कायदे में रहो, पर्दे में रहो

लोग कहते हैं कि इस औरत के शर्म नहीं है घूंघट नहीं करती. भले ही दम घुट रहा हो, भले ही कम दिखाई दे रहा हो लेकिन घूंघट करना मजबूरी है.

प्रोड्यूसर: कमलेश

कैमरा/एडिटिंग: प्रीतम रॉय

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)