बिहार: जज ने बेटी को क़ैद किया, अदालत ने आज़ाद

  • 26 जून 2018
प्यार, माता-पिता. परिवार इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक जज ने अपनी बेटी को घर में बंद कर रखा था. सिर्फ इसलिए क्योंकि वो किसी से प्यार करती थी. अपनी बेटी के प्रेम प्रसंग से नाराज़ इस डिस्ट्रिक्ट जज ने उसे नज़रबंद कर रखा था, लेकिन पटना हाईकोर्ट ने लड़की के पक्ष में फ़ैसला देते हुए उसे आज़ाद कर दिया.

हाईकोर्ट ने इस मामले में फ़ैसला सुनाते हुए पीड़िता को माता-पिता से अलग 15 दिन के लिए और पटना की चाणक्य लॉ यूनिवर्सिटी में रहने के लिए एक कमरे की व्यवस्था करने का इंतज़ाम करने का आदेश दिया है.

इसके साथ ही अदालत ने उसके लिए एक महिला कॉन्सटेबल की 24 घंटे सुरक्षा देने और उसके प्रेमी से मिलने की इजाज़त भी दी है.

डिस्ट्रिक्ट जज के वकील संदीप शाही ने बीबीसी को बताया, "अदालत ने पीड़िता से पूछा कि क्या वो अपने माता-पिता के साथ रहना चाहती है. इसका जवाब उसने ना में दिया और कहा कि वो अपने प्रेमी से शादी करना चाहती है. इसके बाद कोर्ट ने उसके अलग रहने और सुरक्षा की व्यवस्था किए जाने का आदेश दिया."

इमेज कॉपीरइट PATNA HIGH COURT/FACEBOOK

लॉ ग्रैजुएट पीड़िता दिल्ली के एक युवक से प्यार करती है. इस बात की जानकारी उसके घरवालों को हुई तो उन्होंने उसे घर में बंद कर दिया. बाद में ये ख़बर एक लीगल पोर्टल में छपी जिस पर पटना हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया.

चीफ़ जस्टिस राजेन्द्र मेनन ने को पीड़िता को 26 जून की दोपहर 2 बजकर 15 मिनट पर जज चेम्बर में पेश करने का आदेश दिया. कोर्ट के आदेश के मुताबिक पटना पुलिस की स्पेशल टीम मंगलवार को पीड़िता को कोर्ट लेकर पहुंची.

लगभग एक घंटे तक सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद अदालत ने पीड़िता को परिवार से अलग रहने का फ़ैसला सुनाया.

पीड़िता के प्रेमी अदालत के इस फ़ैसले से काफी ख़ुश हैं. उन्होंने बीबीसी से कहा, "आख़िरकार मैं बहुत ख़ुश हूं और राहत महसूस कर रहा हूं. इस फ़ैसले के लिए मैं अदालत और मीडिया का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं."

प्रेमी के वकील राजीव कुमार श्रीवास्तव ने कहा, "पीड़िता और अपने मुवक्किल को राहत दिलवाने के लिए हमने बिहार के पुलिस अधिकारियों का दरवाजा खटखटाया लेकिन हमें हाईकोर्ट से राहत मिली."

इस मामले में कोर्ट ने मीडिया को पीड़िता और उसके घरवालों का नाम न छापने का आदेश दिया है.

हालांकि इस मामले में पहले छपी स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता के साथ घर में मारपीट होती थी, उसे खाना नहीं दिया जाता था और उसका मोबाइल छीन लिया जाता था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पीड़िता के प्रेमी ने भी इस बात को माना की पीड़िता के घरवाले उसके साथ ग़लत व्यवहार करते थे लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि वो उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं चाहते.

वकील ने कहा, "न्यायिक सेवा से जुड़े लोग बहुत सम्मानित होते हैं. ऐसे में न तो हमारी तरफ से और न पीड़िता की तरफ़ से उनके ख़िलाफ़ किसी कार्रवाई की मांग की गई है."

इस मामले की अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी.

ये भी पढ़ें: 'महिलाओं के लिए भारत सबसे ख़तरनाक देश'

एसी 24 डिग्री पर सेट करने से क्या हो जाएगा?

BBC पड़ताल: बिहार बोर्ड से क्यों निकलते हैं फ़र्ज़ी टॉपर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए