झारखंड का वो रेलवे स्टेशन जिसका कोई नाम नहीं

  • 5 जुलाई 2018
झारखंड, भारतीय रेलवे इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash
Image caption इस रेलवे स्टेशन पर स्टेशन का नाम नहीं लिखा गया है.

रांची से टोरी जाने वाली पैसेंजर ट्रेन लोहरदगा के बाद ऐसे ही एक 'अनाम' रेलवे स्टेशन पर रुकती है जहां नाम को लेकर झगड़ा चल रहा है.

यहां सिर्फ़ एक मिनट के इस ठहराव के दौरान दर्जनों लोग उतरते हैं. वे कमले, बड़कीचांपी, छोटकीचांपी, सुकुमार आदि गांवों के रहने वाले हैं.

इन लोगों ने लोहरदगा और रांची में ट्रेन पर सवार होते वक्त बड़कीचांपी का टिकट लिया था. मतलब, इस 'अनाम' स्टेशन का नाम बड़कीचांपी है.

फिर भी दूसरी जगहों की तरह इस प्लेटफ़ॉर्म पर, यात्री शेड या किसी भी सार्वजनिक जगह पर स्टेशन का नाम नहीं लिखा गया है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

ऐसा क्यों है

मेरे साथ इस स्टेशन पर उतरीं कमले गांव की सुमन उरांव ने बताया कि इसके पीछे दो गांवों का विवाद है.

इस कारण साल 2011 में इसकी शुरुआत के बावजूद अभी तक स्टेशन का नाम नहीं लिखा जा सका.

सुमन उरांव कहती हैं, "ये स्टेशन मेरे गांव कमले की ज़मीन पर बना हुआ है. इस कारण गांव के लोगों की मांग है कि इसका नाम 'कमले' होना चाहिए. हमने इसके निर्माण के लिए जमीन दी है. हमारे लोगों ने मज़दूरी भी की है. तो फिर रेलवे ने किस आधार पर इसका नाम 'बड़कीचांपी' तय कर दिया. इस कारण हम लोगों ने प्लेटफ़ॉर्म पर रेलवे स्टेशन का नाम नहीं लिखने दिया. "

वक़्त से 25 सेकेंड पहले खुली ट्रेन और रेलवे ने मांगी माफी

‘राम मंदिर जैसा होगा अयोध्या रेलवे स्टेशन’

ये है प्यार से भरी हरी-हरी सुरंग

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

कब से है विवाद

स्थानीय पत्रकार प्रसेनजीत बताते हैं, "ये विवाद सात साल पुराना है."

"लोहरदगा रेलवे स्टेशन से टोरी की तरफ 14 किलोमीटर के बाद बने इस स्टेशन पर साल 2011 में 12 नवंबर को पहली बार ट्रेन का परिचालन हुआ था."

"तब यहां स्टेशन का नाम लिखने की कोशिश की गई थी. लेकिन, ग्रामीणों के विरोध के कारण ये संभव नहीं हो सका. इसके बाद रेलवे ने कई बार यह कोशिश की लेकिन ग्रामीण जुट गए और नाम नहीं लिखने दिया."

"पिछले साल भी रेलवे के अधिकारियों ने यहां स्टेशन का नाम लिखने की कोशिश की. तब पेंटर ने बड़की लिख भी दिया था. अभी चांपी लिखा जाना बाकी था कि यह खबर कमले गांव में फैली और सैकड़ों ग्रामीण वहां जमा हो गए. फिर लिखे हुए शब्द पर कालिख पोत दी और उसे मिटा दिया गया. इसके बाद से रेलवे ने विवाद के कारण फिर कभी इसका प्रयास नहीं किया."

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

बना प्रतिष्ठा का सवाल

बड़कीचांपी के स्टेशन अधीक्षक प्रीतम कोय ने बताया कि कमले और बड़कीचांपी गांवों के लोगों ने इसे अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया है.

"इस कारण हमें नाम लिखवाने में परेशानी हो रही है. दरअसल, स्टेशनों के नामकरण के वक्त स्थानीय लोगों से रायशुमारी की परंपरा है."

"तब किसी ने इसपर आपत्ति जाहिर नहीं की होगी. तभी इसका नाम बड़कीचांपी प्रस्तावित किया गया होगा."

"अब हमारे रिकॉर्ड में बड़कीचांपी नाम होने के बावजूद हमलोग इसका डिस्प्ले नहीं कर पा रहे लेकिन टिकटों की बिक्री और दूसरे विभागीय दस्तावेज़ों में रेलवे इसका उल्लेख बड़कीचांपी ही करता है."

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

सार्थक पहल की ज़रूरत

बड़कीचांपी दरअसल लोहरदगा जिले के कुडू प्रखंड की एक पंचायत है.

कमले गांव भी इसी पंचायत में है लेकिन रेलवे स्टेशन से बड़कीचांपी गांव की दूरी करीब 2 किलोमीटर है.

दर्जनभर गांवों के लोग इसी स्टेशन से ट्रेन पर सवार होते हैं.

बड़कीचांपी की मुखिया मुनिया देवी कहती हैं, "इस विवाद के समाधान के लिए सार्थक पहल की जरुरत है. रेलवे को यह पहल करनी होगी. क्योंकि, नाम का लिखा जाना या नहीं लिखा जाना तो बहुच छोटी समस्या है पर लोगों में टकराव बड़ सकता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)