तेलंगाना में 700 साल के बीमार पेड़ को चढ़ाई गई ‘ड्रिप’

  • 20 अप्रैल 2018
बरगद का पेड़
Image caption यह बरगद का पेड़ क़रीब तीन एकड़ में फैला हुआ है

दक्षिण भारत के तेलंगाना राज्य में 700 साल पुराना बरगद का पेड़ है जिसे एक ख़ास तरीके की 'ड्रिप' की बोतलें चढ़ाई गई हैं.

इन बोतलों में एक विशेष कीटनाशक है जो कीड़ों को दूर रखने के लिए है. यह पेड़ लगभग तीन एकड़ में फैला हुआ है और ऐसा माना जाता है कि यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पेड़ है.

दीमकों से बचाने की कोशिश

यह लोकप्रिय पर्यटक स्थल है और अधिकारी इस पेड़ को दीमकों से बचाने की कोशिश कर रहे हैं.

जड़ों को भी पाइपों के ज़रिए बांध दिया गया है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जाए.

सरकारी अधिकारी पांडुरंगा राव ने बीबीसी से कहा, "हमने शाखों के आसपास सीमेंट प्लेट लगाने जैसी व्यवस्था की है ताकि पेड़ को गिरने से रोका जा सके."

Image caption पेड़ दीमकों से खासा प्रभावित है

उन्होंने आगे कहा कि उर्वरक और खाद भी मुहैया कराया जा रहा है.

स्थानीय मीडिया से एक दूसरे कर्मचारी ने कहा, "हमने सोचा कि प्रभावित हिस्सों में पानी में मिला हुआ कीटनाशक अगर बूंद-बूंद करके डालेंगे तो उसमें नमकीन ड्रिप मदद कर सकता है."

प्रशासन ने पिछले साल दिसंबर में देखा कि पेड़ की शाखें टूट रही हैं, जिसके कारण उन्हें उस क्षेत्र में पर्यटकों को प्रतिबंधित करना पड़ा.

वन अधिकारियों ने स्थानीय मीडिया से कहा कि पेड़ बुरी तरह से दीमक की चपेट में आ गया है. उनका आगे कहना था कि कई पर्यटक पेड़ की डालों का झूले के लिए इस्तेमाल करते थे जिसके कारण वे मुड़ गईं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मेघालय में पेड़ों के पुल

भारतीय बरगद के पेड़ तेज़ी से बढ़ने और मज़बूत जड़ों के लिए जाने जाते हैं. वे इतनी तेज़ी से बढ़ते हैं कि उनकी जड़ें शाखों से गिरती हैं ताकि पेड़ को अतिरिक्त सहारा मिल सके.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे