मुझे गर्व है कि मैं आरएसएस का स्वयंसेवक हूं: कविंद्र गुप्ता

  • 30 अप्रैल 2018
मोहित कंधारी इमेज कॉपीरइट Mohit Kandhari/BBC

जम्मू-कश्मीर के नए उप-मुख्यमंत्री कविंद्र गुप्ता ने पद संभालते ही अपनी सहयोगी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी को गठबंधन धर्म निभाने की सीख दी है.

जम्मू-कश्मीर में भाजपा और पीडीपी की साझा सरकार है. उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह के पद छोड़ने के बाद कविंद्र गुप्ता ने ये पद संभाला है.

उन्होंने ये भी कहा कि पीडीपी और भाजपा का गठबंधन पूरे छह साल चलेगा. उन्होंने कहा कि 2019 के चुनावों की रणनीति के तहत पार्टी ने ये फ़ैसला लिया है.

मंत्रीमंडल में फेरबदल के सवाल पर उन्होंने कहा, "समय-समय पर कुछ कार्यकर्ताओं को संगठन में रखा जाता है और कुछ को सरकार में ज़िम्मेदारी दी जाती है."

बीबीसी से बातचीत में कविंद्र गुप्ता ने कहा है कि उनकी पार्टी गठबंधन धर्म का पालन कर रही है और करती रहेगी.

उन्होंने कहा, "कुछ मुद्दों को उन्होंने छोड़ा और कुछ को हमने छोड़ा है. आने वाले वक़्त में यह हुकूमत कार्यकाल पूरा करेगी. बीते तीन साल का समय काफ़ी अच्छा रहा है और आगे भी हम विकास करेंगे."

कविंद्र गुप्ता हिंदूवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे हैं. आरएसएस से जुड़ाव पर वो कहते हैं, "आरएसएस एक देशभक्त संगठन हैं और मुझे फ़ख़्र है कि मैं स्वयंसेवक हूं. प्रधानमंत्री मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अलावा रक्षामंत्री और वित्तमंत्री भी आरएसएस से ही हैं और इनके नेतृत्व में देश अच्छा चल रहा है.".

कौन हैं जम्मू-कश्मीर के नए उप-मुख्यमंत्री?

कठुआ केस: भाजपा के दो मंत्रियों का इस्तीफ़ा

इमेज कॉपीरइट Mohit Kandhari/BBC
Image caption निर्मल सिंह

कठुआ रेप मामला

भारत प्रशासित कश्मीर में हाल के महीनों में पत्थरबाज़ी और हिंसा की घटनाएं में बढ़ोत्तरी हुई है.

हालांकि कविंद्र गुप्ता का कहना है कि उनकी सरकार में ऐसी घटनाओं में कमी आई है जबकि आंकड़े इससे अलग हैं.

कविंद्र गुप्ता कहते हैं, "जहां तक पत्थरबाजों की बात है जब से हमारी सरकार आई है यह घटनाएं कम हुई हैं. लेकिन मैं नहीं कहता सब ठीक हो गया है, बहुत कुछ करना बाकी है. नौजवानों को गले से लगा कर चलना होगा. उनके मन में जो ग़लतफ़हमी हैं उसको बदलना होगा. कहीं न कहीं मिल-बैठ कर यह सब चीज़ें सुलझानी होंगी."

वहीं मीडिया को दिए एक बयान में कविंद्र गुप्ता ने कठुआ में हुई गैंगरेप की घटना को छोटी बात कहा है. उन्होंने कहा कि इस घटना को इतना महत्व नहीं दिया जाना चाहिए था जितना दिया गया है.

कठुआ गैंगरेप पर जहां भारत के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हुए हैं, वहीं संयुक्त राष्ट्र ने भी चिंता ज़ाहिर की है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा था कि गैंगरेप के दोषियों को बख़्शा नहीं जाएगा.

इस गैंगरेप के अभियुक्तों के समर्थन में रैली करने पर भाजपा के दो मंत्रियों को जम्मू-कश्मीर सरकार से इस्तीफ़ा देना पड़ा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे