तमिलनाडु में वेदांता के प्लांट पर लगेगा ताला

  • 28 मई 2018
विरोध प्रदर्शन करते लोग

तमिलनाडु सरकार ने देश के सबसे बड़े कॉपर कारखाने को स्थाई रूप से बंद करने का आदेश दिया है.

थुथुकुड़ी स्थित इस कारखाने से निकल रहे प्रदूषण के ख़िलाफ़ विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोली से 13 लोगों की मौत हो गई थी.

मुख्यमंत्री ई पलनीस्वामी ने सोमवार को राज्य के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को स्टरलाइट कॉपर प्लांट को सील करने का आदेश दिया है.

पर्यावरण कार्यकर्ताओं का कहना है कि तमिलनाडु के बंदरगाह शहर थूथुकुडी स्थित इस प्लांट की वजह से भूमिगत जल गंदा हो रहा था और इलाके में कैंसर समेत दूसरी बीमारियों का ख़तरा बढ़ गया था.

लेकिन स्टरलाइट प्लांट पर स्वामित्व रखने वाली ब्रितानी कंपनी वेदांता ने पर्यावरण कार्यकर्ताओं पर दुष्प्रचार फैलाने का आरोप लगाया था.

22 मई को हुआ क्या था

तमिलनाडु के तूतीकोरिन ज़िले में वेदांता ग्रुप की कंपनी स्टरलाइट कॉपर के ख़िलाफ़ हिंसक प्रदर्शन में 13 लोग मारे गए थे.

इसमें 40 से ज़्यादा लोग ज़ख़्मी हुए हैं जिनमें कई पत्रकार और कैमरापर्सन भी थे.

यहां लोग महीनों से प्रदर्शन कर रहे थे. प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि स्टरलाइट फ़ैक्ट्री से इलाक़े में प्रदूषण फैल रहा है. पिछले मंगलवार को ये प्रदर्शन हिंसक हो गए.

इस दौरान आम लोगों और पुलिस में झड़प हुई और पुलिस की गोलीबारी में 13 लोग मारे गए.

पुलिस का कहना है कि जब प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थर फेंकना शुरू किया तो लाठी चार्ज किया गया था.

पुलिस के मुताबिक़ हालात नियंत्रण से बाहर हो गए तब पुलिस ने गोली चलाई.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption वेदांता समूह के मालिक अनिल अग्रवाल

स्टरलाइट के ख़िलाफ़ मुद्दा क्या है

स्थानीय लोग इस प्लांट को बंद करने की मांग कर रहे थे. लोगों का कहना है कि इस प्लांट से प्रदूषण के कारण सेहत से जुड़ी गंभीर समस्या का संकट खड़ा हो गया है.

इस कंपनी ने हाल ही में शहर में अपनी और यूनिट बढ़ाने की घोषणा की थी. विरोध प्रदर्शन को देखते हुए इस तटीय शहर में भारी पुलिस बलों की तैनाती की गई है.

पड़ोसी ज़िले मदुरई और विरुधुनगर से अतिरिक्त पुलिस बलों को बुलाया गया था.

डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने पुलिस की गोलीबारी की कड़ी निंदा की है.

राज्य सरकार ने प्रदर्शनकारियों से शांति बरतने की अपील की थी और प्लांट के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई का आश्वासन दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्टरलाइट कॉपर फ़ैक्ट्री में क्या बनता है?

यहां पर धातु गलाया जाता है और एक साल में चार लाख टन तांबे का तार बनता है. वेदांता ब्रिटेन की कंपनी है यह उसकी सब्सिडरी है.

कंपनी की योजना है कि वो हर साल 80 हज़ार टन तांबे के तार का उत्पादन करे. तूतीकोरिन ज़िले की इस यूनिट पर प्रदूषण को लेकर कई गंभीर आरोप हैं.

वेदांता को लेकर भारत के कई राज्यों में विवाद हो चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए