प्रेस रिव्यू: बैंकों को ही नहीं, नीरव मोदी ने किसानों को भी 'ठगा'

भारतीय किसान

इंडियन एक्सप्रेस में एक ख़बर छपी है कि महाराष्ट्र में अहमदनगर के किसान पीएनबी घोटाले के आरोपी और भगोड़े कारोबारी नीरव मोदी से अपनी 85 एकड़ ज़मीन वापस मांग रहे हैं.

किसानों का कहना है कि नीरव मोदी की कंपनी ने साल 2011-13 में धोखे से उनकी ज़मीन औने-पौने दाम पर ख़रीद ली थी.

उनका आरोप है कि उन्हें यह कहकर अंधेरे में रखा गया कि ज़मीन सरकारी पक्षी अभयारण्य बनाए जाने के लिए ली जा रही है.

'एनडीए सरकार ने आंबेडकर का ज़्यादा सम्मान किया'

नवभारत टाइम्स की ख़बर के मुताबिक बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आरक्षण मामले में सफ़ाई दी है.

उन्होंने कहा, "मोदी सरकार बाबा साहब के संविधान में बनाई गई आरक्षण नीति पर कायम रहेगी. बीजेपी ना तो आरक्षण ख़त्म करेगी और ना ही किसी को इसे ख़त्म करने देगी."

वहीं, दलित आंदोलन को लेकर नाराज़गी झेल रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी पार्टियों को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा है कि किसी ने आंबेडकर को उतना सम्मान नहीं दिया जितना उनकी सरकार ने दिया है.

वेतन छोड़ेंगे एनडीए सांसद

एनडीए के सांसद लोकसभा और राज्यसभा में 23 दिन हुए गतिरोध के कारण अपना उन दिनों का वेतन नहीं लेंगे.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक़, ऐसा पहली बार होगा की सत्तारुढ़ पार्टी और उसके सहयोगी दलों के सभी सांसद इतने दिनों का वेतन छोड़ेंगे.

बजट सत्र का दूसरा हिस्सा लगभग समाप्ति की ओर है, लेकिन विभिन्न दलों के सांसदों द्वारा हंगामा खड़ा करने के कारण अब तक संसद ठीक से चल नहीं पाई है.

संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने मीडिया को वेतन न लिए जाने की जानकारी दी और संसद के अवरोध के लिए कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराया.

बीजेपी पर चंद्रबाबू नायडू का हमला

केंद्र की एनडीए की गठबंधन सरकार से निकलने के बाद टीडीपी प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने बीजेपी को आड़े हाथों लिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, नायडू ने एक इंटरव्यू में कहा है कि बीजेपी कमज़ोर सहयोगी दल और 'बिगड़े हुए' लोग चाहती है ताकि उन्हें काबू में किया जा सके.

उन्होंने दावा किया कि वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख वाईएस जगनमोहन रेड्डी की पहुंच प्रधानमंत्री कार्यालय तक है और इस सरकार का उस पार्टी से 'कुछ संबंध' है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)