आरएसएस के कार्यक्रम में क्यों जा रहे हैं प्रणब मुखर्जी

  • 29 मई 2018
प्रणब मुखर्जी, मोहन भागवत इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

लंबे समय तक भारतीय राजनीति में कांग्रेस की विचारधारा का प्रमुख चेहरा रहे डॉ प्रणब मुखर्जी 7 जून को नागपुर में होने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी आरएसएस के कार्यक्रम में दिखाई देंगे.

इस ख़बर से देश के राजनीतिक गलियारों में भृकुटियाँ तनना स्वाभाविक है.

नागपुर के रेशीमबाग मैदान पर आयोजित होने वाले तृतीय वर्ष शिक्षा वर्ग समापन समारोह में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित होंगे. वो ना सिर्फ स्वयंसेवकों के पासिंग आउट कार्यक्रम का अहम हिस्सा होंगे बल्कि, वो अपने विचार भी रखेंगे.

समारोह में सरसंघचालक मोहन भागवत समेत संघ का मौजूदा नेतृत्व भी उनके साथ मंच पर होगा. दर्शकों के अलावा कार्यक्रम में संघ के चुनिंदा पदाधिकारी और मीडिया प्रतिनिधि भी शामिल होंगे.

नागपुर में 25 दिन रहकर संघ का तृतीय वर्ष पाठ्यक्रम पूरा करने वाले देश के विभिन्न इलाकों से आए करीब 600 स्वयंसेवक इसका हिस्सा बनेंगे.

'मुझे गर्व है कि मैं आरएसएस का स्वयंसेवक हूं'

आला अफ़सरों की नियुक्ति में संघ के दखल की तैयारी?

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

4 बार मिल चुके हैं मुखर्जी और भागवत

संघ के ज़िम्मेदार सूत्र बताते हैं कि मुखर्जी से संघ के शीर्ष नेतृत्व की अब तक कम से कम चार बार मुलाकातें हो चुकी हैं. राष्ट्रपति पद पर रहते हुए मुखर्जी से मोहन भागवत की दो बार दिल्ली में मुलाकात हुई थी.

सूत्रों का कहना है कि एक बार तो यूँ हुआ कि मुलाकात का दिन और वक्त तय हो चुका था लेकिन प्रणब दा की पत्नी का देहावसान हो जाने से लगभग सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए गए थे. लेकिन रद्द हुई मीटिंग की सूची में सरसंघचालक के साथ मुलाकात शामिल नहीं थी. ये मुलाकात हुई और शोक संवेदना व्यक्त करने के बाद भी काफी देर चली थी.

इतना ही नहीं, इससे पहले की मुलाक़ात में प्रणब मुखर्जी को संघ के विषयों से जुड़ी जो पुस्तकें दी गई थीं, उसके संबंध में शंकाओं पर विचार-विमर्श का दौर दूसरी मुलाक़ात तक चला.

संघ के मत के अनुसार अन्य विचारोंवाले लोगों को बुलाने की यह परंपरा गोलवलकर के समय से रही है, जो दूसरों के विचारों या विरोधी विचारों के साथ चर्चा करना बेहतर मानते थे.

दलितों का आंदोलन बन सकता है बीजेपी-आरएसएस के लिए सिरदर्द!

GROUND REPORT: संघ का 'राष्ट्रोदय', बीजेपी के मिशन 2019 की तैयारी?

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

संघ के सूत्रों की मानें तो संघ का मानना है कि भिन्न मत का होना या विरोधी विचारधारा होना शत्रुता नहीं है. शुरू से संघ की सोच रही है कि इस पर संवाद हो सकता है और संवाद जारी रखे जाने का प्रयास किया जा सकता है.

'कोई तात्कालिक योजना नहीं'

क्या संघ के नेतृत्व को प्रणब मुखर्जी से कुछ उम्मीदें जगी हैं, कोई योजना बनी है.

इस सवाल पर संघ के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "आरएसएस भविष्य में लंबे समय के लिए सोचने का प्रयास करता है. सो, कुछ मुलाक़ातों में किसी का यकायक विचार परिवर्तन हो जाएगा या किसी के एक या दो दौरे के बाद कुछ नया देखने सुनने मिलेगा, संघ को लाभ होगा - संघ ऐसी कोई उम्मीद नहीं रखता. प्रणब मुखर्जी को अचानक बुलाया गया हो, ऐसा भी नहीं है."

'कश्मीर को पाकिस्तान नहीं आरएसएस से ख़तरा'

आरएसएस में महिलाएं क्या पहनती हैं?

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

क्या संघ को इसका अंदेशा नहीं कि कांग्रेस के भीतर या बाहर से प्रणब मुखर्जी पर संघ के कार्यक्रम में शरीक़ ना होने के लिए भी दवाब बनाया जा सकता है?

संघ से जुड़े एक सूत्र ने बताया, "प्रणब मुखर्जी एक वरिष्ठ और विचारवान व्यक्ति हैं. ऐसे शख्स जो सोच समझ कर ही कोई कदम उठाते हैं. उन पर ऐसा कोई दबाव सफल होगा ऐसा लगता नहीं. और अब तो वो राजनीति में भी सक्रिय नहीं हैं."

ग़ौरतलब है कि राष्ट्रपति के तौर पर अपने कार्यकाल के आख़िरी महीनों में प्रणब और पीएम नरेंद्र मोदी के संबंध मधुर रहे थे. मोदी ने उन्हें पिता समान व्यक्तित्व भी कहा था.

प्रणब दा मेरे पिता की तरह: नरेंद्र मोदी

कार्टून: बीजेपी के पिताओं का दर्द

इमेज कॉपीरइट PMOIndia @Twitter

विरोधी विचार वालों को बुलानेकी परंपरा

लगभग पिछले एक दशक से संघ के शिक्षा वर्ग समापन समारोह कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर किसी भिन्न मतों वाले व्यक्तित्व को बुलाने की परंपरा रही है. हालांकि विजयादशमी के कार्यक्रम में लंबे अरसे से मुख्य अतिथि बुलाए जाते रहे हैं.

इसके अलावा अन्य अवसरों पर भी अलग विचारों वाले नेता, विचारक बुलाए गए हैं.

रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया के नेता और दलित नेता दादासाहेब रामकृष्ण सूर्यभान गवई, वामपंथी विचारों वाले कृष्णा अय्यर और कुछ अरसे पहले वरिष्ठ पत्रकार और आप के नेता आशुतोष जैसे नाम इस कड़ी में शामिल हो चुके हैं.

'बीजेपी आरएसएस की सम्पत्ति नहीं है दूरदर्शन'

'संविधान पर पुनर्विचार आरएसएस का 'हिडेन एजेंडा' है'

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

संघ से जुड़े सूत्र बताते हैं कि मीनाक्षीपुरम में कुछ हिंदुओं द्वारा धर्म परिवर्तन कर इस्लाम स्वीकार किए जाने की घटना के बाद दलित नेता गवई ने खुद संघ के कार्यक्रम में आने की इच्छा जताई थी और अपन विचार रखे थे.

संघ के धुर-विरोधी और वामपंथी विचारक कृष्णा अय्यर ने तमाम स्थानीय विरोधों के बावजूद तत्कालीन सरसंघचालक से मुलाक़ात की थी और बाद में पत्रकारों के सामने अपने विचार रखे थे.

इतिहास में संघ स्वयंसेवकों के शिविरों को महात्मा गाँधी और भीमराव आंबेडकर की ओर से भेंट देने के उदाहरण दिए जाते रहे हैं.

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की आलोचना करने वाली महिला गुरु

'आरएसएस के संगठन की इफ़्तार में होगा गाय का दूध'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए