BBC IMPACT: बहराइच के दो साल पुराने बलात्कार मामले में अभियुक्त गिरफ़्तार

  • 21 जून 2018
बहराइच बलात्कार पीड़िता

उत्तर प्रदेश के बहराइच ज़िले के दो साल पुराने एक बलात्कार मामले में पुलिस ने अभियुक्त को गिरफ़्तार कर लिया है.

बीबीसी हिंदी ने 19 जून को इस ज़िले के एक गांव की बलात्कार पीड़िता पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जो पिछले दो साल से मदद का इंतज़ार कर रही थी.

इस लड़की के मुताबिक़, उसके गांव के ही एक 55 साल के व्यक्ति ने उसके साथ कई बार बलात्कार किया था जिसके बाद एक बच्चा पैदा हुआ लेकिन अभियुक्त के खिलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की गई.

पूरी रिपोर्ट पढ़ें: पहले बलात्कार का शिकार हुई और फिर

बीबीसी की रिपोर्ट प्रकाशित होने के एक दिन बाद बुधवार को बहराइच पुलिस ने अभियुक्त को गिरफ़्तार किया और ट्वीट कर इसकी जानकारी भी दी.

क्या था मामला

जून 2016 में बलात्कार की शिकार लड़की के पिता ने रिसिया पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी.

लेकिन पुलिस ने इस मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की. इस मामले में 2 साल तक कोई चार्जशीट भी दाखिल नहीं की गई.

बीबीसी संवाददाता सर्वप्रिया सांगवान ने बहराइच जाकर पड़ताल की और पाया कि पुलिस के साथ-साथ बाकी सरकारी संस्थाओं का रवैया भी उदासीन ही था.

पुलिस का कहना था कि वह बच्चे के डीएनए के रिपोर्ट का इंतज़ार कर रही है और उसके बाद ही कोई कार्रवाई हो सकेगी.

इस बीच पीड़िता को किसी तरह की आर्थिक और क़ानूनी मदद तक मुहैया नहीं करवाई गई जो इसका हक़ था.

अनपढ़ और ग़रीब पीड़िता ने जिन 11 सरकारी संस्थाओं में मदद की गुहार लगाई, वहां से भी कभी कोई मदद नहीं पहुंची थी.

Image caption पीड़िता की दो साल पुरानी तस्वीर

रिपोर्ट को मिला सोशल मीडिया पर समर्थन

रिपोर्ट के प्रकाशित होते ही कई लोगों ने इसे ट्विटर और फ़ेसबुक पर शेयर करना शुरू किया.

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने राष्ट्रीय महिला आयोग, उत्तर प्रदेश पुलिस और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को टैग करके यह रिपोर्ट शेयर की.

गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी और जेएनयू के छात्र नेता उमर ख़ालिद ने भी इस रिपोर्ट को ट्विटर पर साझा किया.

पत्रकार रवीश कुमार और कार्टूनिस्ट मंजूल ने भी फेसबुक पर इस रिपोर्ट पर बात की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे