क़ुरान से मोहब्बत करने वाला हिंदू खानदान

  • 16 जून 2018
कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

जम्मू के अबरोल परिवार में ये सिलसिला तब से चला आ रहा है जब भारत का बंटवारा भी नहीं हुआ था.

इस ख़ानदान की तीसरी पीढ़ी के सुरेश अब इन पांडुलिपियों और कलात्मक लेखों (कैलिग्रैफ़्स) के वारिस हैं.

उनके पास क़रीब पांच हज़ार पांडुलिपियां और ढाई सौ कैलिग्रैफ़्स हैं.

सुरेश अबरोल के दादा अपने पिता के साथ आख़िरी डोगरा शासक महाराजा हरि सिंह के दरबार में जाया करते थे.

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

महाराजा हरि सिंह ने साल 1952 तक जम्मू और कश्मीर पर पूरे 27 साल राज किया था.

सुरेश अबरोल का परिवार आभूषणों के ख़ानदानी पेशे से जुड़ा हुआ है.

वे बताते हैं कि उनके दादा लाला रखी राम अबरोल हरि सिंह के जेवर की देखभाल करते थे.

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC
Image caption कुरान को महफूज़ रखने वाले परिवार के सदस्य सुरेश अब्रोल

वहीं से उन्होंने आहिस्ता-आहिस्ता पांडुलिपियां, कैलिग्रैफ़ी और तांबे और सोने के सिक्के जमा करना शुरू कर दिया था.

सुरेश अबरोल के पास क़रीब पांच हज़ार पांडुलिपियां हैं, जिनमें अरबी, संस्कृत, फ़ारसी, शारदा और संस्कृति भाषा में लिखे दस्तावेज़ शामिल हैं. इनमें आयुर्वेद के विषय पर लिखी पांडुलिपियां भी हैं.

एक क़ुरान काग़ज़ पर, एक कपड़े पर

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

श्रीनगर में हाल ही में सुरेश अबरोल का संग्रह एक प्रदर्शनी में रखा गया था. इस प्रदर्शनी में क़ुरान की दो हस्तलिखित प्रतियों ने लोगों को ख़ास तौर पर आकर्षित किया.

इनमें से एक क़ुरान काग़ज़ और दूसरी खद्दर (एक तरह को मोटा कपड़ा) की चादर पर लिखी हुई है.

सुरेश अबरोल कहते हैं, "दोनों ही क़ुरान अपने आप में मुक़म्मल (यानी पूरे 30 चैप्टर्स के साथ) हैं. काग़ज़ वाली क़ुरान एक फ़ीट चौड़ी और पांच फ़ुट लंबी है. कपड़े पर लिखा क़ुरान साढ़े चार फ़ीट लंबा और साढ़े पांच फ़ुट चौड़ा है. दोनों को देखने-पढ़ने के लिए दस या बीस एक्सिस का लेंस इस्तेमाल करना पड़ता है. ये दोनों ही हाथ से लिखे गए हैं."

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

अबरोल परिवार ने क़रीब नब्बे साल से ये अनूठी चीज़ें संजोकर रखी हुई हैं, लेकिन उन्हें ठीक-ठीक यह मालूम नहीं कि क़ुरान की प्रतियां कितनी पुरानी हैं.

सुरेश बताते हैं कि बीते 30-35 वर्षों में ही उन्हें कुछ लोगों ने इस मामले में जानकारी देनी शुरू की है.

वो ये भी कहते हैं कि उन्होंने कभी ख़ुद इस बात को जानने की कोशिश नहीं की कि ये कितने पुराने हैं.

सोने का शजर-ए-नसब

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

हाथ से लिखी गई क़ुरान की दोनों प्रतियों पर लेखक का नाम नहीं लिखा है.

अबरोल कहते हैं, "पुराने लोग मलंग (अपने आप में मगन रहने वाले) किस्म के हुआ करते थे. उन्हें इस बात में दिलचस्पी नहीं रहती थी कि उनका नाम दर्ज हो. वे लोग गुमनामी की ज़िंदगी गुजारना पसंद करते थे. शायद यही वजह है कि इन क़ुरानों पर किसी का नाम नहीं लिखा है."

प्रदर्शनी के लिए अबरोल ने क़रीब चालीस कैलिग्रैफ़्स रखे थे और साथ में शजर-ए-नसब भी रखा गया था.

शजर-ए-नसब यानी हर पैगम्बर का नाम. इस्लामी मान्यता के मुताबिक़ पहले पैगम्बर हज़रत आदम थे जिन्हें दुनिया का पहला इंसान भी कहा जाता है.

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

अबरोल ने बताया कि श्रीनगर में प्रदर्शनी के लिए रखा गया शजर-ए-नसब सोने का था.

प्रदर्शनी के लिए लाए गए सुरेश अबरोल के 40 कैलिग्रैफ़्स वेल्लम पर बने हुए थे. वेल्लम ऊँट या बकरी की खाल पर बनाया जाता है.

'हर धर्म के हस्तलेख हमारे लिए पवित्र'

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

अबरोल कहते हैं, "जिस तरह हमारे अपने धर्म के हस्तलेख हमारे लिए पवित्र हैं, उसी तरह दूसरे धर्मों के भी हस्तलेख हमारे लिए पवित्र हैं. जब हम पूजा पाठ करके आते हैं तो उसके बाद हम ख़ासकर मेरी पत्नी घर में रखे हर हस्तलेख के आगे अगरबत्ती जलाती हैं."

अपने घर के एक हिस्से में अबरोल और उनके तीन भाइयों ने एक म्यूज़ियम बना रखा है. यहीं पर सभी पांडुलिपियों और कैलिग्रैफ़्स को सुरक्षित रखा गया है.

वो ये भी बताते हैं कि सिख धर्म की गुरुबानी की साखियां भी उनके पास हैं जिनसे ये जाना जा सकता है गुरु नानक देव कहां-कहां गए, किस-किस से मिले और क्या-क्या प्रवचन दिए.

वो कहते हैं कि हमारे लिए भी अगर कुछ विरासत में आया है तो वो यही सब कुछ है.

कुरान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir/BBC

श्रीनगर में इस प्रदर्शनी को देखने के लिए लोगों की एक ख़ासी तादाद में लोग पहुंचे थे.

अबरोल कहते हैं, "मुझे यहां आने वाले हर एक शख़्स ने काफी सराहा और प्यार दिया."

श्रीनगर के टूरिस्ट रिसेप्शन सेंटर में जम्मू और कश्मीर सरकार के आर्काइव और म्यूज़ियम विभाग ने इस प्रदर्शनी को आयोजित किया था जहां क़ुरान की कुछ और नायाब हस्तलिखित प्रतियां प्रदर्शनी के लिए रखी गई थीं.

ऐसा पहली बार था जब क़ुरान की इन अनूठी प्रतियों को प्रदर्शनी के लिए घर से बाहर लाया गया था.

लाइन

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए