दक्षिण चीन में मिसाइलें तैनात कर डरा रहा है चीन : अमरीका

  • 2 जून 2018
फ़ाइल फोटो

अमरीकी रक्षा मंत्री जेम्स मेटिस ने कहा है कि चीन दक्षिण चीन सागर में मिसाइलें तैनात करके पड़ोसी देशों को धमका रहा है.

सिंगापुर में मेटिस ने कहा कि चीन के क़दम उसके व्यापक लक्ष्यों को सवालों के घेरे में खड़ा करते हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि सिंगापुर में राष्ट्रपति ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच होने वाली बातचीत में दक्षिण कोरिया में अमरीकी सैनिकों की मौजूदगी का मुद्दा शामिल नहीं होगा.

उन्होंने ये भी कहा कि अमरीका कोरियाई प्रायद्वीप को पूर्ण रूप से परमाणु मुक्त करना चाहता है.

दक्षिण कोरिया के रक्षामंत्री सोंग यंग मू ने भी शांगरी-ला डॉयलाग सिक्योरिटी समिट ने भी कहा कि दक्षिण कोरिया में अमरीकी सैनिकों की मौजूदगी उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों से अलग मुद्दा है.

इस समय 28,500 अमरीकी सैनिक दक्षिण कोरिया में तैनात हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सुरक्षा सम्मेलन में मेटिस ने कहा चीन ने दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में जहाज-रोधी मिसाइलें, सतह से आसमान में मार करने वाली मिसाइलें और इलेक्ट्रॉनिक जैमर तैनात कर रखे हैं.

द. चीन सागर में चीनी बम वर्षकों की तैनाती का मतलब क्या

क्या चीन सच में अरुणाचल तक पांव जमा चुका है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जनरल मैटिस ने कहा, "चीन भले ही इसके ठीक उलट दावे करता है लेकिन इन हथियारों की तैनाती सीधे तौर पर सैन्य इस्तेमाल से जुड़ी है जिसका उद्देश्य धमकाना और डराना है."

रचनात्मक संबंध

जनरल मैटिस ने कहा कि ट्रंप प्रशासन चीन के साथ रचनात्मक संबंध चाहता है लेकिन अगर ज़रूरत पड़ी तो पूरी ताक़त के साथ प्रतिस्पर्धा भी करेगा.

उन्होंने कहा कि अमरीका इस क्षेत्र में चीन की भूमिका को स्वीकार करता है.

अहम समुद्री व्यापार मार्ग दक्षिण चीन सागर पर छह देश दावा ठोकते हैं.

इमेज कॉपीरइट GOOGLE/DIGITAL GLOBE

चीन इस क्षेत्र में कृत्रिम द्वीप और सैन्य ठिकाने और नौसैनिक ठिकानों विकसित कर रहा है.

पिछले महीने ही चीन ने बताया था कि उसने अपने लंबी दूरी के बमवर्षक विमानों को वूडी आइलैंड पर उतारा है.

अमरीका ने इसे क्षेत्र को अस्थिर करने वाला क़दम बताया था.

वूडी द्वीप जिसे चीन यांगशिंग कहता है पर वियतनाम और ताइवान दोनों दावा ठोकते हैं.

चीन के इस विशाल विमान में क्या ख़ास है?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे