कौन है लड़कों के स्कूल में पढ़ने वाली ये अकेली लड़की

  • 20 जून 2018
स्कूल, शिक्षा, पढ़ाई इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC
Image caption अपने क्लास के साथियों के साथ शिकायना

किसी भी स्कूल में या तो सिर्फ़ लड़के पढ़ते हैं या लड़कियां या तो दोनों साथ-साथ.

लेकिन क्या ऐसे स्कूल के बारे में सुना है जहां 250 लड़कों के बीच में सिर्फ़ एक लड़की पढ़ती हो?

देहरादून का कर्नल ब्राउन क्रेम्ब्रिज स्कूल ऐसा ही स्कूल है.

और स्कूल में छठी क्लास में पढ़ने वाली शिकायना वो लड़की हैं.

12 साल की उम्र में शिकायना इस बात से बेहद खुश हैं. उनको इसमें कुछ भी नया नहीं लगता.

बीबीसी से बातचीत में शिकायना ने कहा, "थोड़ा अलग अनुभव ज़रूर है. पर लड़कियां सब कुछ कर सकती हैं तो फिर मैं ब्वॉएज़ स्कूल में क्यों नहीं पढ़ सकती."

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

कैसा था स्कूल का पहला दिन?

इस सवाल के जवाब में शिकायना ने बेहद मज़ेदार क़िस्सा सुनाया.

"जब मैं पहले दिन क्लास में जाकर बैठी, क्लास में घुसते ही टीचर ने अपने पुराने अंदाज़ में कहा - गुड मॉर्निंग ब्वॉएज़. लेकिन जैसे ही उनकी नज़र मुझ पर पड़ी, तुरंत उन्होंने ख़ुद को सही किया और कहा - अब मुझे गुड मार्निंग स्टूडेंट्स बोलने की आदत डालनी पड़ेगी." ये क़िस्सा सुनाते ही शिकायना ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगीं.

उसकी बिंदास हंसी इस बात का सबूत थी कि स्कूल में शिकायना को कोई दिक्क़त नहीं है.

लेकिन 250 लड़कों के बीच अकेले पढ़ने का फ़ैसला शिकायना ने अपनी मर्ज़ी से नहीं लिया. इसके लिए कुछ तो हालात ज़िम्मेदार थे और कुछ उसकी क़िस्मत.

शिकायना गाना बहुत अच्छा गाती हैं. टीवी पर कई शो में हिस्सा भी ले चुकी हैं.

क्या दिल्ली के सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूल को टक्कर दे रहे हैं?

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

&TV पर आने वाले शो वॉयस ऑफ़ इंडिया में शिकायना ने पिछले सीज़न में हिस्सा लिया था और वो फ़ाइनल राउंड तक भी पहुंची थीं.

इसके लिए सितंबर 2017 से फ़रवरी 2018 तक उसे अपने पुराने स्कूल से छुट्टी लेनी पड़ी थी.

जब रिएलिटी शो के फ़ाइनल में हिस्सा लेने के बाद शिकायना वापस लौटीं तो स्कूल ने ज्यादा छुट्टियां लेने की वजह से उन्हें अगली क्लास में भेजने से मना कर दिया.

इसके बाद शिकायना के पिता के पास बेटी को स्कूल से निकालने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं था.

शिकायना के पिता देहरादून के कर्नल ब्राउंन केम्ब्रिज स्कूल में संगीत के टीचर हैं.

उन्होंने शिकायना के लिए दो-तीन दूसरे स्कूलों में फ़ॉर्म भरा, पर शिकायना को कहीं दाख़िला नहीं मिला.

इसके बाद उन्होंने अपने ही स्कूल में शिकायना को दाख़िला देने के लिए बात की.

शिकायना के पिता विनोद मुखिया ने बीबीसी से बातचीत में बताया कि ऐसा नहीं था कि स्कूल प्रशासन ने एक बार में ही उनकी बात मान ली.

उनके मुताबिक़, "स्कूल ने शिकायना के बारे में अपना फ़ैसला सुनाने में 15-20 दिन का वक़्त लिया. केवल शिकायना का एडमिशन ही एकमात्र समस्या नहीं थी. स्कूल को इस एडमिशन से उठने वाले कई दूसरे सवालों पर भी विचार करना था."

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

लेकिन वो दूसरी समस्याएं क्या थीं?

शिकायना के पिता विनोद बताते हैं, "आख़िर स्कूल में शिकायना की ड्रेस क्या होगी? टॉयलेट रूम कहां होगा? अगर दूसरे टीचर भी ऐसी ही मांग करना चाहेंगे तो क्या होगा - स्कूल प्रशासन को इन मसलों का हल ढूंढना था."

20 दिन बाद स्कूल प्रशासन ने अपना फ़ैसला विनोद को सुनाया जो शिकायना के पक्ष में था.

शिकायना अपने पुराने स्कूल में ट्यूनिक पहनती थीं. लेकिन नए स्कूल में वो लड़कों जैसा ही यूनिफ़ॉर्म पहन कर जा रही हैं.

पर यूनिफ़ॉर्म तय करने की प्रक्रिया भी कम मज़ेदार नहीं थी.

स्कूल प्रशासन ने शिकायना के माता-पिता से ही पूछा कि शिकायना क्या पहनकर स्कूल आना पसंद करेगी. उसके लिए नए स्टाइल का कुर्ता डिज़ाइन करने पर भी बात चली. शिकायना से भी इस बारे में पूछा गया. फिर अंत में इस नतीजे पर पहुंचा गया कि लड़के स्कूल में जो ड्रेस पहनकर आते हैं वही ड्रेस शिकायना भी पहनेगी.

