प्रेस रिव्यू: निपाह वायरस का ख़ौफ़, शवदाह गृह छोड़ 'भागा' स्टाफ़

  • 23 मई 2018
निपाह वायरस इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

उत्तरी केरल में जानलेवा निपाह वायरस के कारण सबसे अधिक प्रभावित कोझिकोड ज़िले में कुछ शवदाह गृहों ने संक्रमण के डर के कारण मृतकों का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है या उसके कर्मचारी छुट्टी पर चले गए हैं.

अंग्रेज़ी अख़बार हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक़, मवूर में प्रशासन को इस बात की जानकारी भी नहीं है कि वहां के विद्युत शवदाह गृह का पूरा स्टाफ़ ही छुट्टी पर चला गया है.

कोझिकोड के कूराचुंड में 52 वर्षीय अशोकन की निपाह वायरस के कारण मौत हो गई थी, मंगलवार को उनके अंतिम संस्कार के लिए उनके रिश्तेदार और दोस्तों को सात घंटे तक इंतज़ार करना पड़ा. अंतिम संस्कार तब हो सका जब पालक्कड से स्वयंसेवकों की एक टीम अंतिम संस्कार के लिए शहर में पहुंची.

अख़बार ने मृतक के एक रिश्तेदार के हवाले से लिखा है, "हमारे आंसू बह रहे थे. ये मुद्दा तब प्रकाश में आया जब एक समाचार चैनल ने हमारी इस दशा को दिखाया."

ज़िला प्रशासन का कहना है कि इस आपातकालीन स्थिति में जो भी सहयोग नहीं करेगा उसके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया जाएगा. ज़िला कलेक्टर यूवी. जोसे ने कहा, "कुछ घटनाएं हमारी सूचना में आई हैं. हम उनके ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करेंगे जो हमारे साथ सहयोग नहीं करेंगे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

येदियुरप्पा अभी भी संसद सदस्य

बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा और बी श्रीरामुलु का चार दिन पहले लोकसभा अध्यक्ष ने इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया था लेकिन इसके बाद भी उनके नाम लोकसभा सदस्यों के रूप में सूचीबद्ध हैं.

द टेलीग्राफ़ के अनुसार, कर्नाटक विधानसभा चुनावों में जीत के बाद दोनों ने संसद की सदस्यता छोड़ दी थी जिससे सदन में बीजेपी 272 की संख्या से नीचे आ गई थी.

नियमों के तहत अगर एक विधायिका का कोई सदस्य किसी दूसरे सदन की सदस्यता लेता है तो उसकी पहले की सदस्यता 14 दिनों में अपने आप ही समाप्त हो जाती है.

19 मई को जिस दिन दोनों ने विधायक पद की शपथ ली थी तब लोकसभा सचिवालय ने बुलेटिन जारी कर बताया था कि स्पीकर सुमित्रा महाजन ने 18 मई को उनका इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिजाब के लिए छात्रा गई कोर्ट

होम्योपैथी कॉलेज की एक छात्रा ने हिजाब पहनने की अनुमति न देने और कम उपस्थिति के कारण परीक्षा में बैठने से रोकने के ख़िलाफ़ बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, बांद्रा की छात्रा ने भिवंडी के साई होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएचएमएस) की एक जून से होने वाली प्रथम वर्ष की परीक्षा में शामिल होने के लिए कोर्ट का रुख़ किया है.

याचिका में कहा गया है कि महिला ने 14 दिसंबर 2016 को प्रवेश परीक्षा पास की थी और 27 दिसंबर 2016 से क्लास शुरू होनी थी और उसने अगले दिन से कॉलेज जाना शुरू कर दिया था.

इसके बाद उन्होंने देखा कि कॉलेज मुस्लिम छात्राओं को हिजाब उतारने पर मजबूर कर रहा है.

छात्रा का आरोप है कि कॉलेज ने मुस्लिम छात्राओं को धमकी दी कि या तो वे हिजाब उतारें या क्लास लें, इसके बाद कई छात्राओं ने हिजाब उतार दिए या कॉलेज छोड़ दिया.

हालांकि, कॉलेज के वकील रहे दीपक सालवी ने कहा है कि कॉलेज ने हिजाब पहनने की अनुमति दी थी लेकिन छात्रा पूरा बुर्क़ा पहनने पर ज़ोर दे रही थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्षेत्रीय पार्टियों में सपा को मिला सबसे अधिक पैसा

एसोसिएशन ऑफ़ डेमोक्रेटिक रिफ़ॉर्म्स के अनुसार 2016-17 में 32 क्षेत्रीय दलों को 321 करोड़ की आय हुई थी जिसमें समाजवादी पार्टी को सबसे अधिक 82.7 करोड़ की आय हुई.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, इसी साल इन पार्टियों ने कुल ख़र्च 435.48 करोड़ दिखाया था.

32 में से 17 पार्टियों ने बताया था कि 114.45 करोड़ ख़र्च नहीं किए गए. इस दौरान टीडीपी को 72.92 करोड़ और एआईएडीएमके को 48.88 करोड़ की आय हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हवाई टिकट रद्द करने का शुल्क होगा तय

केंद्र सरकार ने विमानन क्षेत्र में बड़े बदलावों का मसौदा तय किया है जिसमें टिकट रद्द करने पर वापस मिलने वाली राशि, उड़ान में देरी और विकलांगों के लिए दिशानिर्देश शामिल हैं.

नवभारत टाइम्स में छपी ख़बर के अनुसार, मसौदे की जानकारी देते हुए नागरिक विमानन मंत्री जयंत सिन्हा ने बताया कि किसी यात्री ने उड़ान के चार दिन या 96 घंटे के अंदर हवाई टिकट बुक कराया है तो उसे एक दिन पहले या 24 घंटे के भीतर रद्द कराने पर विमानन कंपनी उससे कैंसिलेशन चार्ज नहीं वसूल पाएंगी.

कैंसिलेशन चार्ज बेसिक किराये से अधिक नहीं होगा और विमानन कंपनियों को उसकी दरें टिकट पर छापनी होंगी.

इसके अलावा 24 घंटे के भीतर टिकट पर नाम और तारीख़ बदलवाने पर यात्रियों को अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होगा. इस मसौदे को जब कैबिनेट मंज़ूरी देगी उसके बाद यह लागू हो पाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए