महाभियोग पर कांग्रेस ने अपनी ही किरकिरी करा ली?

ग़लाम नबी आज़ाद इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के ख़िलाफ़ विपक्ष के महाभियोग के नोटिस को राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की तरफ़ से अस्वीकार किए जाने के बाद कांग्रेस की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं.

कई लोगों को लगता है कि कांग्रेस ने जल्दबाज़ी में अपनी ही किरकिरी करा ली.

कई ऐसी बातें सामने आई हैं जिनसे साफ़ होता है कि कांग्रेस ने महाभियोग का नोटिस देने में गंभीरता नहीं दिखाई.

इस महाभियोग नोटिस पर कांग्रेस समेत सात दलों के 71 सांसदों के हस्ताक्षर थे. अब जो बात सामने आई है उससे पता चला है कि इनमें से सात रिटायर्ड सांसदों के भी हस्ताक्षर थे.

आख़िर ऐसा क्यों हुआ? वरिष्ठ पत्रकार विनोद शर्मा का कहना है कि महाभियोग पर पहले से ही सांसदों हस्ताक्षर करा लिए गए थे.

अब ऐसे में सवाल उठता है कि पहले हस्ताक्षर करा लिए गए थे तो उपराष्ट्रपति को सौंपते यह क्यों नहीं देखा गया कि इसमें रिटायर्ड सांसदों के भी हस्ताक्षर हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीजेपी का कहना है कि पहले से तैयार नोटिस को जज लोया पर आने वाले फ़ैसले तक इंतजार किया गया.

बीजेपी प्रवक्ता अमन सिन्हा का कहना है कि जब कांग्रेस को लगा कि जज लोया पर जस्टिस दीपक मिश्रा वाली बेंच का फ़ैसला उनके पक्ष में नहीं है तो उपराष्ट्रपति को महाभियोग को नोटिस थमा दिया.

सिन्हा का कहना है कि ऐसे में शक होना लाज़िमी है कि कांग्रेस बदले की भावना से काम कर रही है.

क्या कांग्रेस ने जिस वक़्त महाभियोग का नोटिस दिया उससे शक होता है?

देश के जाने-माने क़ानूनविद फली नरीमन ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में कहा है कि जस्टिस दीपक मिश्रा के ख़िलाफ़ महाभियोग का नोटिस सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में एक काला दिन है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फली नरीमन ने कहा कि उनकी 67 साल की उम्र में ऐसा कभी नहीं हुआ. उन्होंने इस इंटरव्यू में कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाला जस्टिस दीपक मिश्रा का विरोध सुप्रीम कोर्ट के चार जज जस्टिस चेमलेश्वर, जस्टिस रंजन गगोई, कुरियन जोसेफ और मदन लोकुर की लाइन से बिल्कुल अलग था.

नरीमन का कहना है कि उन चार जजों का विरोध बिल्कुल अलग था. उन्होंने कहा कि महाभियोग अति गंभीर क़दम है और उसे साबित करने के लिए आपके पास ठोस सबूत होने चाहिए.

कांग्रेस के भीतर भी इस महाभियोग को लेकर एक मत नहीं था. महाभियोग नोटिस के समर्थन में हस्ताक्षर किए गए सांसदों की सूची में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के नाम नहीं थे.

यूपीए सरकार में क़ानून मंत्री रहे सलमान खुर्शीद, अश्विनी कुमार और वीरप्पा मोइली के भी नाम नहीं थे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल का कहना है कि चिदंबरम के ख़िलाफ़ अदालत में मामले चल रहे हैं इसलिए उन्होंने हस्ताक्षर नहीं किए थे.

ऐसे में सवाल उठता है कि कांग्रेस इतना अहम क़दम उठाने जा रही थी तो पार्टी के भीतर सीनियर नेताओं की राय क्यों बंटी हुई थी?

वरिष्ठ पत्रकार विनोद शर्मा कहते हैं, ''इसमें जो भी तथ्य हैं वो सामने हैं. हमें उन तथ्यों के आधार पर ही आकलन करना है. यह मामला इतना संवेदनशील है कि हर चीज़ काफ़ी जटिल लगती है.''

विनोद शर्मा कहते हैं, ''कांग्रेस महाभियोग का नोटिस स्वीकार नहीं किए जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने जा रही है. अगर इस केस की सुनवाई भी जस्टिस दीपक मिश्रा की ही बेंच करती है तो एक संकट की स्थिति पैदा होगी. आख़िर कोई अपने ही ख़िलाफ़ केस की सुनवाई कैसे कर सकता है? सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने जस्टिस दीपक मिश्रा पर कई तरह के संदेह ज़ाहिर किए हैं. इसके साथ ही जजों की नियुक्ति पर कॉलेजियम की सिफ़ारिशों को सरकार मंज़ूरी नहीं दे रही है. इतना कुछ चल रहा है ऐसे में विपक्षी पार्टियों का शक होना लाजिमी है. अब हमें ये देखना है कि मामले को कैसे सुलझाया जाए.''

इमेज कॉपीरइट NALSA.GOV.IN

शर्मा ने कहा, ''जस्टिस चेमलेश्वर ने साफ़ कहा है कि अगर जस्टिस गोगोई को सुप्रीम कोर्ट का मुख्य न्यायधीश नहीं बनाया जाता है तो उनकी शंकाएं सही साबित होंगी.''

जजों की नियुक्ति पर कॉलेजियम की सिफ़ारिशों को लेकेर जस्टिस कुरियन ने भी सीजेआई को चिट्ठी लिखी है. सरकार का कहना है कि सीजेआई को इस बारे में बता दिया गया है. हालांकि जजों का कहना है कि सरकार के जवाब को सीजेआई ने उन लोगों से साझा नहीं किया है.

विनोद शर्मा का कहना है कि सीजेआई के ख़िलाफ़ जिस तरह के संदेह सामने आ रहे हैं उसमें विपक्ष के पास बहुत विकल्प नहीं थे. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के भीतर से जैसी चीज़ें सामने आ रही हैं उससे सबको चिंता हो रही है.

शर्मा ने कहा कि वेंकैया नायडू ने विपक्ष के महाभियोग के नोटिस को जल्दबाजी में ख़ारिज किया है. उनका कहना है कि सीजेआई पर महाभियोग के आरोप में कितना दम है इसकी जांच करने के लिए पैनल बनाई जाती है पर उपराष्ट्रपति ने तो नोटिस ही स्वीकार नहीं किया.

हालांकि फली नरीमन ने नायडू के क़दम को सही बताया है. महाभियोग नोटिस ख़ारिज किए जाने के बाद उन्होंने कहा, ''सीजेआई के ख़िलाफ़ महाभियोग लाने के लिए कोई ठोस वजह नहीं थी और ऐसे में इसे अस्वीकार किया जाना सही क़दम है. वहीं कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने कहा, ''सुप्रीम कोर्ट को कुचला जा रहा है, दबाया जा रहा है. पहली बार चार जज हिन्दुस्तान की जनता से न्याय मांग रहे हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे