येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर सुप्रीम कोर्ट ने नहीं लगाई रोक

  • 17 मई 2018
बीएस येदियुरप्पा इमेज कॉपीरइट Getty Images

कर्नाटक में भाजपा को फौरी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा विधायक दल के नेता बीएस येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है.

येदियुरप्पा गुरुवार को सुबह 9 बजे बेंगलुरू में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान मौजूद वकील एहतेशाम ने पत्रकारों से इसकी पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस और जेडीएस की अर्ज़ी को ख़ारिज़ भी नहीं किया है.

शीर्ष अदालत ने इस मामले में बीएस येदियुरप्पा समेत बाक़ी पक्षों को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है. इस मामले में अगली सुनवाई शुक्रवार को साढ़े 10 बजे होगी.

सुप्रीम कोर्ट ने वो पत्र मांगा है जो येदियुरप्पा ने सरकार बनाने का दावा पेश करते हुए 15 और 16 मई को राज्यपाल को सौंपा था.

आधी रात के बाद दूसरी बार सुनवाई

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बेंगलुरु में मीडिया से बात करते जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी

राज्यपाल की ओर से भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दिया गया था, जिसके ख़िलाफ कांग्रेस और जेडीएस सुप्रीम कोर्ट चले गए. शीर्ष कोर्ट देर रात 1:45 बजे मामले पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया.

जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े की बेंच ने आधी रात दो बजे के बाद से इस मामले पर सुनवाई की.

अदालत के सामने कांग्रेस का पक्ष अभिषेक मनु सिंघवी और भाजपा का पक्ष पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने रखा.

राज्यपाल ने दिया भाजपा को न्योता

इससे पहले बुधवार रात राज्यपाल वजुभाई वाला ने बीजेपी विधायक दल के नेता बीएस येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता दिया था. भाजपा महासचिव मुरलीधर राव ने पुष्टि करते हुए कहा कि येदियुरप्पा को सरकार बनाने के लिए बुलाया गया है.

उन्होंने बताया कि येदियुरप्पा गुरुवार सुबह नौ बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. मुरलीधर राव ने बताया कि राज्यपाल ने येदियुरप्पा को बहुमत सिद्ध करने के लिए 15 दिनों को समय दिया है.

इमेज कॉपीरइट Governor of Karnataka

कर्नाटक में कुल 222 सीटों पर चुनाव हुए थे, जिसमें भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) को 37 सीटें मिली थीं.

भाजपा सबसे बड़े दल के तौर पर तो उभरी लेकिन बहुमत से चूक गई. ऐसी स्थिति में भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस ने तीसरे नंबर की पार्टी जेडीएस को समर्थन का ऐलान कर दिया था.

इसके बाद जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने भी कांग्रेस के समर्थन पत्र के साथ राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया था. कांग्रेस और जेडीएस के पास कुल मिलाकर 115 सीटें हैं जो बहुमत के आंकड़े से तीन अधिक हैं.

4.25 बजे

सुप्रीम कोर्ट ने बीएस येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इनकार किया. सुप्रीम कोर्ट में मौजूद वकील एहतेशाम ने अदालत के बाहर आकर मीडिया को इसकी सूचना दी.

2.00 बजे

सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी और भाजपा की ओर से पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी जिरह कर रहे हैं.

1.13 बजे: सुप्रीम कोर्ट सुनवाई पर राज़ी

सुप्रीम कोर्ट ने तय किया कि वह कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर की अर्ज़ी पर देर रात 1.45 बजे सुनवाई करेगा. कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने इसकी पुष्टि की.

उन्होंने शीर्ष कोर्ट की तारीफ करते हुए ट्विटर पर लिखा, "हम सुप्रीम कोर्ट के बेहद आभारी हैं कि उन्होंने देर रात 1.45 बजे कोर्ट नंबर दो में सुनवाई तय की है. यह दिखाता है कि न्यायाधीश कभी नहीं सोते और जहां ज़रूरत होती है, चौबीसों घंटे उपलब्ध रहते हैं. दुनिया में ऐसी उपलब्धता वाला सुप्रीम कोर्ट दूसरा कौन सा है?"

11.27 बजे: कांग्रेस पहुंची सुप्रीम कोर्ट

भाजपा को सरकार बनाने के न्योते के ख़िलाफ कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी है.

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्विटर पर इसकी पुष्टि की है. उन्होंने लिखा है, "अगर सुप्रीम कोर्ट इस पर आज ही सुनवाई का निवेदन स्वीकार करता है तो मैं आज ही अदालत के समक्ष पेश होकर अपने तर्क रखूंगा."

अभिषेक मनु सिंघवी ने दावा किया है कि येदियुरप्पा ने बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल से चिट्ठी में सात दिनों का समय मांगा था, लेकिन राज्यपाल ने उन्हें 15 दिनों का समय दे दिया.

10:19 बजे: 15 दिनों के समय पर जेडीएस के सवाल

जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि बहुमत साबित करने के लिए भाजपा को 15 दिनों का समय देकर राज्यपाल ख़रीद-फरोख़्त को बढ़ावा दे रहे हैं और यह असंवैधानिक है.

10:09 बजे: कांग्रेस ने बताया असंवैधानिक

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कर्नाटक के राज्यपाल पर भाजपा के प्रभाव में काम करने के आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के हस्तक्षेप से संविधान का एनकाउंटर कर डाला और न्याय और निष्पक्षता की धज्जियां उड़ा दीं.

उन्होंने कहा, "हम अमित शाह जी से पूछना चाहते हैं कि अगर दो पार्टियां चुनाव के बाद साथ नहीं आ सकतीं तो आपने गोवा और मणिपुर में सबसे बड़ी पार्टी न होते हुए भी सरकार कैसे बना ली? राज्यपाल ने अपने पद को शर्मसार किया है."

9:51 बजे: 'जनादेश लूटने की कोशिश कर रही कांग्रेस'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस पर संविधान के उल्लंघन के आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि लोगों की सद्भावना और आशीर्वाद भाजपा के पक्ष में है और कांग्रेस पार्टी लोगों के जनादेश को लूटने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि सबसे ज़्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने वाली पार्टी हमें संविधान के उपदेश दे रही है.

9:47 बजे: भाजपा को न्योते की पुष्टि

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बीएस येदियुरप्पा

भाजपा नेता मुरलीधर राव ने मीडिया को सूचित किया कि उनकी पार्टी को राज्यपाल से सरकार बनाने का न्योता मिला है और गुरुवार सुबह बीएस येदियुरप्पा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

उन्होंने कहा कि फिलहाल सिर्फ येदियुरप्पा शपथ लेंगे और बहुमत साबित करने के बाद उनकी कैबिनेट के सदस्य शपथ लेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार