मोदी जी को सिर्फ़ मोदी जी में दिलचस्पी है: राहुल गांधी

तालकटोरा में बोलते हुए राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट @INCIndia

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से कांग्रेस के 'संविधान बचाओ अभियान' की शुरुआत कर दी.

इस राष्ट्रव्यापी अभियान का मक़सद मोदी राज के दौरान महिलाओं, अल्पसंख्यकों, दलितों और संविधान पर हो रहे कथित हमलों पर लोगों का ध्यान खींचना है.

अपने भाषण में राहुल ने नरेंद्र प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा और कहा कि "मोदी जी को सिर्फ़ मोदी जी में दिलचस्पी है."

नरेंद्र मोदी के हालिया बयान पर तंज़ करते हुए राहुल ने कहा कि "मोदी जी ने अपने मंत्रियों और पार्टी के लोगों से कहा है कि तुम लोग मीडिया को मसाला देते हो, चुप हो जाओ. देश सिर्फ़ मेरे मन की बात सुनेगा. संसद नहीं बोलेगी, एमपी नहीं बोलेंगे, जेटली नहीं बोलेंगे, गडकरी नहीं बोलेंगे, सिर्फ़ नरेंद्र मोदी बोलेगा और अपने मन की बात बोलेगा."

इमेज कॉपीरइट @INCIndia

'मोदी को सिर्फ़ प्रधानमंत्री बनने में रूचि है'

राहुल ने आगे कहा कि इस देश में दलितों के ख़िलाफ़ अत्याचार बढ़ता जा रहा है. महिलाओं और बच्चियों पर बलात्कार हो रहे हैं. अल्पसंख्यकों पर हमले हो रहे हैं, लेकिन कोई कुछ नहीं बोल रहा.

राहुल के मुताबिक़, "इस सरकार ने विदेश में भारत की साख को ख़त्म कर दिया है. अभी मोदी जी बाहर गए और आईएमएफ़ चीफ़ ने कहा कि 'मोदी जी आप महिलाओं की मदद नहीं कर रहे हैं. 70 साल में आज तक किसी पीएम से ऐसी बात नहीं कही गई. महिलाओं, दलितों पर अत्याचार हो, बच्चियों के साथ रेप हो लेकिन मोदी को सिर्फ़ प्रधानमंत्री बनने में रुचि है."

बीजेपी के 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' के नारे पर तंज़ कसते हुए राहुल ने कहा कि "अब नया नारा है बेटी बचाओ और किससे बचाओ - बीजेपी से बचाओ. सरकार हिंदुस्तान की बेटियों को नहीं बचाएगी - मां-बाप को बचाना होगा."

इमेज कॉपीरइट @INCIndia

'मोदी संसद में खड़े होने से घबराते हैं'

राहुल ने सरकार पर आरोप लगाया कि "वो जानबूझकर संसद को काम नहीं करने दे रहे. आमतौर पर विपक्ष ये काम करता है लेकिन ये पहली बार है कि सरकार ने संसद को बंद कर रखा है क्योंकि नरेंद्र मोदी संसद में खड़े होने से घबराते हैं."

राहुल ने चुनौती देने के अंदाज़ में कहा कि "मेरी 15 मिनट संसद में बात करा दो, मैं राफेल, नीरव मोदी की बात करूंगा, आप देखना मोदी जी खड़े नहीं रह पाएंगे."

उन्होंने आरोप लगाया कि "सरकार ने युवाओं से झूठ बोला और उन्हें कहा कि दो करोड़ युवाओं को रोज़गार देंगे. लेकिन नोटबंदी लाकर उन्होंने अर्थव्यवस्था की धज्जियां उड़ा दीं और छोटे कारोबारी और किसान को ख़त्म कर दिया."

राहुल के मुताबिक़ "इस देश में दलितों, महिलाओं और गरीबों की रक्षा संविधान करता है और हम बीजेपी या आरएसएस को इस संविधान को छूने नहीं देंगे."

राहुल ने कहा कि "2019 में जनता मोदी जी को अपने मन की बात बताएगी. जनता जहां-जहां आंदोलन करेगी, वहां-वहां कांग्रेस का झंडा दिखाई देगा."

ये भी पढ़ें:

'संविधान बचाने' की मुहिम में उतरी कांग्रेस भी बेदाग नहीं

पीएम मोदी की सांसदों को नसीहत में क्या चिंता छिपी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)