दंगा पीड़ित परिवारों के लिए क्या हैं न्याय के मायने?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

दंगा पीड़ित परिवारों के लिए क्या हैं इंसाफ़ के मायने?

  • 26 मई 2018

उत्तर प्रदेश सरकार ने 2013 के मुज़फ़्फ़नगर दंगों से जुड़े 131 मामले वापस लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

इन मुक़दमों में ज़्यादातर मामलों में आरोपी हिन्दू हैं, जिन पर हत्या, हत्या के प्रयास और साम्प्रदायिक भावनाएं भड़काने से लेकर लूटपाट और आगजनी तक के मुक़दमे दर्ज हैं.

सरकार के इस नए क़दम ने दंगा पीड़ितों के ज़ख्मों को हरा करने के साथ ही उनके हौसले को भी कमज़ोर किया है.

भारत में अल्पसंख्यक समुदाय के दंगा पीड़ित परिवारों के लिए न्याय के क्या मायने हैं? बीबीसी टीम ने मुज़फ़्फ़नगर और शामली के दंगा प्रभावित इलाक़ों में इन सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश की.

  • रिपोर्टर: प्रियंका दुबे
  • कैमरा एंड एडिट: बुशरा शेख

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे