जे डे हत्या मामला: छोटा राजन को आजीवन क़ैद

  • 2 मई 2018
जे डे हत्याकांड इमेज कॉपीरइट Getty Images

मुंबई की एक विशेष अदालत ने पत्रकार जे डे की हत्या के मामले में मुख्य अभियुक्त छोटा राजन समेत सभी नौ दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई है.

अदालत ने इसी मामले में हत्या के दूसरे अभियुक्त पत्रकार जिगना वोरा को बरी कर दिया है. वोरा के अलावा पॉल्सन जोसेफ़ को भी बरी कर दिया गया है. अदालत ने इस मामले में राजन समेत 9 लोगों को दोषी करार दिया था.

मुंबई के रहने वाले ज्योतिर्मय एक मिड डे न्यूज़ पेपर में बतौर वरिष्ठ क्राइम रिपोर्टर काम करते थे. पेपर के लिए जे डे नाम से लिखने वाले ज्योतिर्मय की मुंबई के उपनगर पवई में 11 जून 2011 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

वो मोटरसाइकिल पर सवार थे और अपने घर की ओर जा रहे थे तभी चार बंदूकधारियों ने उन पर गोलियां दाग दीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उनकी मौत के बाद मुंबई में पत्रकारों ने प्रदर्शन कर सरकार से अपने लिए बेहतर सुरक्षा की मांग की थी. इत्तेफाक़ की बात है कि जे डी हत्याकांड पर फ़ैसला वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे के ठीक एक दिन पहले आ रहा है.

ज्योतिर्मय डे की गिनती मुंबई के बेहतरीन क्राइम रिपोर्टर में की जाती थी. बतौर इंवेस्टिगेशन ऑफ़िसर मिड-डे ज्वाइन करने से पहले वे इंडियन एक्सप्रेस और हिंदुस्तान टाइम्स से भी जुड़े रहे.

जिस समय उनकी हत्या हुई वे 56 साल के थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ज्योतिर्मय डे की हत्या और और बाद में इस मामले में एक अन्य पत्रकार जिग्ना वोरा की गिरफ़्तारी ने पूरे देश की पत्रकार बिरादरी को सकते में डाल दिया था.

ख़बरों की मानें तो उनकी हत्या से पहले उन्होंने शहर के तेल माफ़ियाओं पर कई कहानियां की थीं.

अभियुक्त

कथित अंडरवर्ल्ड डॉन राजेंद्र सदाशिव निखाल्जे उर्फ़ छोटा राजन और उस वक़्त एशियन एज में बतौर डिप्टी ब्यूरो चीफ़ काम करने वाले जिग्ना वोरा इस मामले में मुख्य अभियुक्त थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

छोटा राजन फ़िलहाल नई दिल्ली की तिहाड़ जेल मे हैं. उन्हें साल 2015 में इंडोनेशिया के बाली से भारत ले आया गया. इस मामले को लेकर उन पर 17 लोगों की मौत का आरोप है.

इसके अलावा उन पर नशीली दवाओं की तस्करी, कब्ज़े और अवैध हथियारों के इस्तेमाल का भी आरोप है.

राजन मुंबई में ही पले-बढ़े और युवावस्था में कई आपराधिक मामलों में संलिप्त हो गए और उसके बाद वो एक बड़े गिरोह के सरगना बन गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कैसे आगे बढ़ा ये केस?

मुंबई पुलिस ने शुरुआती जांच महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ़ ऑर्गेनाइज़्ड क्राइम एक्ट (मकोका) के तहत की लेकिन छोटा राजन की गिरफ़्तारी के बाद सीबीआई भी इस मामले से जुड़ गई.

केस की सुनवाई एक विशेष मकोका कोर्ट ने की है.

विशेष अदालत में कुल 155 गवाहों ने गवाही दी लेकिन मामले में कोई प्रत्यक्षदर्शी आगे नहीं आया.

'छोटा राजन ने ज्योतिर्मय डे को मरवाया'

छोटा राजन इंडोनेशिया में गिरफ़्तार

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे