प्रेस रिव्यू: ग्रीन कार्ड की वेटिंग लिस्ट में 75% भारतीय, एक भी पाकिस्तानी नहीं

ग्रीन कार्ड

इमेज स्रोत, AFP/Getty Images

इकोनॉमिक टाइम्स की ख़बर के मुताबिक अमरीका में स्थायी निवासी का दर्जा प्राप्त करने के लिए कतार में शामिल उच्च कौशल युक्त पेशेवरों में से तीन चौथाई संख्या भारतीयों की है. अमरीका में वैध स्थायी निवास के दर्जे को ग्रीन कार्ड कहा जाता है.

एक चौंकाने वाला सच यह भी है कि इस सूची में पाकिस्तान के एक भी नागरिक का नाम शामिल नहीं है.

अमरीकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवाओं (यूएससीआईएस) द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार , मई 2018 तक रोजगार आधारित प्राथमिकता श्रेणी के तहत 3 लाख 95 हज़ार 25 विदेशी नागरिक ग्रीन कार्ड पाने की कतार में थे. इनमें से 3 लाख 6 हज़ार 601 भारतीय थे.

भारत के बाद इस सूची में चीनी लोग दूसरे नंबर पर हैं. अभी 67 हज़ार 31 चीनी नागरिक ग्रीन कार्ड पाने का इंतजार कर रहे हैं. हालांकि इसके अलावा किसी भी अन्य देश के ग्रीन कार्ड का इंतजार कर रहे लोगों की संख्या 10,000 से अधिक नहीं है.

मौजूदा कानून के तहत एक वित्त वर्ष में किसी भी देश के सात फीसदी से अधिक नागरिकों को ग्रीन कार्ड नहीं दिया जा सकता इसलिए भारतीयों को अमरीका का स्थायी निवासी बनने के लिए लंबा इंतज़ार करना पड़ रहा है.

स्थायी निवास में सात प्रतिशत कोटे का सबसे बुरा असर भारतीय-अमरीकियों पर पड़ा है. इनमें से ज्यादा भारतीय उच्च कौशल प्राप्त होते हैं और वे मुख्यत : एच -1 बी कार्य वीज़ा पर अमरीका जाते हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

सलमान से ख़फ़ा हैं पाकिस्तान से आई गीता

नई दुनिया के मुताबिक पाकिस्तान से आई मूक-बधिक गीता ने कहा है कि वो इस बात से नाराज़ हैं कि सलमान ख़ान उनसे एक बार भी मिलने नहीं आए.

गीता ने कहा, "मुझे नाराजगी है कि भारत आए मुझे ढाई साल हो गए लेकिन सलमान ख़ान मुझसे एक बार भी मिलने नहीं आए.

उन्होंने कहा कि हर थोड़े दिन में इंदौर में इतने क्रिकेटर आते हैं लेकिन कोई भी उनसे मिलने नहीं आता.

इस बीच, गुरुवार को गीता का स्वयंवर शुरू हुआ. गीता ने कई युवकों से सांकेतिक भाषा में सवाल किए.

तुम्हारा घर कहां है? कितना बड़ा है? घर में कौन-कौन है? क्या काम करते हो और कमाते कितना हो? घर में खाना कौन बनाता है? वाहन कौन सा है? कितना पढ़े-लिखे हो और कौन से माध्यम में पढ़ाई की है?

दूल्हा बनने के इच्छुक छह उम्मीदवारों में से चार मिलने पहुंचे. गीता से शादी करने के लिए इंदौर के बाणगंगा का आंशिक बधिर सचिन पाल, टीकमगढ़ से सरकारी अफसर मूक-बधिर गुरु नामदेव, गुजरात से मूक-बधिर रितेश पटेल व माता-पिता के साथ भोपाल के दिव्यांग राजकुमार स्वर्णकार पहुंचे थे.

कीनिया की महिला से गैंगरेप

इमेज स्रोत, Getty Images

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में कीनिया की रहने वाली 30 वर्षीय युवती के साथ पांच लोगों ने बुधवार की रात गैंगरेप किया. पुलिस ने बताया कि वह महिला पार्टी के बाद एमजी रोड के ब्रिस्टल चौक पर कैब का इंतजार कर रही थी. तभी सफेद स्कॉर्पियों पर आए तीन युवकों ने उसे दिल्ली के छतरपुर स्थित उसके घर पर ड्रॉप करने का प्रस्ताव दिया.

लेकिन, जैसे ही वह महिला गाड़ी के अंदर बैठी उसमें पहले से बैठे 24 से 30 आयु-वर्ग के लड़कों ने दुर्व्यवहार करना शुरू किया. उसके बाद ज़बरदस्ती उस महिला को गोल्ड कोर्स एक्सटेंशन रोड पर ले जाया गया, जहां पर पहले से ही उसके दो अन्य साथी इंतजार कर रहे थे.

पीड़ित महिला ने यह आरोप लगाया कि उसे गुरुग्राम में सुनसान जगह पर छोड़ने से पहले पांचों ने उसके साथ गैंगरेप किया. पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि दो अन्य अभी भी फरार हैं.

नौकरी से निकाला तो मैनेजर को गोली मारी

इमेज स्रोत, Getty Images

नवभारत टाइम्स के मुताबिक गुरुग्राम में नौकरी से निकाले जाने के बाद एक कर्मचारी इतना नाराज़ हुआ कि उसने अपने एचआर मैनेजर को गोली मारकर उनकी जान लेने की कोशिश की. घटना मितसूबा कंपनी के एचआर मैनेजर दिनेश कुमार शर्मा केसाथ घटी.

पुलिस के मुताबिक बिलासपुर-तावड़ू रोड पर बाइक सवार युवकों ने दिनेश शर्मा की कार पर फ़ायरिंग की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)