शिकायना को भी इस पर कोई आपत्ति नहीं थी.

जब यौन शिक्षा से जुड़ा एक केस हार गए थे आंबेडकर

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

शिकायना के क्लास में 17 लड़के हैं और उनके बीच पैंट शर्ट और बेल्ट लगाकर वो भी उनमें से एक ही दिखती हैं. फ़र्क़ बस उनके लंबे बालों का है.

क्या शिकायना के आने से उनके साथी लड़कों के जीवन में भी कुछ बदला है?

इस सवाल को बीच में ही काटते हुए वो एक क़िस्सा सुनाने लगती हैं.

"अब क्लास में कोई लड़का शैतानी करता है तो उसके लिए हर टीचर लड़कों को यही कहती हैं - क्लास में एक लड़की है तुम कुछ तो शर्म करो. इसलिए लड़कों को लगने लगा है कि मेरी वजह से उनको डांट ज़्यादा पड़ती है".

शिकायना के एडमिशन के बाद एक दूसरी समस्या गर्ल्स टॉयलेट की भी थी. लेकिन स्कूल प्रशासन ने नया बंदोबस्त करने के बजाए शिकायना को टीचर्स टॉयलेट इस्तेमाल करने की इजाज़त दे दी.

पर एक स्कूल में केवल ड्रेस और टॉयलेट ही नहीं - बच्चों को कई और चीज़ों की भी ज़रूरत होती है. जैसे खेलने और दिल की बात करने के लिए साथी की.

लड़कों और लड़कियों के लिए खेल भी अमूमन अलग होते हैं और दोस्त भी. साथ ही बात करने के विषय भी.

वो लड़का जो बिना हाथों के करता है पेंटिंग

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

ऐसे में शिकायना क्या करती हैं...?

बीबीसी को शिकायना ने बताया कि उसकी रूचि लड़कियों की तरह नहीं है. भारत में आमतौर पर लोग कहने लगते हैं कि 12 साल की लड़की है तो गुड़ियों से खेलेगी, थोड़ा फ़ैशन करने लगेगी, कुछ फ़िल्मों और सीरियल्स की बात करना शुरू कर देगी. मगर शिकायना को ये सब बिल्कुल पसंद नहीं है.

नए स्कूल में शिकायना ने लॉन टेनिस खेलना शुरू किया है. लेकिन यहां भी उनकी पहली पसंद गाना ही है.

स्कूल के गाने की टीम में भी वो इकलौती लड़की हैं और उन्हें इस बात पर गर्व है.

लेकिन क्या इतना आसान है 250 लड़कों के बीच अकेली लड़की का पढ़ना?

शिकायना के पिता विनोद के मुताबिक़ कुछ भी इतना आसान नहीं था.

विनोद हमेशा से मानते थे कि, "लड़के बहुत बदमाश होते हैं. वो बताते हैं मैंने हमेशा भगवान से लड़की मांगी थी. शिकायना जब पैदा हुई तो हमें काफ़ी खुशी हुई. लेकिन स्कूल में दाख़िले के पहले और बाद में भी हमने उसकी काफ़ी काउंसिलिंग की. हमने एडमिशन से पहले शिकायना का मन भी टटोला. हमने पूछा कि ऑल ब्वॉएज़ में पढ़ने जाना चाहोगी? उसका जवाब था - सब पढ़ेंगे तो मैं क्यों नहीं पढ़ूंगी."

इमेज कॉपीरइट Vinod/BBC

कितनी ख़ुश हैं शिकायना

ये तो थी दाख़िले के पहले की उसकी राय. लेकिन एडमिशन के बाद क्या उनके मूड स्विंग भी हुए?

इस पर विनोद कहते हैं, "पहले कुछ दिन तो स्कूल से आने के बाद हम रोज़ उससे स्कूल कैसा रहा इस बारे में पूछते थे. लेकिन हर बार उसकी चेहरे की ख़ुशी बताती थी कि हमारा फ़ैसला सही है. वो किसी दबाव में नहीं है."

शिकायना को स्कूल में पढ़ते हुए दो महीने से ज़्यादा का वक़्त बीत चुका है. क्या कभी माता-पिता या फिर शिकायना के ज़हन में इस दौरान स्कूल बदलने का ख़्याल आया. इस पर शिकायना के पिता कहते हैं, "मैं हर फ़ैसले में इसके साथ हूं. आप ख़ुद ही उससे पूछ लीजिए."

लेकिन सवाल पूछने से पहले शिकायना कहती हैं, "स्कूल में पढ़ने जाते हैं, यहां से अच्छी पढ़ाई कहीं नहीं हो सकती."

शिकायना के दाख़िले पर स्कूल के हेडमास्टर एस.के. त्यागी से भी हमने बात की.

क्लास में अकेली लड़की को पढ़ाने में क्या कभी कोई दिक्क़त आई. इस पर उनका कहना है, "स्कूल रेज़िडेंशियल है. लेकिन शिकायना अपने माता-पिता के साथ रहती है. इसलिए किसी तरह कि दिक्क़त हमें नहीं आई."

अच्छा ये है कि शिकायना के आने के बाद एक और टीचर ने अपनी बच्ची के लिए ऐसी ही गुज़ारिश की है. यानी शिकायना की ही तरह स्कूल में अब एक और लड़की की खिलखिलाहट गूँज सकती है, पर बाहरी लड़कियों के लिए स्कूल ने ऐसा कुछ नहीं सोचा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे