सुषमा ने बताया कब मिलेंगे मोदी- जिनपिंग

  • 22 अप्रैल 2018
सुषमा स्वराज और वांग यी इमेज कॉपीरइट MADOKA IKEGAMI/AFP/Getty Images

शंघाई कॉर्पोरेशन ऑर्गानाइज़ेशन (एससीओ) की बैठक के लिए चीन की यात्रा पर गई भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को चीन के बीजिंग में चीनी विदेश मंत्री वांग यी से मुलाक़ात की है.

दोनों नेताओं के बीच द्वीपक्षीय रिश्तों को बेहतर बनाने और आपसी हितों से संबंधित क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा हुई

मुलाक़ात के बाद साझा प्रेस वार्ता में सुषमा स्वराज ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने की 27 और 28 तारीख को चीन जाएंगे और वूहान में अनौपचारिक शिखर वार्ता में शिरकत करेंगे. उन्होंने कहा कि वो इस दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाक़ात करेंगे.

क्या अपने घर में चीन मना पाएगा सुषमा-निर्मला को?

वूहान में होने वाली इस बैठक में दोनों देशों के बीच विश्व में हो रहे बदलावों के मद्देनज़र भारत और चीन के संबंध और विश्व में शांति स्थापित करने में अपने दायित्व के बारे में चर्चा होगी.

इससे पहले ये जानकारी थी कि प्रधानमंत्री इस साल जून में एससीओ के राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में शामिल होने चीन जाने वाले थे.

सिर तक आ गई चीन की सड़क तो क्या करेगा भारत?

नए सिल्क रूट में चीन का हमसफ़र बना नेपाल

इमेज कॉपीरइट DIPTENDU DUTTA/AFP/Getty Images

सुषमा स्वराज ने ये भी बताया कि चीन के साथ इस बात की सहमति बन गई है कि नाथुला से होते हुआ इस साल कैलाश मानसरोवर की यात्रा फिर से शुरू होगी और इस साल यहां से यात्रा का आयोजन किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि चीन ने 2018 में फिर से सतलुज और ब्रह्मपुत्र नदी से जुड़े डेटा को भारत के साथ साझा करने में सहमत हुआ है. इससे नदी में बाढ़ आने के संबंध में अनुमान लगाना आसान हो जाता है.

इमेज कॉपीरइट HANNAH MCKAY/AFP/Getty Images

दोनों देशों में इस बात पर भी सहमति बनी है कि विकास के लिए ज़रूरी है कि सीमा पर शांति बनी रहे और विवाद ना पैदा हों.

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने भारत के एससीओ में भारत की सदस्यता का स्वागत किया और उम्मीद जताई कि दोनों देशों के बीत संबंध और बेहतर होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे