एक ऐसा गांव जहां हर घर के सामने क़ब्र है

हर घर के आगे कब्र वाला गांव इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

इस गांव में पहुंचते ही लोगों के दिमाग़ में एक प्रश्न कौंधता है कि 'क्या वो किसी क़ब्रिस्तान में आ गए हैं जहां कई घर हैं, या उस गांव में जो क्रबिस्तान से अटा पड़ा है.'

आंध्र प्रदेश के कुरनूल ज़िले में अय्या कोंडा एक ऐसा गांव है, जहां हर घर के सामने एक क़ब्र है.

अय्या कोंडा कुरनूल ज़िला मुख्यालय से 66 किलोमीटर दूर गोनेगंदल मंडल में एक पहाड़ी पर बसा है.

जब अंधविश्वास से लड़कर डॉक्टर ने बचाई महिला की जान

क्या अंधविश्वास हमारे लिए जानलेवा बनता जा रहा है?

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

हर घर के सामने क़ब्र

मालादासरी समुदाय के कुल 150 परिवारों वाले इस गांव के लोग अपने सगे संबंधियों की मौत के बाद उनके शव को घर के सामने दफ़न करते हैं क्योंकि यहां कोई क़ब्रिस्तान नहीं है.

इस गांव के हर घर के सामने एक या दो क़ब्र देखने को मिलती हैं. गांव की महिलाओं और बच्चों को अपनी दिनचर्या के लिए भी इन्हीं क़ब्रों से होकर गुजरना पड़ता है.

यहां माहवारी के दौरान महिला को काटती है मधुमक्खी?

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

महिलाएं इन्हें पार कर पानी लेने जाती हैं तो बच्चे इनके इर्दगिर्द खेलते हैं.

ग्रामीणों का कहना है कि ये क़ब्र उनके पूर्वजों की हैं जिनकी वो रोज पूजा करते हैं, प्रसाद चढ़ाते हैं और अपने रिवाज़ों का पालन करते हैं.

घर में पकाया जाने वाला खाना परिवार के सदस्य तब तक नहीं छूते जब तक उसे मृतकों की क़ब्र पर चढ़ाया नहीं जाता है.

चोटी चोर 'डायन' समझ मारपीट, महिला की मौत

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

इन क़ब्रों की क्या है कहानी?

इस रिवाज के बारे में गांव के सरपंच श्रीनिवासुलु ने बीबीसी से कहा, "आध्यात्मिक गुरु नल्ला रेड्डी और उनके शिष्य माला दशारी चिंतला मुनिस्वामी ने गांव के विकास में अपनी पूरी शक्ति और धन लगा दिया था. उनकी किए कामों का आभार मानते हुए ग्रामीणों ने यहां उनके सम्मान में एक मंदिर स्थापित किया और उनकी पूजा करने लगे. ठीक उसी तरह अपने परिवार के बड़ों के सम्मान में ग्रामीण घर के बाहर उनकी क़ब्र बनाते हैं."

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

यह रिवाज केवल भोग लगाने और पूजा करने तक ही सीमित नहीं है बल्कि जब वो नए गैजेट्स भी ख़रीदते हैं तो पहले उसे इन क़ब्रों के सामने रखते हैं, इसके बाद ही उसका इस्तेमाल शुरू करते हैं.

श्रीनिवासुलु ने बीबीसी से कहा कि गांव वालों के बीच अंधविश्वास की गहरी जड़ों को हटा पाना बहुत मुश्किल है और अब उन्होंने गांव के बच्चों को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया है क्योंकि वो ही भविष्य में बदलाव ला सकते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि बच्चों में कुपोषण गांव की एक और चिंता है और आंगनबाड़ी केंद्र के लिए और पहाड़ी ढलानों पर घर बनाने के लिए ग्रामीणों को ज़मीन आबंटन के लिए सरकार से अनुरोध किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

और भी अंधविश्वास है

इस गांव में कुछ और भी प्रथाएं मौजूद हैं जैसे, यहां के लोग गांव के बाहर शादी नहीं करते और परंपरागत खाट पर भी नहीं सोते हैं.

गांव वालों का मुख्य पेशा खेती है. यहां ये अनाज के अलावा प्याज, मूंगफ़ली और मिर्च की भी खेती करते हैं.

अय्या कोंडा को इस इलाके में खरगोशों की भारी आबादी के कारण पहले 'कुंडेलू पडा' (खरगोशों के लिए घर) के नाम से जाना जाता था. हालांकि बाद में इसका नाम अय्या कोंडा रखा गया.

गांव वालों को अपने राशन, पेंशन या रोजमर्रा की ज़रूरतों के लिए पहाड़ी के नीचे गंजिहल्ली जाना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

मंडल परिषद क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्र (एमपीटीसी) के सदस्य ख्वाजा नवाब कहते हैं कि क़ब्रिस्तान के निर्माण के लिए अगर सरकार ज़मीन आबंटित कर दे तो यह अंधविश्वास को दूर करने में समाधान के रूप में काम कर सकता है.

गांव के प्रमुख रंगास्वामी ने कहा, "पीढ़ियों से जिन रिवाजों का हम पालन करते आ रहे हैं उन्हें रोक देने से हमें नुकसान पहुंच सकता है. हम इस बात को लेकर भी चिंतित हैं कि भविष्य में क़ब्र बनाने के लिए हमारे पास ज़मीनें नहीं रह जाएंगी. हमारे गांव में नेता लोग चुनाव से पहले झांकने भी नहीं आते."

इमेज कॉपीरइट Shyam Mohan/BBC

कुरनूल से सांसद बुट्टा रेणुका से जब बीबीसी ने पूछा तो उन्हें उनके क्षेत्र में पड़ने वाले इस गांव में ऐसी कोई प्रथा की जानकारी नहीं थी. उन्होंने कहा कि वो पहली बार इस विषय में बीबीसी से ही सुन रही हैं.

उन्होंने आश्वासन दिया कि ग्रामीणों को सहायता पहुंचाई जाएगी, साथ ही ये भी बताया कि उन्होंने ज़िला कलेक्टर से गांव की स्थिति पर एक रिपोर्ट तलब की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे