प्रेस रिव्यू: गांव वालों को बंदूक दिखाकर भागे थे सलमान ख़ान

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदुस्तान में छपी ख़बर, के मुताबिक, काले हिरण का शिकार करने के बाद सलमान ख़ान गांव के लोगों को बंदूक दिखाते हुए भागे थे.

गवाहों के हवाले से अख़बार ने ये दावा किया है. हिरण को मारने के बाद जब सलमान भागने लगे तो गांव के कुछ लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए बाइक से उनकी जिप्सी का पीछा भी किया. खुद को घिरता देख कर सलमान ने अपनी बंदूक का निशाना गांव वालों की ओर किया और वहां से भाग गए.

इस तरह गांव वाले सलमान को पकड़ तो नहीं पाए, लेकिन उन्होंने उनकी जिप्सी का नंबर ज़रूर नोट कर लिया था.

मृत पाया गया आगज़नी का अभियुक्त दलित

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

इंडियन एक्सप्रेस में मेरठ में एक दलित युवक की हत्या की ख़बर छपी है. अख़बार के मुताबिक, दो अप्रैल के भारत बंद के बाद सोशल मीडिया में एक लिस्ट चल रही थी जिसमें मेरठ से सटे शोभापुर के कुछ दलितों के नाम थे और कहा जा रहा था कि इन्होंने भारत बंद के दौरान तोड़फोड़ और आगज़नी की है.

काले हिरण में ऐसा क्या है कि सलमान की जान फंसी है?

इस लिस्ट में 83 लोगों के नाम थे और पहला नाम था 28 साल के दलित युवक गोपी परिया का. इसके तीन दिन बाद गोपी की लाश मिली है. गोपी बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ता भी थे. पुलिस अब रहस्यमय तरीके से हुई इस हत्या की जांच कर रही है.

आधार को लिंक कराने पर सवाल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदुस्तान टाइम्स में ख़बर छपी है कि सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के उन दावों पर सवाल उठाए हैं जिनमें कहा है कि आधार के ज़रिए बैंक फ़्रॉड रोके जा सकते हैं. कोर्ट ने ये भी पूछा है कि बैंक खातों को आधार से जोड़ने से क्या फ़ायदा होगा.

'दलित अपनी सुरक्षा को लेकर सड़कों पर उतरे हैं'

जस्टिस एके सीकरी ने कहा है कि बैंक फ़्रॉड मल्टिपल आइडेंटिटीज़ की वजह से नहीं होते बल्कि इसलिए होते हैं क्योंकि बैंक जानबूझकर ऐसे लोगों को लोन दे देते हैं जो उसे कभी चुकाते ही नहीं, बैंक फ़्रॉड इसलिए होते हैं क्योंकि बैंकों की कुछ ख़ास ग्राहकों के साथ क़रीबी रिश्ते होते हैं.

एक ही सीट से लड़े एक प्रत्याशी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दैनिक भास्कर में ख़बर छपी है कि चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि एक ही उम्मीदवार के दो सीटों से चुनाव लड़ने पर रोक लगनी चाहिए.

आधार ने इन ग़रीबों की ज़िंदगी की नींव हिला दी

आयोग ने ये भी कहा है कि अगर दोनों सीटें जीतने के बाद एक सीट खाली करता है तो उससे दूसरे सीट के उपचुनाव का खर्चा वसूला जाना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)