प्रेस रिव्यू: वो तीन वीडियो जिनके बाद हुई मॉब लिंचिंग

  • 12 जुलाई 2018
लींचिंग इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

महाराष्ट्र के धुले में मॉब लिंचिंग की वजह बने तीनों वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई थी. ये जानकारी पुलिस ने दी है.

ये खबर इंडियन एक्सप्रेस अखबार के पहले पन्ने पर है.

एक वीडियो में मोटरसाइकिल पर जाते दो आदमी बच्चे को उठा लेते हैं, दूसरे में एक महिला सड़क पर चलते-चलते बुर्का पहन लेती है और एक बच्चा कुछ पत्रकारों को बता रहा है कि उसका अपहरण कर लिया गया था.

इन वीडियो से फैली अफवाह के चलते महाराष्ट्र में बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने 25 दिनों में नौ लोगों को मार डाला और 10 लोग घायल हुए.

वहीं 'द हिंदू' अखबार में मॉब लिंचिंग से जुड़े एक ताज़ा मामला की जानकारी दी गई है.

असम में एक मज़दूर की कुछ लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी.

एक शादी में शामिल लोग बम-पटाखे फोड़ रहे थे, तभी चिंगारी उस मज़दूर को जा लगी.

इसके बाद मज़दूर ने शादी में शामिल उन लोगों से पटाखे नहीं फोड़ने को कहा. इससे नाराज़ लोगों ने उसे पीट-पीट कर मार डाला.

मामले में छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. असम में बीते एक महीने में लिंचिंग की ये दूसरी घटना है.

मॉब लिंचिंग: जान से मार देने वाली ये भीड़ कहां से आती है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रमोशन में आरक्षण पर सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वो सात जजों की बेंच का गठन करेगी जो अनुसूचित जाति और जनजाति के कर्मचारियों के लिए पदोन्नति में आरक्षण से संबंधित 2006 के उसके आदेश की समीक्षा करेगी.

ये खबर हिंदुस्तान टाइम्स के पहले पन्ने पर है.

2006 के अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी नौकरियों की पदोन्नतियों में अनुसूचित जाति और जनजातियों के लोगों को आरक्षण दिए जाने को तो सही ठहराया था, लेकिन कोर्ट ने ये भी स्पष्ट किया था कि इन जातियों की 'क्रीमी लेयर' को इस तरह का कोई आरक्षण नहीं दिया जाना चाहिए.

इस मुद्दे पर केंद्र ने कोर्ट से कहा कि अदालतों के अलग-अलग फैसलों की वजह से भ्रम की स्थिति बन गई है, जिसकी वजह से हज़ारों लोगों की पदोन्नति रुकी हुई है.

कोर्ट ने आदेश के ख़िलाफ़ अंतरिम आदेश पारित करने से इनकार कर दिया है और कहा है कि 7 जजों की पीठ अब इस फैसले पर पुनर्विचार करेगी.

योगी के निशाने पर मुस्लिम विश्वविद्यालय ही क्यों

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ्रांस को पछाड़ भारत छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था

फ्रांस को पीछे छोड़ भारत दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है.

ये खबर दैनिक भास्कर समेत कई अखबारों के पहले पन्ने पर है.

वर्ल्ड बैंक के 2017 के एक विश्लेषण में ये जानकारी सामने आई है.

भारत की जीडीपी पिछले साल के अंत में 178.60 लाख करोड़ रुपए थी. फ्रांस की जीडीपी 177.56 लाख करोड़ रुपए की है.

वर्ल्ड बैंक के मुताबिक नोटबंदी और जीएसटी से भारत की आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती आई थी.

लेकिन पिछले साल मैन्युफैक्चरिंग और उपभोक्ता खर्च में आई तेज़ी से अर्थव्यवस्था को गति मिली.

खस्ताहाल सरकारी बैंक, आप पर क्या होगा असर?

'मोदी सरकार मेरे परिवार को निशाना बना रही है'

स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव के रिश्तेदार के अस्पतालों पर छापेमारी की गई है.

जनसत्ता की इस ख़बर के मुताबिक आयकर विभाग की छापेमारी में 22 लाख रुपए नगद मिले हैं. इससे पहले सूचना मिली थी कि अस्पताल समूह ने गहने खरीदने के लिए नीरव मोदी के फर्म को नगद भुगतान किया था.

इस पर योगेंद्र यादव ने आरोप लगाया है कि उन्हें डराने और चुप कराने के लिए मोदी सरकार उनके परिवार को निशाना बना रही है.

योगेंद्र यादव ने कहा कि उन्होंने किसानों को फसल की उचित कीमत दिलाने और हरियाणा के रेवाड़ी में शराब की दुकानों के खिलाफ आंदोलन छेड़ा हुआ है.

उनका कहना है कि इन वजहों के चलते उनके परिवार को निशाने पर लिया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

नेट निरपेक्षता को मिली मंज़ूरी

इंटरनेट के इस्तेमाल में भेदभाव न करने (नेट न्यूट्रेलिटी) संबंधी ट्राई की सिफारिश को दूरसंचार आयोग ने मंज़ूरी दे दी है.

इकोनॉमिक टाइम्स की इस ख़बर के मुताबिक केंद्र के इस आदेश में किसी प्रकार के बदलाव या उल्लंघन पर भारी जुर्माने की चेतावनी भी दी गई है.

ये सिफारिशें सर्विस प्रोवाइडर को इंटरनेट पर किसी सामग्री और सेवा के साथ किसी प्रकार के भेदभाव पर रोक लगाती है.

हालांकि, रिमोट सर्जरी और स्वचलित कार जैसी सेवाओं को नेट न्यूट्रेलिटी के दायरे से बाहर रखा जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए