प्रेस रिव्यू: 'कुमारस्वामी को पांच साल तक समर्थन देने पर फ़ैसला नहीं हुआ'

  • 25 मई 2018
कुमारस्वामी और जी.परमेश्वरा इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कुमारस्वामी और जी.परमेश्वरा

कर्नाटक विधानसभा में शुक्रवार को मुख्यमंत्री एचडी. कुमारस्वामी विश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे. वहीं, उससे पहले गुरुवार को उप-मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता जी. परमेश्वरा ने कहा कि उनकी पार्टी ने अभी तक पूरे पांच साल के कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री के रूप में कुमारस्वामी को समर्थन देने का फ़ैसला नहीं किया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, परमेश्वरा ने कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा होनी है और इसे अंतिम रूप दिया जाना अभी बाकी है.

उन्होंने कहा, "हमारा तत्काल लक्ष्य विश्वास प्रस्ताव पास कराना, मंत्रालय को बंटवारा और अच्छा प्रशासन देना है. मुख्यमंत्री पद समेत अभी और चीज़ों पर काम किया जाना बाकी है."

उप-मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद की गई पहली पहली प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान उन्होंने ये बात कही.

गठबंधन सरकार की जेडीएस और कांग्रेस पार्टी अभी तक इस मुद्दे से दूर रहे हैं कि किस पार्टी को कौन-सा मंत्रालय मिलेगा. हालांकि, सबसे बड़ी पार्टी होने और मुख्यमंत्री पद छोड़ने की एवज़ में कांग्रेस कुछ महत्वपूर्ण मंत्रालय मांग सकती है.

कुमारस्वामी के पास अपने कुल 37 विधायक हैं और वह पूरी तरह कांग्रेस पर निर्भर हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नीरव मोदी ने 4 हज़ार करोड़ अपने पास भेजे थे

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पाया है कि नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से पाई 1,015.34 मिलियन डॉलर (6,939.84 करोड़ रुपये) की रक़म में से 629 मिलियन डॉलर (4,299 करोड़ रुपये) ख़ुद के और अपने रिश्तेदारों एवं फ़र्म के ख़ातों में ट्रांसफ़र कर दिए थे.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय ने जो चार्जशीट फ़ाइल की है उसमें बताया गया है कि लेटर्स ऑफ़ अंडरटेकिंग (एलओयू) के ज़रिए बैंक से मिले पैसों को यूएई और हांगकांग स्थित 15 'फ़र्ज़ी कंपनियों' के ज़रिए दूसरी जगह भेजा गया.

प्रवर्तन निदेशालय की जांच के अनुसार, मोदी ने 265 मिलियन डॉलर (1,811 करोड़ रुपये) रुपयों को यूएई की नौ फ़र्ज़ी कंपनियों के ज़रिए अपनी ग्रुप फ़र्म, अपनी बहन पूर्वी मोदी और उनके पति मैनाक मेहता को ट्रांसफ़र किया था.

ईडी की शिकायत में पूर्वी मोदी और मैनाक मेहता को भी अभियुक्त बनाया गया है. एजेंसी ने अपने 14 हज़ार पन्नों की शिकायत में कहा है कि मोदी ने दूसरे 312.81 मिलियन डॉलर (2,138 करोड़ रुपये) अपनी ग्रुप कंपनियों में भेजे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'पीएम मोदी की घटी लोकप्रियता'

एक ताज़ा सर्वे में बताया गया है कि अभी चुनाव हों तो एनडीए की सरकार फिर बनने का अनुमान है. हालांकि, 2014 की तुलना में उनकी सीटें कम होंगी.

हिंदुस्तान अख़बार के अनुसार, सीएसडीएस-लोकनीति-एबीपी न्यूज़ के सर्वे में पाया गया है कि एनडीए साधारण बहुमत के साथ सरकार बनाने की स्थिति में होगी जबकि यूपीए की सीटों में इज़ाफ़ा होगा.

सर्वे के हिसाब से प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता में कमी आई है लेकिन वह अभी भी सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले राजनेता हैं. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की लोकप्रियता में इज़ाफ़ा हुआ है.

मई 2017 में प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता 44 फ़ीसदी थी जो अभी 34 फ़ीसदी है. वहीं, राहुल की मई 2017 में 16 फ़ीसदी लोकप्रियता थी जो अब 24 फ़ीसदी पर पहुंच गई है.

इसके अलावा इस सर्वे में यह भी पाया गया है कि दलितों और आदिवासियों के बीच एनडीए सरकार की लोकप्रियता घटी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

झारखंड में कॉल सेंटर से एक लाख लोगों को ठगा

झारखंड के एक छोटे-से गांव में कॉल सेंटर के ज़रिए एक लाख लोगों को ठगे जाने का मामला सामने आया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में बताया गया है कि 35 वर्षीय राम कुमार मंडल ने कथित तौर पर 200 युवाओं को ट्रेन किया जो बैंक कर्मचारी बनकर लोगों को फ़ोन करते थे और उनसे उनकी बैंक की जानकारियां लेकर उन्हें ठगी का शिकार बनाते थे.

पुलिस ने बताया कि इन लोगों ने बैंक और आरबीआई कर्मचारी बनकर दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और गोवा के एक लाख लोगों को चूना लगाया. राम मंडल ने 10वीं कक्षा में स्कूल छोड़ दिया था.

पुलिस का कहना है कि यह रैकेट माओवादी समूहों की मदद से पिछले चार सालों से चल रहा था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पतंजलि के आएंगे तीन टीवी चैनल

योग गुरु रामदेव का पतंजलि समूह अगले महीने से तीन नए टीवी चैनल शुरू करने जा रहा है. समूह के प्रवक्ता का कहना है कि ये तीनों कन्नड़, तमिल और तेलुगू भाषा के आध्यात्मिक चैनल होंगे.

हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर के अनुसार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने पतंजलि समूह के 'वैदिक ब्रॉडकास्टिंग' को अपना चैनल लॉन्च करने की अनुमति दी है जिसके बाद वह यह चैनल ला रहा है.

तीन अलग-अलग भाषाओं में प्रसारित होने वाली सामग्री हिंदी से अनुवाद की जाएगी.

पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला का कहना है कि हिंदी के अलावा अन्य भाषाओं में कार्यक्रम प्रसारित करने का विचार योग गुरु रामदेव का था ताकि दक्षिण भारत के साथ प्राचीन विज्ञान को साझा किया जा सके.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए