प्रेस रिव्यू: पेड़ से लटकी मिली नाबालिगों की लाशें, घरवालों को हत्या का शक़

  • 16 अप्रैल 2018
रेप विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट SAJJAD HUSSAIN/AFP/Getty Images

टेलीग्राफ़ अख़बार की एक रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि कठुआ रेप केस के अभियुक्तों को बड़े पदों पर बैठे लोगों से संरक्षण मिलने का संदेह है.

अख़बार ने एक नई तस्वीर का हवाला दिया है जिसमें जम्मू के स्थानीय संगठन 'हिंदू एकता मंच' के नेताओं के साथ मोदी सरकार के मंत्री जितेंद्र सिंह से मिलती-जुलती शक्ल वाला एक शख़्स दिखाई दे रहा है.

अख़बार ने वो तस्वीर भी प्रकाशित की है. टेलीग्राफ़ अख़बार का कहना है कि जितेंद्र सिंह बीजेपी के उन सीनियर नेताओं में से हैं जिन्होंने कठुआ रेप केस की सीबीआई से जांच कराने की प्रदर्शनकारियों की मांग का समर्थन किया था. अख़बार के मुताबिक़ उन्होंने पिछले महीने राज्य सरकार से प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए भी कहा था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सिद्धारमैया

द हिंदू ने कर्नाटक विधान सभा चुनाव से जुड़ी ख़बर को प्रमुखता दी है.

अख़बार लिखता है कि आगामी विधानसभा चुनावों के तहत कांग्रेस ने दिल्ली में तीन दिन की माथा-पच्ची के बाद 218 कैंडिडेट्स के नाम की घोषणा कर दी है.

सिद्धारमैया सिर्फ़ एक सीट से चुनाव लड़ेंगे.

इंडियन एक्सप्रेस ने बाड़मेर में तीन नाबालिगों की मौत और उनके पेड़ से लटके मिले शवों की ख़बर को प्रमुखता से प्रकाशित किया है.

अख़बार लिखता है कि बाड़मेर ज़िले के सुदूर गांव 'स्वरूप का ताला' में दो दिन पहले पेड़ से तीन लाशें लटकती हुई पाई गईं.

ये लाशें दो दलित लड़कियों और एक मुस्लिम लड़के की थीं. अख़बार लिखता है कि इन मौतों ने कई सवालों को जन्म दिया है.

एक ओर जहां पुलिस लड़कियों की मौत को आत्महत्या बता रही है, वहीं लड़कियों के घर वालों का आरोप है कि उनकी हत्या की गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने गोल्डकोस्ट में आयोजित हुए राष्ट्र मंडल खेलों की समाप्ति और खेलों में भारत के प्रदर्शन की ख़बर को छापा है.

पदक तालिका में भारत 66 मेडल के साथ तीसरे स्थान पर रहा. भारत ने कुल 26 गोल्ड, 20 सिल्वर और 20 कांस्य पदक जीते.

दैनिक हिंदी समाचार पत्र हिंदुस्तान ने कठुआ और उन्नाव रेप मामलों को लेकर हुए देशव्यापी प्रदर्शन की ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

अख़बार लिखता है कि देश में एक बार फिर 'निर्भया' जैसा गुस्सा देखने को मिला. सड़कों पर प्रदर्शन के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी लोगों का गुस्सा देखने को मिला.

दैनिक जागरण ने पाकिस्तान में तीर्थयात्रियों को भारतीय राजनयिकों से नहीं मिलने देने की ख़बर को पहले पन्ने पर छापा है.

अख़बार लिखता है कि भारतीय राजनयिकों के प्रति पाकिस्तान की नापाक हरकतें जारी हैं.

अब उसने पाकिस्तान पहुंचे सिख तीर्थयात्रियों को भारतीय राजनयिकों से मिलने से रोक दिया.

साथ ही भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को गुरुद्वारा जाने से रोका गया. विदेश मंत्रलय ने इस पर सख्त विरोध जताया है.

अमर उजाला ने यमुना एक्सप्रेस वे पर चलती कार में गैंगरेप की घटना को प्रमुखता से छापा है.

अख़बार लिखता है कि 120 किमी के एक्सप्रेस-वे पर घंटों दरिंदगी होती रही लेकिन कहीं भी पुलिसकर्मी दिखाई नही दिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए