमद वानी और निसार अहमद वानी के तौर पर हुई है. दोनों अनंतनाग ज़िले के ही रहने वाले थे.

पत्थर लगने से घायल ड्राइवर का अस्पताल में इलाज चल रहा है. हालांकि एक स्थानीय शख़्स ने बीबीसी को बताया कि हादसे में मारे गए जवान रास्ते पर ग़लत दिशा से आ रहे थे. जब दुर्घटना हुई तो लोगों को लगा कि मारे गए जवान स्थानीय नागरिक हैं क्योंकि दोनों ने वर्दी नहीं पहनी हुई थी.

इमेज कैप्शन,

सांकेतिक तस्वीर

स्थानीय शख़्स के मुताबिक, "घटना के फ़ौरन बाद यहां लोग सड़कों पर निकल आए और मस्जिदों से एलान कर सभी को घरों से बाहर आने के लिए कहा. घटना के बाद यहां अफ़रा-तफ़री मच गई लेकिन बाद में हमें पता चला कि वो सीआरपीएफ़ के जवान थे."

पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)