भारत के चुनावों पर क्या बोले फ़ेसबुक प्रमुख मार्क ज़करबर्ग?

  • 11 अप्रैल 2018
फ़ेसबुक, मार्क ज़करबर्ग इमेज कॉपीरइट Getty Images

डेटा से छेडछाड़ के आरोपों का सामना कर रही कंपनी फ़ेसबुक के प्रमुख मार्क ज़करबर्ग अपना पक्ष रखने और सवालों के जवाब देने के लिए अमरीकी सीनेटरों के सामने पेश हुए.

ज़करबर्ग ने सांसदों के सामने माना कि उनसे ग़लती हुई क्योंकि वो राजनीतिक उद्देश्यों के लिए फ़ेसबुक के डेटा के इस्तेमाल को रोकने के लिए पर्याप्त क़दम नहीं उठा सके.

उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी में बड़े स्तर का बदलाव लाया जा रहा है और वो इस बात की तह तक जाएंगे कि राजनीतिक फ़ायदे के लिए किस तरह फ़ेसबुक के डेटा का इस्तेमाल किया गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पूछताछ के दौरान ज़करबर्ग ने भारत का भी ज़िक्र किया.

हुआ भारत का भी ज़िक्र

जब एक महिला सीनेटर फिनस्टिन ने ज़करबर्ग से पूछा कि वे अमरीकी चुनाव बाहरी तत्वों से प्रभावित न हों इसके लिए क्या कर रहे हैं? तो इस सवाल के जवाब में ज़करबर्ग ने कहा कि 'साल 2018 में यह उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता है. साल 2018 चुनावों के लिहाज़ से काफ़ी अहम है. सिर्फ़ अमरीका के लिए नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए. भारत, ब्राज़ील, मैक्सिको, पाकिस्तान और हंगरी सभी के लिए यह साल चुनावों के लिहाज़ से अहम है. हम वो सबकुछ करने की कोशिश करेंगे जिससे इन मुल्क़ों में होने वाले चुनावों की अखंडता को बनाया जा सके.'

फिनस्टिन ने ज़करबर्ग से पूछा कि वो क्या कदम होंगे जो वो उठाएंगे.... तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि फ़ेक अकाउंट्स की पहचान की जा सके इसकी बेहतरी के लिए काम किया जाएगा. साथ ही भड़काऊ बयानों के संदर्भ में भी सतर्कता रखी जाएगी.

ज़करबर्ग ने ये भी कहा कि फ़ेसबुक रूस द्वारा डेटा से छेड़छाड़ की कोशिशों का लगातार सामना कर रहा है. उन्होंने रूस के इस कथित हस्तक्षेप की तुलना हथियारों की होड़ से की. उन्होंने कहा, "ये हथियारों की रेस है. वो लगातार बेहतर भी हो रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ज़करबर्ग कैंब्रिज एनालिटिका डेटा स्कैंडल के बाद की परिस्थितियों में उठ रहे सवालों के जवाब दे रहे हैं.

उन्होंने अपने जवाब में ये भी बताया कि 2016 के अमरीकी चुनाव में रूसी दख़ल की जांच करने वाले स्पेशल काउंसिल रॉबर्ट म्यूलर ने भी फ़ेसबुक स्टाफ़ से पूछताछ की है. हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट किया है कि उनसे कोई पूछताछ नहीं हुई है.

ज़करबर्ग ने ये भी बताया कि उनके स्टाफ़ से जो पूछताछ हुई है वो गोपनीय है और इसके बारे में वे कोई जानकारी नहीं देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे