उत्तर भारत: आंधी तूफान और बिजली गिरने से 50 की मौत

  • 29 मई 2018
आंधी तूफ़ान इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर प्रदेश के अधिकतर इलाकों में मंगलवार को गर्मी के कारण लोग परेशान रहे लेकिन राज्य के पूर्वी हिस्से में धूल भरी आंधी चली और कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी भी हुई.

एक सरकारी अधिकारी के अनुसार मंगलवार रात को आंधी-तूफ़ान और बिजली गिरने के कारण उत्तर प्रदेश में 15 लोगों की मौत हो गई और 10 लोग घायल हो गए हैं.

उत्तर प्रदेश के राहत आयुक्त संजय कुमार का कहना है, "मंगलवार रात उन्नाव जिले में छह, रायबरेली जिले में तीन और कानपुर, पीलीभीत और गोंडा जिले में दो-दो लोगों की लोगों की मौत हुई है."

लखनऊ से स्थानीय पत्रकार समीरात्मज मिश्र के मुताबिक़ राज्य में बिजली गिरने से नौ लोगों की मौत हुई है और छह घायल बताए जा रहे हैं. उन्नाव में पांच, रायबरेली में दो, कानपुर नगर में दो लोगों की मौत हुई है.

आगरा: वो आंधी जिसने लील लिया पूरा का पूरा परिवार

वो भयंकर 'आंधी' जिसकी तबाही 'सोच से भी परे' थी

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

बिहार के पटना से मनीष शांडिल्य बताते हैं कि आपदा प्रबंधन विभाग के ओएसडी अविनाश कुमार के मुताबिक बिहार में मंगलवार रात आए आंधी-तूफान और बिजली गिरने से 20 लोगों की मौत हुई है और 6 लोग घायल हुए हैं.

आंधी-तूफान के कारण हुए हादसे की चपेट में आकर गया जिले में पांच और कटिहार जिले तीन लोगों की मौत हुई है. इन दोनों जिलों में दो-दो लोग इन हादसों में घायल भी हुए हैं.

वहीं बिजली गिरने से औरंगाबाद जिले में पांच, नवादा में चार और मुंगेर में तीन लोगों की मौत हुई है. बिजली गिरने के कारण मुंगेर और गया में एक-एक लोग घायल भी हुए हैं.

वहीं झारखंड के स्थानीय पत्रकार नीरज सिन्हा के मुताबिक राज्य में बिजली गिरने से बारह की मौत हुई है जबकि 28 लोग घायल हुए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार उत्तराखंड के उत्तरकाशी में आंधी के कारण एक पेड़ के उखड़ कर घर पर गिरने से तीन बच्चों की मौत हो गई है.

एसडीएम पुरोला पूरण सिंह के अनुसार ये हादसा मोरी जिले में हुआ और इसमें एक बच्चा घायल हुआ है.

आंधी-तूफान की बातें सब 'हवा' हैं

यूपी-राजस्थान में चली मौत की आँधी, 100 से ज़्यादा जानें गईं

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

केरल पहुंचा मानसून, उत्तर भारत में राहत नहीं

मौसम विभाग का कहना है कि देश के दक्षिणी राज्य केरल में दक्षिणपश्चिमी मानसून सामान्यत: जून 1 को दस्तक देता है. लेकिन इस बार मानसून तीन दिन पहले यानी 29 मई को केरल और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों तक पहुंच गया है. हालांकि मानसून के अभी उत्तर भातर पहुंचने में वक्त है.

इस बीच पूरे उत्तर भारत में पारा लगतार चढ़ता जा रहा है. इलाहाबाद, मुरादाबाद, झांसी, वाराणसी और कानपुर में दिन का तापमान सामान्य से अधिक रहा. उरई में अधिकतम तामपान 47 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया.

मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में आने वाले कुछ दिनों 50 से 70 की गति से तेज़ हवाएं चल सकती हैं.

आसमानी बिजली को हल्के में न लें, ये है वजह

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले कुछ दिनों में उत्तर भारत के राजस्थान, मध्यप्रदेश, हरियाणा चंडीगढ़, दिल्ली और विदर्भ में दिन का तापमान कम होने की उम्मीद नहीं है.

मौसम विभाग ने ये भी चतावनी दी है कि जम्मू कश्मीर के कुछ हिस्से, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड में तेज़ हवाएं चल सकती हैं और बिजली कड़क सकती है. राजस्थान में धूल भरी आंधी चलने की भी चेतावनी जारी की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए