फ़ेक पॉर्न फ़ोटो से लड़की को किया ब्लैकमेल, हुई गिरफ़्तारी

  • 5 अप्रैल 2018
सांकेतिक तस्वीर इमेज कॉपीरइट iStock

लड़कियां स्टूडियो जाती हैं, तस्वीरें खिंचवाती हैं. अग़र फ़ोटोग्राफ़र उन तस्वीरों से छेड़छाड़ कर, उन्हें पॉर्न का रंग देने की कोशिश करता है तो आप क्या कहेंगे.

केरल में एक ऐसा ही मामला सामना आया है. पुलिस ने फर्ज़ी आपत्तिजनक तस्वीरें बनाकर महिला को ब्लैकमेल करने के एक मामले में तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है.

गिरफ़्तार होने वाला शख़्स फ़ोटो स्टूडियो में काम करता था और उस पर स्टूडियो की एक महिला ग्राहक की तस्वीरों के साथ ग़लत तरीके से फोटोशॉप करने का आरोप है.

इससे पहले मंगलवार को स्टूडियो के दो मालिकों को भी पुलिस ने गिरफ़्तार किया था.

पुलिस ने बीबीसी के अशरफ़ पदन्ना को बताया कि महिला ने शिकायत की थी कि उसे इन तस्वीरों के ज़रिए ब्लैकमेल किया जा रहा था.

इमेज कॉपीरइट PA

स्टूडियो से मिले महिलाओं के 40 हज़ार फ़ोटो

महिला का आरोप है कि इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा था.

कोझिकोड स्थित ये फ़ोटो स्टूडियो शादी और पारिवारिक फोटोग्राफ़ी के लिए जाना जाता है और पकड़े गए अभियुक्त यहां फ़ोटो और वीडियो एडिटर के तौर पर काम करते थे.

सोमवार से ही कई महिलाएं अभियुक्तों की गिरफ़्तारी के लिए प्रदर्शन कर रहीं थीं.

पुलिस ने बीबीसी को बताया कि शिकायतों की पुष्टि होने तक स्टूडियो को बंद कर दिया गया है. अभियुक्तों को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा.

पुलिस का कहना है कि उन्हें स्टूडियो से एक हार्ड डिस्क मिली है जिसमें महिलाओं के 40 हज़ार फ़ोटो थे.

इमेज कॉपीरइट iStock

भारत में पॉर्न

लेकिन अभी यह साफ़ नहीं है कि उनमें से कितनों के साथ छेड़छाड़ की गई है.

पुलिस अभी पुष्टि नहीं कर पाई है कि इनमें से कोई तस्वीर इंटरनेट पर या इंटरनेट के अलावा भी सार्वजनिक की गई हैं या नहीं.

पॉर्न साइट 'पॉर्नहब' के जारी किए आंकड़ों के मुताबिक भारत पॉर्न देखने के मामले में सिर्फ़ तीन देशों से पीछे है. भारत से ऊपर अमरीका, ब्रिटेन और कनाडा का नाम है.

भारत सरकार ने 2015 में सैंकड़ों पॉर्न साइट्स को ब्लॉक किया था. सरकार का कहना था कि बच्चों को इससे दूर रखने के लिए ऐसा किया गया है.

लेकिन 2 हफ़्ते बाद ही विरोध को देखते हुए इस फ़ैसले को वापस ले लिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे