"मोदी के डर से सांप, नेवले, कुत्ते, बिल्ली सभी साथ मिल गए हैं"

  • 6 अप्रैल 2018
भारतीय जनता पार्टी, 38वां स्थापना दिवस, भाजपा, बीजेपी, अमित शाह, भाजपा की रैली इमेज कॉपीरइट FACEBOOK @AmitShah.Official

भारतीय जनता पार्टी के 38वें स्थापना दिवस पर मुंबई में एक जनसभा को संबोधित करते हुए पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में दोबारा सत्ता हासिल करने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया के सपने को पूरा करने में मदद करने की शपथ दिलाई.

अमित शाह ने कहा कि लोकसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है और कार्यकर्ताओं से गांव-गांव जाकर लोगों को मोदी सरकार की उपलब्धियां बताने की अपील की.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "देश की जनता को मोदी के नेतृत्व में पूरा भरोसा है, 2019 में फिर से एक बार हम प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे."

उन्होंने कहा, "हम अगला चुनाव नारों और खोखले चुनावी भाषणों के दम पर नहीं, बल्कि सरकार की उपलब्धियों के दम पर लड़ना चाहते हैं."

भाजपा: अटल-आडवाणी से लेकर मोदी-शाह तक

यूं ही नहीं कोई अमित शाह हो जाता है

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK @AmitShah.Official
Image caption अमित शाह

"सांप, नेवला सब मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं"

अमित शाह ने कहा, "ये भारतीय जनता पार्टी का स्वर्ण काल नहीं है, भाजपा का स्वर्ण काल तब आएगा जब पश्चिम बंगाल, ओडिशा और 2019 में भाजपा की सरकार बनेगी.

इस दौरान उन्होंने एकजुट हो रहे विपक्ष का मजाक भी उड़ाया.

उन्होंने कहा, "मोदी जी की जो बाढ़ आई है, उसके डर से सांप, बिल्ली, नेवला सब मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं."

उन्होंने कहा ,"साल 2014 से मोदी एक बाढ़ लाए हैं. तबसे कांग्रेस 11 राज्यों से बेदखल हो चुकी है और भाजपा हर राज्य में जीती है. अब सभी दल उनके ख़िलाफ़ एक होकर चुनाव लड़ने का प्रयास कर रहे हैं."

'मोदी सोचते हैं और शाह कर डालते हैं'

महागठबंधन बना तो होगा कितना दमदार

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK @AmitShah.Official

'आरक्षण कभी खत्म नहीं होने देगी भाजपा'

अमित शाह ने कहा कि दलितों की भावनाओं को आहत करने के लिए विपक्ष झूठे बयान दे रहा है.

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ इस समुदाय के लोग भारत बंद का आह्वान करते हुए सड़कों पर उतरे और उस दौरान राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, "हजारों दलित भाई-बहन आज सड़कों पर उतरकर मोदी सरकार से अपने अधिकारों की रक्षा की माँग कर रहे हैं."

इस पर अमित शाह ने कहा कि भाजपा देश में आरक्षण कभी खत्म नहीं करेगी और किसी अन्य दल के ऐसा करने की कोशिश करने पर इसका विरोध करेगी.

उन्होंने कहा, "राहुल गांधी कहते हैं भाजपा ने एससी-एसटी एक्ट को खत्म कर दिया. भाजपा कभी आरक्षण को हटाने वाली नहीं है और इतना ही नहीं राहुल जी, अगर आप हटाओगे तो भी भाजपा आपको हटाने नहीं देगी, ये हमारा कमिटमेंट है."

दलित आंदोलन पर सरकार की 4 बड़ी ग़लतियां

महा जाम में घिरे मुंबईकर

भाजपा के स्थापना दिवस का यह कार्यक्रम मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स के पास एमएमआरडीए मैदान में आयोजित किया गया.

इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दौरान हज़ारों की संख्या में कार्यकर्ता और आम जनता पहुंची. लेकिन इसकी वजह से मुंबई के लोगों को ट्रैफिक जाम की समस्या से जूझना पड़ा.

शहर के कई इलाकों से ट्रैफिक जाम की ख़बर मिली. इनमें वेस्टर्न एक्स्प्रेस हाईवे, कुर्ला और बांद्रा टर्मिनस के आसपास के आसपास के इलाके शामिल हैं.

सीरियस अमित शाह बातों बातों में जब हंसा गए

अमित शाह की चूक पर राहुल गांधी की चुटकी

'सोच कर आई थी अमित शाह से मुलाक़ात होगी'

उधर रैली में कई लोग ऐसे भी पहुंचे जो इस आस से यहां आए थे कि अमित शाह से मिलकर उन्हें अपना दुखड़ा बताएं. लेकिन उन्हें निराशा ही हाथ लगी.

रज़िया मुंबई के मनखुर्द इलाके से इस रैली में अमित शाह से मिलने और अपनी समस्याओं को सुनाने पहुंची थीं. वो यहां भाजपा की एक स्थानीय महिला नेता के साथ आई थीं.

उन्होंने बीबीसी संवाददाता जान्हवी मूले को बताया, "मैं यह सोच कर आई थी कि अमित शाह जी से मुलाकात होगी और मैं उन्हें अपनी समस्याओं, जैसे पानी की कमी, बेरोज़गारी वगैरहके बारे में बताऊंगी लेकिन उनसे मुलाक़ात नहीं हुई."

भाजपा के 38वें स्थापना दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने महाराष्ट्र के अन्य ज़िलों से भी लोग पहुंचे थे.

Image caption संतोष गवले

रैली में बुलढाणा ज़िले से पहुंचे एक अन्य व्यक्ति संतोष गवले ने बीबीसी से कहा, "हम यहां बहुत सवेरे ही ट्रेन से पहुंच गए थे और तभी से यहां मैदान में बैठे हैं. हमने गडकरी और फडणवीस को सुना. हमने लंच किया है और अब चौपाटी जा रहे हैं. हमने कभी समुद्र नहीं देखा है."

कितना अलग है राहुल और शाह के काम करने का तरीका?

क्या नरेंद्र मोदी संघ के 'मिशन 2025' को पूरा कर देंगे

मोदी की राह पर ही चल पड़े हैं अमित शाह भी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए