मां-बाप ने 'बेटी के रेपिस्ट से लिए पैसे' क्योंकि...

  • 18 अप्रैल 2018
सांकेतिक तस्वीर इमेज कॉपीरइट iStock

एक लड़की किडनैप की जाती है, उसका गैंग रेप होता है, मामला पुलिस के पास पहुंचता है, संदिग्ध पकड़े जाते हैं.

लेकिन जांच चल ही रही थी कि इस केस में अचानक एक नया मोड़ आ गया. अब पीड़िता ने अपने ही मां-बाप पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

नाबालिग पीड़िता पुलिस के पास एक बार फिर शिकायत लेकर पहुंची कि उसके मां-बाप ने अभियुक्त से इस मामले में लड़की का बयान बदलवाने के लिए पैसे लिए हैं.

सितंबर 2017 में दिल्ली में इस नाबालिग लड़की को अगवा कर उसके साथ रेप किया गया था.

कठुआ रेप केस में कौन है पीड़िता की वकील?

मां गिरफ़्तार, पिता फरार

दिल्ली पुलिस ने कहा कि लड़की की मां को गिरफ़्तार कर लिया गया है और उनके पिता की तलाश की जा रही है. पुलिस का कहना है कि वो फिलहाल फरार हैं.

ये नया मामला तब सामने आया जब लड़की 5 लाख रुपये के नोटों के साथ पुलिस थाने पहुंची. पीड़िता के मुताबिक़ ये पैसे उसके माता-पिता ने अभियुक्त से लिए थे.

पुलिस उपायुक्त एमएन तिवारी ने बीबीसी को बताया, "हमारा मानना है कि अभियुक्त ने पैसे देकर पीड़िता के माता-पिता से मामले को निपटाने की कोशिश की है."

"नाबालिग को इस मामले की जानकारी थी, साथ ही उसे यह पता था कि उसके माता-पिता ने पैसे कहां छुपा रखे हैं. पिता की गिरफ़्तारी के बाद ही और अधिक पता चलेगा."

कठुआ और उन्नाव बाकी रेप मामलों से अलग कैसे?

स्कूल से घर लौट बच्ची ने बताई यौन उत्पीड़न की कहानी

इमेज कॉपीरइट FB @mahendraNathtiwariIPS
Image caption पुलिस उपायुक्त एमएन तिवारी

अंतरिम ज़मानत

पुलिस ने लड़की के माता-पिता और कथित अभियुक्त के ख़िलाफ़ नया मामला दर्ज किया है. इस मामले में पहला केस सितंबर में दर्ज किया गया था.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक पीड़िता ने बताया कि 2017 में उसके साथ दो लोगों ने रेप किया था, जिसके बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया.

लेकिन उनमें से एक अंतरिम जमानत पर बाहर आ गया.

इसके बाद उसने लड़की के माता-पिता से संपर्क किया और उन्हें 20 लाख रुपये का लालच दिया ताकि वो अपनी बेटी को बयान बदलने और मामला वापस लेने के लिए मना सकें.

डेक्कन क्रोनिकल के मुताबिक पीड़िता अपने पड़ोसी की मदद से पुलिस तक पहुंची.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

यौन हिंसा

2012 में राजधानी दिल्ली में एक चलती बस में एक 23 वर्षीय युवती के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के बाद से यौन हिंसा के मामले दर्ज करवाने के लिए आगे आने वालों की संख्या में तेज़ी आई है.

इसके बाद कई दिनों तक देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन चलते रहे जिसके चलते सरकार ने रेप की सज़ा के क़ानूनों में बदलाव करते हुए इसे और कठोर बना दिया.

हालांकि, देश भर में महिलाओं और बच्चों के ख़िलाफ़ यौन हिंसा के मामलों को रिपोर्ट करने की तादाद बढ़ती जा रही है.

कुछ दिनों पहले ही जम्मू के कठुआ में एक आठ वर्षीय बच्ची के साथ रेप के बाद हत्या कर दी गई तो उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक युवती से रेप के बाद उसके पिता की पुलिस हिरासत में हुई मौत को लेकर देश में कई जगहों पर लोग बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन करने सड़कों पर उतरे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार