कश्मीर: पत्थरबाजी के दौरान अपनी गाड़ी से कुचलकर सीआरपीएफ़ के दो जवानों की मौत

  • 5 अप्रैल 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत प्रशासित कश्मीर के अनंतनाग ज़िले में बुधवार को पत्थरबाज़ी के दौरान सुरक्षाबलों की गाड़ी से कुचलकर सीआरपीफ़ (केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल) के दो जवानों की मौत हो गई.

ये घटना अनंतनाग के हिल्लर इलाक़े में शाम सात बजे के क़रीब हुई, जब सीआरपीएफ़ की पेट्रोलिंग टीम कोकेरनाग इलाक़े से वापस आ रही थी.

सीआरपीएफ़ के इंस्पेक्टर जनरल (ऑपरेशन्स) ज़ुल्फ़िकार हसनैन ने बताया, "बुधवार को हमारी एक टीम पेट्रोलिंग के लिए कोकेरनाग गई थी. लौटते वक़्त हमारे दो जवान बाइक पर काफ़िले के आगे सादे कपड़ों में जा रहे थे.जैसे ही हम हिल्लर पहुंचे, हमारे काफ़िले पर पथराव होने लगा और हमारा ड्राइवर पत्थर लगने से घायल हो गया. उसकी गाड़ी से पकड़ छूट गई और गाड़ी बेकाबू होकर उन दो जवानों पर चढ़ गई जो बाइक पर सवार थे. दोनों की मौक़े पर ही मौत हो गई."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ड्राइवर घायल

उन्होंने कहा, "हम कई बार काफ़िले के आगे कुछ जवानों को सादे कपड़ों में इसलिए रखते हैं ताकि हमें ये पता चल सके कि आगे हालात कैसे हैं." हादसे में मारे गए जवानों की पहचान रियाज़ अहमद वानी और निसार अहमद वानी के तौर पर हुई है. दोनों अनंतनाग ज़िले के ही रहने वाले थे.

पत्थर लगने से घायल ड्राइवर का अस्पताल में इलाज चल रहा है. हालांकि एक स्थानीय शख़्स ने बीबीसी को बताया कि हादसे में मारे गए जवान रास्ते पर ग़लत दिशा से आ रहे थे. जब दुर्घटना हुई तो लोगों को लगा कि मारे गए जवान स्थानीय नागरिक हैं क्योंकि दोनों ने वर्दी नहीं पहनी हुई थी.

इस बार भी गर्मी में क्यों उबल रही है कश्मीर घाटी

कश्मीर में बीजेपी नेता ने क्यों उठाया पत्थर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

स्थानीय शख़्स के मुताबिक, "घटना के फ़ौरन बाद यहां लोग सड़कों पर निकल आए और मस्जिदों से एलान कर सभी को घरों से बाहर आने के लिए कहा. घटना के बाद यहां अफ़रा-तफ़री मच गई लेकिन बाद में हमें पता चला कि वो सीआरपीएफ़ के जवान थे."

पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है.

यह भी पढ़िए:अफ़रीदी के ट्वीट पर सचिन ने कहा- हमें कोई बाहरी सलाह न दे

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे