प्रेस रिव्यू: त्रिपुरा में अफ़वाहें रोकने वाले की पीट-पीट कर हत्या

  • 30 जून 2018
फ़ाइल फोटो इमेज कॉपीरइट Getty Images

'द टाइम्स ऑफ़ इंडिया' की एक रिपोर्ट के मुताबिक त्रिपुरा में अफ़वाहें रोकने के लिए सरकार की ओर से नियुक्त एक कर्मचारी की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी.

33 वर्षीय सुकांता चक्रवर्ती गांव-गांव घूमकर लोगों को बच्चा चोरी की अफ़वाहों के बारे में जागरूक कर रहे थे.

रिपोर्ट के मुताबिक भी़ड़ ने उन्हें बच्चा चोर समझ लिया और पीट-पीट कर मार दिया. दक्षिण त्रिपुरा ज़िले के कालाछेरा बाज़ार में हुई इस हत्या से कुछ घंटे पहले ही पश्चिम त्रिपुरा ज़िले के मोहनपुर में भीड़ ने कपड़ा बेचने वाले एक व्यापारी को बच्चा चोर समझकर पीट-पीट कर मार दिया था.

रिपोर्ट के मुताबिक सुकांता चक्रवर्ती के साथ मौजूद दो अन्य लोगों पर भी हमला किया गया. जिस वाहन में वो लोग थे उसे भी निशाना बनाया गया. गुरुवार शाम को हुई इस घटना की जांच कर रही पुलिस ने शुक्रवार को चार लोगों को हिरासत में लिया. त्रिपुरा के इस क्षेत्र में में कथित मानव अंग चोरों के हाथों एक 11 साल के बच्चे की हत्या की अफ़वाह इसी सप्ताह फैली है. इसके बाद से ही कई गांवों में तनाव है.

इमेज कॉपीरइट SOCIAL MEDIA VIRAL POST
Image caption हाल ही में बेगलुरु में एक व्यक्ति की बच्चा चोरी के आरोप में पीट पीट कर हत्या कर दी गई.

'हिंदुस्तान टाइम्स' की एक रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में 20 मई के बाद से बच्चा चोरी की अफ़वाहों के चलते कम से कम चौदह लोगों की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या की है. भीड़ के हाथों पीट-पीट कर मारे जाने की घटनाएं पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा, गुजरात, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और ओडिशा में हुई है.

सोशल मीडिया, ख़ासकर व्हाट्सएप पर कई फ़र्ज़ी वीडियो शेयर किए जा रहे हैं जिसमें बाहरी लोगों के बच्चा चोर होने का दावा करते हुए लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा जा रहा है.

ऐसे ही एक वीडियो की पड़ताल में बीबीसी ने पाया था कि यह वीडियो पाकिस्तान में शूट किया गया था. ये वीडियो बच्चा चोरी के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए शूट किया गया था.

बच्चा चोर गिरोह के सात लोग गिरफ़्तार

असम में दो युवकों की पीट-पीटकर हत्या

मुख्यमंत्री पर सड़क के पैसों से कार ख़रीदने का आरोप

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/SHIVRAJ SINGH CHOUHAN/BBC

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर सड़क निर्माण के पैसों से महंगी कार ख़रीदने का आरोप लगाया है.

'हिंदुस्तान टाइम्स' की एक रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस ने मुख्यमंत्री पर किसान सड़क निधि से तीस लाख रुपए क़ीमत की लग्ज़री कार ख़रीदने का आरोप लगाया है.

किसान सड़क निधि मध्य प्रदेश राज्य कृषि मार्केटिंग बोर्ड यानी मंडी बोर्ड का फंड है जिससे ग्रामीण इलाक़ों में सड़कों और पुलों का निर्माण किया जाता है. विपक्ष का आरोप है कि इसी फंड के पैसों से मुख्यमंत्री के लिए साल 2017 में एक लग्ज़री कार ख़रीदी गई.

बोर्ड के चैयरमैन ने कार ख़रीदे जाने की पुष्टि की है, हालांकि उन्होंने ये नहीं बताया कि इसके लिए पैसा किस निधि से लिया गया था. सरकार के प्रवक्ता ने इस ख़बर पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

मध्य प्रदेश में मस्त रह पाएंगे लोग

पूर्व सैनिक करेंगे गंगा की रक्षा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय सेना गंगा की सुरक्षा के लिए 532 पूर्व सैनिकों की एक बटालियन तैयार कर रही है जिसे इलाहाबाद, वाराणसी और कानपुर में तैनात किया जाएगा.

'द टाइम्स ऑफ़ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक 200 पूर्व सैनिक इस काम के लिए इलाहाबाद में प्रशिक्षण ले रहे हैं.

स्वच्छ गंगा राष्ट्रीय मिशन के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र ने कहा कि ये लोगों को गंगा को साफ़ करने के मिशन में लगाने के क्रम में उठाया गया क़दम है. पूर्व सैनिक गंगा में प्रदूषण करने वालों को रोकने के अलावा इसके किनारे पर वृक्षारोपण का काम भी करेंगे.

नज़रिया: ऐसे बचाया जा सकेगा गंगा को?

मुसलमानों को नमाज़ पढ़ने से रोका

गुरुग्राम में जुमे की नमाज़ अदा करने को लेकर फिर से विवाद हो गया है. 'इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के मुताबिक मुसलमानों का आरोप है कि उन्हें किराये पर ली गई खुली जगह में नमाज़ पढ़ने से रोका गया है.

मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधियों का कहना है कि शहर के फेज़ थ्री इलाक़े में खाली पड़ी एक जगह उन्होंने किराये पर ली थी जिस पर उन्हें नमाज़ पढ़ने से रोका गया.

डीएलएफ़ फेज़ थ्री थाने की पुलिस का कहना है कि उसे इस बारे में शिकायत मिली है और इसकी जांच की जा रही है.

पुलिस के मुताबिक जिस जगह नमाज़ पढ़ी जा रही थी वो इस काम के लिए आवंटित नहीं है. वहीं, मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों का कहना है कि सेक्टर 34 में जुमे की नमाज़ पढ़ रहे लोगों से पुलिस ने जाने के लिए कहा. हालांकि पुलिस का कहना है कि ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया है. गुरुग्राम में खुले में नमाज़ पढ़े जाने का स्थानीय हिंदू समुदाय ने विरोध किया है जिसके बाद इस मुद्दे को लेकर शहर में तनाव भी हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे