कर्नाटक का चुनाव मेरे लिए नहीं है, न ही प्रधानमंत्री पद के लिए हैः राहुल गांधी

  • 10 मई 2018
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

कर्नाटक चुनाव से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला.

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर्नाटक के लोगों को गुमराह कर रहे हैं. वो अपनी रैलियों में मुझ पर निजी हमले ज़्यादा और जनता के मुद्दों पर बात नहीं कर रहे हैं.

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी हिंदू शब्द का अर्थ नहीं समझती है.

चुनाव से पहले मंदिरों के उनके चक्कर लगाने के सवाल पर उन्होंने कहा, "देश के लोग विभिन्न आस्था में विश्वास रखते हैं. एक नेता के रूप में मैं उनकी आस्था का सम्मान करता हूं. उनके विश्वास के साथ खड़ा रहता हूं."

"मैं गुरुद्वारा भी जाता हूं, मंदिर भी जाता हूं पर मेरे मंदिर जाने से भाजपा को बहुत परेशानी होती है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'यह चुनाव कर्नाटक के लिए है'

राहुल गांधी ने आगे आरोप लगाया कि आरएसएस कर्नाटक की संस्कृति को बर्बाद करना चाहती है.

खुद को प्रधानमंत्री पद के लायक बताने वाले सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों को गुमराह कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, "यह चुनाव मेरे लिए नहीं है और न ही प्रधानमंत्री पद के लिए है. यह चुनाव कर्नाटक के लिए है. इस राज्य ने देश को बहुत कुछ दिया है. नरेंद्र मोदी को कर्नाटक के विकास से जुड़े मुद्दों न बोलकर मेरे ऊपर निजी हमला कर रहे हैं."

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के सामने युवाओं को रोजगार देने की चुनौती है, जैसा कि उसने हर साल दो करोड़ लोगों युवाओं को देने का वादा किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'दलित मरते हैं तो प्रधानमंत्री जी कुछ नहीं बोलते'

राहुल गांधी ने भाजपा को दलित विरोधी बताया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दलितों के मुद्दे पर बात नहीं करते हैं. रोहित वेमुला को मार दिया जाता है पर उनके मुंह से एक शब्द तक नहीं निकलता है. ऊना में दलित मारे जाते हैं पर वो कुछ नहीं बोलते हैं.

उन्होंने सरकार की विदेश नीति पर भी सवाल किया, "चीन हमारा प्रतिद्वंदी है. वो उभरती हुई ताक़त है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन जाते हैं पर डोकलाम मुद्दे पर बात भी नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की विदेश नीति पूरी तरह फेल है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार