''मुझे देखने के लिए सड़क पर रुक जाते थे लोग''
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

''मुझे देखने के लिए सड़क पर रुक जाते थे लोग''

इंद्रावती एक महिला डाकिया थीं जो अब रिटायर हो चुकी हैं. 35 साल पहले उनके सफर की शुरुआत तब हुई जब लोग टकटकी लगाए डाकिये की राह देखते थे.

लेकिन, उस वक्त महिला डाकिये के बारे में सोचना चिट्ठी की जगह मैसेज ऐप के बारे में सोचने जैसा था. इंद्रावती ने बताया महिला डाकिये के बारे में क्या सोचते थे लोग और तब से अब तक आया बदला.

प्रोड्यूसर: कमलेश

शूट/एडिट: मनीष जालुई/ काशिफ़ सिद्दिकी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे